Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

मुंह को आ जाएगा कलेजा : मां की हत्या कर डेढ़ साल के बेटे को गोशाला में छोड़ा, पढ़िए अपराध की पूरी कहानी

webdunia
सोमवार, 11 अक्टूबर 2021 (11:10 IST)
गांधीनगर। डेढ़ साल के उस मासूम को तो शायद यह पता भी नहीं होगा कि उसका गलती क्या है। शायद यह पढ़कर आपका कलेजा भी मुंह में आ जाए। गुजरात में एक पिता अपने डेढ़ साल के बच्चे को गोशाला में छोड़कर भाग गया। गांधीनगर गोशाला के गेट पर बच्चे के रोने की आवाज सुनकर शुक्रवार की रात करीब 8.30 बजे एक कर्मचारी ने पुलिस को फोन किया। गुजरात के गृहमंत्री हर्ष सिंघवी ने मासूम को देखते ही पुलिस को जल्दी जांच के आदेश दिए।

webdunia
 
इसके बाद शुरू हुई पुलिस की जांच और जांच में जो सामने आया, वह भयानक था। 100 पुलिसकर्मी बच्चे के पिता की खोज में निकले। शहर के 65 CCTV कैमरों के फुटेज खंगाले गए। इसमें सामने आया कि गोशाला के पास एक कार आई थी। नंबर ट्रेस करने पर कार सचिन दीक्षित के नाम पर निकली। सचिन की जानकारी मिलने पर उसके मोबाइल की लोकेशन कोटा में मिली और इस तरह गुजरात पुलिस सचिन को कोटा से पकड़कर गांधीनगर ले आई।

webdunia
 
सचिन दीक्षित को पुलिस ने गिरफ्‍तार कर पूछताछ की। उसने बताया बताया कि डेढ़ साल का शिवांश अहमदाबाद में रहने वाली उसकी प्रेमिका हिना की कोख से पैदा हुआ। शिवांश के जन्म के बाद से ही हिना उस पर दबाव डाल रही थी कि वह अपनी पत्नी छोड दे। वडोदरा की कंपनी में असिस्टेंट मैनेजर की नौकरी करने वाले सचिन के परिवार में माता-पिता, पत्नी और 5 साल का बेटा भी है।
 
इसे लेकर दोनों के बीच झगड़ा हुआ। सचिन ने गला दबाकर हिना की हत्या कर दी थी। इसके बाद लाश सूटकेस में भरकर फेंक आया था। डेढ़ साल के बेटे शिवांश से छुटकारा पाने के लिए उसे गोशाला में छोड़ आया था। सचिन की करीब 2 साल पहले अहमदाबाद में रहने वाली मेंहदी उर्फ हिना से मुलाकात के बाद प्यार हुआ। हिना बेटे के साथ अहमदाबाद में किराए के फ्लैट में रहती थी। फिलहाल पूरी घटना से अनजान शिवांश को अहमदाबाद के ओढ़व चाइल्ड केयर सेंटर में रखा गया है, जहां डॉक्टर देखभाल के साथ उस पर स्नेह की बारिश भी कर रहे हैं।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

त्योहारों से पहले कोरोना पर राहतभरी खबर : 215 दिन बाद संक्रमण के सबसे कम मामले, 24 घंटे में मिले 18132 नए मरीज, 98 प्रतिशत हुआ रिकवरी रेट