COVID-19 Lock Down पर कविता : चलो घर बैठ रिश्ते निभाते हैं

चलो घर बैठ रिश्ते निभाते हैं, 
 
ना तुम जल्दी ऑफ़िस जाना,
ना तुम देर से घर आना, 
घर से ही काम कर काम चलाना !
 
सुबह मैं देर तक सोती रहूं, 
चाय बना तुम करना सूरज का स्वागत,
चिड़ियों को दाना डाल पानी रखना, 
मुझे जगाने की प्यार से कोशिश करना !
 
घड़ी की सुइयां छेड़ेंगी हर सुबह,
लंबी रातों से उकता हर रोज़ सबेरे,
अलार्म बंद कर भूल जाना उठाना, 
सपनों की बतिया दोपहरी में सुनाना !
 
पुरानी तस्वीरों का खोल पिटारा,
यादों में उलझ करेंगे हिसाब, 
चलो गलतियों की मांगे माफ़ी,
आनेवाली यादें बनाएं खूबसूरत !
 
उल्टी गंगा बहाएं घर बना गढ़, 
आधे-आधे बांट लें अधिकार, 
आधे कर्तव्य निभाएं एकदूजे के, 
अर्द्धनारीश्वर बन पूरक दूजे के !
 
थोड़े तुम थोड़ा मैं बदलूंगी, 
बाहरी हवा खतरनाक है, 
भीतर की हवा प्राणवायु, 
जीतना है जंग शुद्ध रख इसे !
 
सुनो अब तक घर मैंने संभाला, 
अनिश्चित समय काल है अभी, 
घर में मेहमान नहीं साथी बनोगे,
पुरानी उलझनें फिर कभी सही !
 
चलो घर बैठे रिश्ते निभाते हैं, 
पुराने रिश्ते नए समझ अपनाएं, 
कोरोना के कहर से बचाकर, 
एक मौका मिला है सदुपयोग करें !
 
जोड़ ह्रदय से हृदय के रिश्ते,
हमारे रसायन को दें नई संज्ञा, 
जोड़ें रिश्ते प्रकृति से, अपनों से, 
भीतर प्रकाश से जो भूले हम !
 
कलयुग का कदापि अंत हो रहा, 
इस तरह सतयुग का करें शुभारंभ, 
सुधार कलयुगी गलतियां जो की थी,
रिश्तों से साकार भविष्य करें सृजन !
 

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख भगवान शिव की 3 खूबसरत बेटियों के बारे में जानते हैं आप? यहां जानिए आज