Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

जैश-ए-मोहम्मद का सक्रिय सदस्‍य दिल्ली में गिरफ्तार, पुलिस कर रही है जांच

webdunia
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp
share
शनिवार, 6 फ़रवरी 2021 (00:16 IST)
श्रीनगर। आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के एक सक्रिय सदस्य को कतर से भारत वापस भेजे जाने के बाद पुलिस ने शुक्रवार को नई दिल्ली स्थित इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे से गिरफ्तार किया। पुलिस ने ट्वीट किया कि दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग जिले के बिजबेहरा निवासी मुनीब सोफी को कुलगाम जिला पुलिस ने गिरफ्तार किया।

सोफी पाकिस्तानी आतंकवादी वलीद भाई के लिए काम करता था, जिसे सुरक्षाबलों ने पिछले साल कुलगाम जिले में मुठभेड़ में मार गिराया था। कश्मीर जोन पुलिस ने ट्वीट किया, कुलगाम पुलिस ने आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के वांछित शीर्ष सक्रिय सदस्य, बिजबेहरा निवासी मुनीब सोफी को इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे, नई दिल्ली से गिरफ्तार किया जिसे आज कतर से वापस भेजा गया था।

वह पाकिस्तानी आतंकवादी वलीद भाई के लिए काम करता था जो पिछले साल कुलगाम जिले में मुठभेड़ में मारा गया था। उन्होंने बताया कि वह जैश-ए-मोहम्मद के लिए धन जुटाने के मामले में गैरकानूनी गतिविधियां (निषेध) अधिनियम के तहत दर्ज मामले में भी संलिप्त है।

उन्होंने कहा, उक्त मामले की जांच के दौरान आतंकवादियों के एक सहयोगी को गिरफ्तार किया गया, जिसने बताया कि वह अन्य सहयोगियों के साथ मिलकर कश्मीर घाटी के विभिन्न जिलों में जैश-ए-मोहम्मद के लिए धन एकत्र करता था।

प्रवक्ता ने बताया कि जमा की गई राशि कतर में रहने वाले सोफी को भेजी जाती थी जो पाकिस्तानी आतंकवादी वालीद भाई को पाकिस्तान से हथियारों की खरीद के लिए धन भेजता था। जैश-ए-मोहम्मद से जुड़े वालीद भाई को पिछले साल कुलगाम में हुई मुठभेड़ में मार गिराया गया।

प्रवक्ता ने कहा, सोफी के खिलाफ जारी लुकआउट नोटिस और गैर-जमानती वारंट, संबंधित अदालत ने जारी किया है। उसके बाद कतर से भारत वापस भेजे जाने के बाद उक्त आरोपी को नई दिल्ली के इंदिरा गांधी हवाईअड्डे से गिरफ्तार किया गया। उन्होंने बताया कि मामले में आगे की जांच जारी है।(भाषा)

Share this Story:
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

webdunia
ब्रिटेन में नीरव मोदी की रिमांड बढ़ाई, 25 फरवरी को होगा प्रत्यर्पण पर फैसला