Phulera Dooj 2020 : क्या है फुलैरा दूज? कैसे मनाते हैं यह त्योहार

Phulera Dooj 2020

फुलेरा दूज एक शुभ पर्व है, जिसे उत्तर भारत के लगभग सभी क्षेत्रों में बड़े उत्साह और जोश के साथ मनाया जाता है।
 
यह त्योहार भगवान कृष्ण को समर्पित है। शाब्दिक अर्थ में फुलेरा का अर्थ 'फूल' फूलों की अधिकता को दर्शाता है। मान्यता यह है कि अस दिन भगवान कृष्ण फूलों के साथ खेलते हैं और फुलेरा दूज की शुभ पूर्व संध्या पर होली के त्योहार में भाग लेते हैं। यह त्योहार लोगों के जीवन में खुशियां और उल्लास लाता है।
 
वृंदावन और मथुरा के कुछ मंदिरों में, भक्तों को भगवान कृष्ण के विशेष दर्शन का भी मौका मिल सकता है, जहां वह हर साल फुलेरा दूज के 
 
उचित समय पर होली उत्सव में भाग लेने वाले होते हैं। इस दिन विभिन्न अनुष्ठानों और समारोहों का आयोजन किया जाता है और साथ ही 
 
देवता भगवान कृष्ण की मूर्तियों को होली के आगामी उत्सव पर दर्शाने के लिए रंगों से सराबोर किया जाता है।
 
कब है फुलेरा दूज?
फाल्गुन माह में शुक्ल पक्ष के दौरान दूसरे दिन (द्वितीया तिथि) पर फुलेरा दूज पर मनाई जाती है। हर साल फुलेरा दूज का त्यौहार दो प्रमुख 
 
त्योहारों के बीच आता है, यानी वसंत पंचमी और होली। इस वर्ष फुलेरा दूज (फुलैरा दूज या फुलोरा दूज) 25 फरवरी 2020 को है। 
 
फुलेरा दूज कैसे मनाते हैं?
इस विशेष दिन पर, भक्त भगवान कृष्ण की पूजा और आराधना करते हैं। उत्तरी भारत के विभिन्न क्षेत्रों में भव्य उत्सव होते हैं। भक्त घरों 
 
और मंदिरों दोनों जगह में देवता की मूर्तियों या प्रतिमाओं को सुशोभित करते हैं, सजाते हैं।
 
सबसे महत्वपूर्ण अनुष्ठान जो किया जाता है वह भगवान कृष्ण के साथ रंग-बिरंगे फूलों से होली खेलने का होता है।
 
ब्रज क्षेत्र में, इस विशेष दिन पर, देवता के सम्मान में भव्य उत्सव होते हैं।
 
मंदिरों को फूलों और रोशनी से सजाया जाता है और भगवान कृष्ण की मूर्ति को एक सजाए गए और रंगीन मंडप में रखा जाता है।
 
रंगीन कपड़े का एक छोटा टुकड़ा भगवान कृष्ण की मूर्ति की कमर पर लगाया जाता है, जिसका प्रतीक है कि वह होली खेलने के लिए तैयार हैं।
 
'शयन भोग' की रस्म पूरी करने के बाद, रंगीन कपड़े को हटा दिया जाता है।
 
पवित्र भोजन (विशेष भोग) फुलेरा दूज के दिन को शामिल किया जाता है जिसमें पोहा और विभिन्न अन्य विशेष सेव शामिल होते हैं। भोजन 
 
पहले देवता को अर्पित किया जाता है और फिर प्रसाद के रूप में सभी भक्तों में वितरित किया जाता है।
 
मंदिरों में विभिन्न धार्मिक आयोजन और नाटक होते हैं, जिनमें भक्त कृष्ण लीला और भगवान कृष्ण के जीवन की अन्य कहानियों पर भाग लेते हैं और प्रदर्शन करते हैं।
 
देवता के सम्मान में भजन-कीर्तन किया जाता है।
 
होली के आगामी उत्सव के प्रतीक देवता की मूर्ति पर थोड़ा गुलाल (रंग) चढ़ाया जाता है।
 
समापन के लिए, पुजारी मंदिर में इकट्ठा होने वाले सभी लोगों पर गुलाल (रंग) छिड़कते हैं।
 
फुलेरा दूज का क्या महत्व है?
इस त्योहार को सबसे महत्वपूर्ण और शुभ दिनों में से एक माना जाता है। क्योंकि यह दिन किसी भी तरह के हानिकारक प्रभावों और दोषों से प्रभावित नहीं होता है और इस प्रकार इसे अबूझ मुहूर्त माना जाता है।
 
इसका अर्थ है कि विवाह, संपत्ति की खरीद इत्यादि सभी प्रकार के शुभ कार्यों को करने के लिए दिन अत्यधिक पवित्र है। शुभ मुहूर्त पर विचार करने या विशेष शुभ मुहूर्त को जानने के लिए पंडित से परामर्श करने की आवश्यकता नहीं है। उत्तर भारत के राज्यों में, ज्यादातर शादी समारोह फुलेरा दूज की पूर्व संध्या पर होते हैं। लोग आमतौर पर इस दिन को अपना व्यवसाय शुरू करने के लिए सबसे समृद्ध पाते हैं।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख होली विशेष : कौन सा रंग पसंद है आपकी गर्लफ्रेंड को, जानिए उसका स्वभाव