गर्भवती हथिनी की दर्दनाक मौत के मामले में वन विभाग को मिली महत्वपूर्ण कामयाबी

गुरुवार, 4 जून 2020 (20:11 IST)
कोच्चि। केरल के पालक्कड़ जिले में एक गर्भवती हथिनी की दर्दनाक मौत के मामले में वन विभाग ने कहा है कि जांच में महत्वपूर्ण कामयाबी मिली है। हथिनी की मौत की छानबीन के लिए गठित विशेष जांच टीम ने कई संदिग्धों से पूछताछ की है। साइलेंट वैली जंगल में हथिनी ने पटाखा भरा हुआ अन्नानास खा लिया था। यह उसके मुंह में फट गया और एक सप्ताह बाद 27 मई को उसकी मौत हो गई।
 
वन विभाग ने कहा है कि दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने के लिए वह कोई कसर बाकी नहीं छोड़ेगा। विभाग ने एक ट्वीट में कहा, ‘हथिनी के शिकार के लिए दर्ज मामले में कई संदिग्धों से पूछताछ की गई है। इस संबंध में गठित एसआईटी को अहम सुराग मिले हैं। वन विभाग दोषियों को अधिकतम सजा दिलवाने के लिए कोई कसर बाकी नहीं छोड़ेगा।’

विभाग ने अज्ञात लोगों के खिलाफ मामले दर्ज किए हैं और उनकी पहचान की जा रही है। घटना पर रोष बढ़ने के बाद मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने बुधवार को कहा कि कोझिकोड की वन्य जीव अपराध जांच टीम को पालक्कड़ जिले के मन्नाकाड वन खंड में घटना स्थल के लिए रवाना किया गया है।
 
केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बुधवार को कहा कि केंद्र ने इस पर एक समग्र रिपोर्ट मांगी है और आश्वस्त किया कि घटना में शामिल दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

मंत्री ने गुरुवार को एक ट्वीट में कहा, ‘पटाखा खिलाकर जान लेना, भारतीय संस्कृति नहीं है। हम गहराई से जांच कराने में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ेंगे और अपराधियों को पकड़ेंगे।’ वन विभान ने 27 मई को 2 प्रशिक्षित हाथियों की मदद से इस हथिनी को वेल्लियार नदी तट पर लाने का प्रयास  किया था, लेकिन कामयाबी नहीं मिली। आखिरकर हथिनी की मौत हो गई।

वन विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘पटाखों से भरा अन्नानास खाने से हुए विस्फोट में उसका जबड़ा टूट गया था और वह कुछ भी चबा पाने में असमर्थ थी।’ पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता चला कि हथिनी गर्भवती थी।
 
अनुष्का शर्मा, श्रद्धा कपूर, रणदीप हुड्डा समेत कई नामचीन हस्तियों ने घटना पर चिंता प्रकट करते हुए जानवरों से क्रूरता करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है। साइलेंट वैली जंगल में हथिनी की ऐसी दु:खद मौत का खुलासा वन विभाग के एक अधिकारी द्वारा अपने फेसबुक पोस्ट पर भावुक टिप्पणी पोस्ट किए जाने के बाद हुआ था।

उन्होंने लिखा था, ‘जब हमने उसे देखा तो वह नदी में खड़ी थी, उसका सिर पानी में डुबा हुआ था। उसे अपनी छठी इंद्री से समझ आ गया था कि वह मरने वाली है। उसने खड़े खड़े ही नदी में जलसमाधि ले ली।’ उन्होंने नदी में सिर झुकाए खड़ी हथिनी के फोटो भी पोस्ट किए थे। (भाषा)

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख गोल्फ से अर्जुन पुरस्कार के लिए राशिद, अदिति और दीक्षा का नामांकन