नवरात्रि में सरस्वती पूजा से शांत और अनुकूल होता है कुंडली का यह सबसे खतरनाक ग्रह

राहु छाया ग्रह है और देवी दुर्गा को छायारूपेण कहा गया है। दुर्गा पूजा से राहु के सभी अनिष्ट समाप्त होते हैं। राहु के लिए इष्ट देवी मां  सरस्वती को माना गया है। नवरात्रि में द्वितीय नवरात्रि के दिन मां ब्रह्मचारिणी की पूजा से राहु के अशुभ फल दूर होते हैं। उसी तरह सप्तमी की तिथि को सरस्वती का आह्वान किया जाता है। लाल किताब में दुर्गा सप्तशती के प्रथम अध्याय का पाठ राहु का अचूक उपाय बताया गया है। मां को अति प्रिय नारियल भी राहु का ही प्रतीक है।
 
नवरात्रि में कैसे करें राहु को अनुकूल
 
1. प्रथम नवरात्रि के दिन कलश स्थापना नारियल के साथ जरूर करें।
 
2. नरवाण मंत्र 'ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे' का शाम को प्रतिदिन 108 बार जप करें। दुर्गा चालीसा का पाठ करें।
 
3. प्रतिदिन मां सरस्वती को नीले पुष्प अर्पित करें।
 
4. राहु बीज मंत्र - ॐ भ्रां भ्रीं भ्रौं स: राहवे नम: का जप करें। यह जप काले हकीक की माला पर दक्षिण-पश्चिम दिशा की तरफ मुख कर करें।
 
5. दुर्गाष्टमी के दिन शाम को दुर्गा चालीसा, दुर्गा कवच, अर्गलास्तोत्र, कीलक स्तोत्र आदि सहित दुर्गा सप्तशती का विधिपूर्वक संपूर्ण पाठ करें। पाठ खत्म होने के पश्चात हवन करें। नीले पुष्प, सुपारी, पान, कमल गट्टा, जायफल, लौंग, छोटी इलायची, जौं, काले तिल, काली मिर्च, गूगल, शहद, घी की आहुति दें। हवन में 'ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे' मंत्र की 108 आहुति, 'ॐ छौं छीं छौं स: राहवे स्वाहा' मंत्र की सूखी हुई दूब से 108 आहुति जरूर दें। अंत में नारियल की पूर्ण आहुति दें। अगर आपको विधि-विधान का पता नहीं तो किसी योग्य पंडित से कराएं।

ALSO READ: धरती पर आज भी हैं माता सरस्वती, यहां निवास हैं उनका, नवरात्रि में देंगी बुद्धि और वाणी का वरदान

ALSO READ: शत्रुओं का नाश करता है पवित्र नील सरस्वती स्तोत्र

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख 'सबका मालिक एक' का संदेश देने वाले शिर्डी के साईं बाबा हैं श्रद्धा और विश्वास की प्रतिमूर्ति...