Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

AAP के बाद ओवैसी ने किया UP विधानसभा का चुनाव लड़ने का ऐलान, ओमप्रकाश राजभर के साथ मिलाया हाथ

हमें फॉलो करें webdunia
बुधवार, 16 दिसंबर 2020 (17:48 IST)
लखनऊ। बिहार विधानसभा चुनाव में पार्टी के प्रदर्शन से उत्साहित एआईएमआईएम के अध्यक्ष व लोकसभा सदस्य असदुद्दीन ओवैसी ने बुधवार को सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर से मुलाकात की। उन्होंने कहा कि बिहार की सफलता के बाद पार्टी को हौसला मिला है और हम उस कामयाबी के सिलसिले को जारी रखेंगे।

तृणमूल कांग्रेस प्रमुख और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए ओवैसी ने कहा कि अभी तक उनका सामना मीर जाफर और मीर सादिक जैसे मुसलमानों से हुआ है, उनका सामना सच्चे मुसलमान से नहीं हुआ है।

उनसे पूछा गया था कि ममता बनर्जी आरोप लगाती हैं कि वह पैसे लेकर मुस्लिम वोटों का बंटवारा करते हैं। इस पर ओवैसी ने जवाब दिया जब अटल बिहारी वाजपेयी जी प्रधानमंत्री थे तो ममता एनडीए का हिस्सा रहीं। गुजरात में इतना बड़ा फसाद हुआ।

अब ममता बनर्जी यह कह रही हैं तो अब तक उनका सामना मीर जाफर और मीर सादिक जैसे लोगों से पड़ा है। उनका एक सच्चे मुसलमान से सामना नहीं हुआ है, वह हो जाएगा। अगर वह कह रही हैं कि दौलत मिली है तो कोई इतना बड़ा आदमी पैदा नहीं हुआ जो असदुदीन ओवैसी को खरीद सके।

राजभर से मुलाकात के बाद बुधवार को ऑल इंडिया मजिलस-ए-इत्तेहादुल मुस्लीमीन (एआईएमआईएम) के प्रमुख ओवैसी ने कहा, बिहार में जो हमें कामयाबी मिली उसमें ओमप्रकाश राजभर का भी सहयोग है। हम ग्रैंड डेमोक्रेटिक सेक्यूलर अलायंस का हिस्सा थे। हमको तो बिहार की सफलता के बाद हौसला मिला है और हम उस कामयाबी के सिलसिले को जारी रखेंगे। बिहार में हाल में ही विधानसभा चुनाव में एआईएमआईएम को पांच सीटें मिली थीं।

ओवैसी से मुलाकात के बाद सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के प्रमुख ओमप्रकाश राजभर ने कहा, हमने एक साल पहले भागीदारी संकल्प मोर्चा का गठन किया था और हम 2022 का विधानसभा चुनाव एकसाथ मिलकर लड़ेंगे। कल तक लोग कहते थे कि ओपी राजभर अकेले हैं और वे क्या कर लेंगे?अब जब ओवैसी आए हैं तो लोगों को दर्द क्यों हो रहा है।

राजभर से पूछा गया कि क्या भाजपा का मुकाबला करने के लिए वे ओवैसी के साथ आ रहे हैं तो इस पर भाजपा के पूर्व सहयोगी राजभर ने कहा, हमने मोर्चा चुनाव जीतने के लिए बनाया है और हम शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार के मुद्दे पर चुनाव लड़ेंगे।

राजभर से पूछा गया कि ऐसा कहा जाता है कि ओवैसी की पार्टी वोट कटवा है, इस पर उन्होंने जवाब दिया, हम चाहते हैं कि ओवैसी अपने समुदाय का वोट काटें, राजभर अपने समुदाय का वोट काटें, अपना दल की कृष्णा पटेल अपने समुदाय का वोट काटें। यह सारे वोट एकजुट हो जाएं और हम चुनाव जीत जाएंगे।

इससे पहले ओवैसी ने कहा कि वह प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष शिवपाल यादव से भी मुलाकात करेंगे। मंगलवार को ही आम आदमी पार्टी ने भी उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव लड़ने की घोषणा की है। ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं कि ओवैसी छोटी पार्टियों के साथ मिलकर राज्य में चुनाव लड़ सकते हैं।(भाषा)

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

दिल्ली सीमा से किसानों को हटाने संबंधी याचिका पर SC ने केंद्र सरकार से मांगा जवाब