मौसम अपडेट : कश्मीर में बर्फबारी से ठंड के तेवर तीखे, मौसम विभाग का अलर्ट

रविवार, 27 जनवरी 2019 (22:39 IST)
श्रीनगर। कश्मीर घाटी में ठंड के तेवर जस के तस बने रहने के साथ ही घाटी के सभी मौसम केंद्रों में पारा 0 से नीचे बना हुआ है और शीतलहर का कहर बढ़ गया। मौसम विभाग ने रविवार को यह जानकारी दी। अधिकारियों ने बताया कि पहाड़ों पर बर्फबारी से ठंड के तेवर और तीखे हो गए हैं। विभाग ने अलर्ट जारी करते हुए कहा कि फिलहाल मैदानी इलाकों में रहने वालों को ठंड से राहत नहीं मिलेगी।
 

श्रीनगर में शनिवार रात का न्यूनतम तापमान 0 से नीचे 1.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो इससे पहले की रात के तापमान 0 से नीचे 1.8 डिग्री सेल्सियस थोड़ा अधिक था। पहाड़ी इलाकों में हुई बर्फबारी के कारण लोगों का जीना मुहाल हो गया है। इसका सीधा असर मैदानी इलाकों पर भी पड़ रहा है। 
 
मौसम विभाग ने बताया कि दक्षिणी कश्मीर के काजीगुंड में न्यूनतम तापमान 0 से नीचे 6.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो पिछली रात से 3 डिग्री से अधिक कम रहा। इसके पहले शुक्रवार की रात में पारा 0 से नीचे 3.2 डिग्री सेल्सियस था।
कोकरनाग में शनिवार रात का न्यूनतम तापमान 0 से नीचे 6.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो पिछली रात के न्यूनतम तापमान 6.8 डिग्री सेल्सियस के तकरीबन बराबर ही रहा। उत्तरी कश्मीर में कूपवाड़ा में पिछली रात के न्यूनतम तापमान 0 से नीचे 2.6 डिग्री सेल्सियस के मुकाबले पारा लुढ़ककर 0 से नीचे 6.5 डिग्री सेल्सियस पर चला गया।
 
 
अधिकारी ने बताया कि गुलमर्ग में शनिवार रात का न्यूनतम तापमान 0 से नीचे 12 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो पिछली रात से 2 डिग्री अधिक था, वहीं पहलगाम में न्यूनतम तापमान 0 से नीचे 13 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया।

कारगिल सबसे ठंडा स्थान रहा : लेह में न्यूनतम तापमान 0 से नीचे 15.5 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। यह इससे पहले की रात से 1 डिग्री अधिक रहा। कारगिल में न्यूनतम तापमान 0 से नीचे 20.7 डिग्री सेल्सियस रहा। जम्मू-कश्मीर में कारगिल सबसे ठंडा स्थान रहा।
दिल्ली में भी ठंड और बढ़ने का अनुमान : मौसम विभाग ने अलर्ट जारी करते हुए कहा कि पहाड़ों पर हो रही बर्फबारी का सीधा असर राजधानी दिल्ली पर पड़ता है और यहां पर ठंड बढ़ सकती है। फिलहाल दिल्ली एनसीआर में तापमान 5 डिग्री सेल्सियस चल रहा है। सोमवार को दिल्ली में कोहरा छाया रहेगा।

पंजाब में अगले 2 दिनों में प्रचंड शीतलहर के आसार : मौसम विभाग ने अलर्ट जारी करते हुए संभावना व्यक्त की है कि पंजाब के कुछ इलाकों में अगले 2 दिनों में प्रचंड शीतलहर के आसार हैं। यहां शीतलहर तथा पाले से हाड़ कंपाने वाली सर्दी का कहर जारी रहने वाला है।
पंजाब के आदमपुर में पारा 1 डिग्री रहा। करनाल, नारनौल, हलवारा का पारा 3 डिग्री, हिसार, भिवानी, अमृतसर, बठिंडा का पारा 4 डिग्री, चंडीगढ़, पटियाला, रोहतक का पारा क्रमश: 5 डिग्री रहा। अंबाला का पारा 6 डिग्री और लुधियाना का 6 डिग्री रहा।
 
मध्यप्रदेश में कड़ाके की ठंड, कई स्थानों पर शीतलहर : मध्यप्रदेश में लगातार तीन दिनों से पड़ रही कड़ाके की ठंड के बीच अगले 24 घंटों के दौरान आधा दर्जन से अधिक स्थानों पर शीतलहर चलने की चेतावनी मौसम विभाग ने दी है।
 
प्रदेश में अधिकांश स्थानों पर हल्की बारिश और कई स्थानों पर ओला गिरने के बाद अब आधा दर्जन से अधिक स्थानों पर शीतलहर चलने की संभावना है। राज्य के पूर्वी और पश्चिमी हिस्से में आने वाले अधिकांश स्थानों पर दोनों ही तापमान में गिरावट आने से ठंड ने काफी सितम ढाया है। ठंड और कोहरा का असर मैदानी इलाके में ज्यादा देखा गया। 
हिमाचल प्रदेश में भी शीतलहर जारी : हिमाचल प्रदेश में रविवार को भी शीतलहर से लोगों को राहत नहीं मिली और प्रदेश के प्रमुख पर्यटन स्थलों पर तापमान 0 से नीचे दर्ज किया गया। मौसम विभाग ने यह जानकारी दी।
 
शिमला मौसम केंद्र के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि कुल्लू जिले के मनाली में न्यूनतम तापमान 0 से 5 डिग्री सेल्सियस नीचे, शिमला जिले के कुफरी में 0 से 4.2 डिग्री नीचे, चंबा जिले के डलहौजी में 0 से 1.5 डिग्री सेल्सियस नीचे और शिमला में 0 से 0.2 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। उन्होंने बताया कि लाहौल स्पीति जिले का प्रशासनिक केंद्र केलांग राज्य में सबसे ठंडा स्थान रहा, जहां न्यूनतम तापमान 0 से 17 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। 

कड़ाके की सर्दी के चलते राजस्थान में स्कूलों का वक्त बदला : कड़ाके की ठंड के कारण राजस्थान के हालात भी बेहद खराब बने हुए हैं। यहां भी आने वाले दिनों में लोगों को ठंड से किसी प्रकार की राहत नहीं मिलने वाली है। जयपुर में तेज सर्दी को मद्देनजर जिला कलक्टर जगरूप सिंह यादव ने जिले के सरकारी और गैर सरकारी विद्यालयों के खुलने का समय 28 जनवरी से 2 फरवरी तक साढ़े 9 बजे से करने के आदेश दिए हैं। 

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने पूर्व सैनिकों के साथ देखी 'उरी', हाथ उठाकर 'जोश' जगाया