Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

गुस्से में पुतिन, 'न्यूक्लियर वॉर ड्रिल' के आदेश, यूक्रेन पर परमाणु हमले की आशंका, परिवार साइबेरिया शिफ्ट

हमें फॉलो करें webdunia
रविवार, 20 मार्च 2022 (11:17 IST)
लंबे समय से चल रहे युद्ध का फिलहाल कोई अंत नजर नहीं आ रहा है। अब ब्रिटेन की कई मीडिया रिपोर्टों में टेलीग्राम चैनलों के हवाले से दावा किया गया है कि रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन यूक्रेन पर परमाणु हमला कर सकते हैं।

यह दावा इसलिए किया जा रहा है क्योंकि पुतिन ने अपनी सेना को न्यूक्लियर वॉर ड्रिल के लिए अभ्यास करने का आदेश दे दिया है।

इतना ही नहीं सुरक्षा के लिए अपने परिवार को साइबेरिया भेज दिया है। वहीं परमाणु निकासी ड्रिल की रिपोर्ट ने क्रेमलिन (रूसी राष्ट्रपति कार्यालय) के अधिकारियों को झकझोर कर रख दिया है। 
 
अधिकारी सकते में हैं कि पुतिन के इस निर्णय का अंजाम कितना भयानक हो सकता है। कुछ विश्लेषकों का कहना है कि 25 दिन युद्ध के बीत जाने पर भी यूक्रेन ने अब तक हथियार नहीं डाला है, जिस वजह से पुतिन काफी नाराज हो गए हैं और उन्होंने इसे चुनौती मान लिया है।

पुतिन यह सोच रहे हैं कि एक छोटा सा देश उन्हें चुनौती दे रहा है। दावों के अनुसार, क्रेमलिन के वरिष्ठ राजनीतिक हस्तियों को खुद पुतिन ने सूचना दी है कि वे परमाणु युद्ध की तैयारी में निकासी अभ्यास में भाग लेंगे।

परिवार को भेजा साइबेरिया
इस दावे में इसलिए भी दम नजर आ रहा है क्योंकि पुतिन ने अपने परिवार को सुरक्षित स्थान पर भेज दिया है। रिपोर्टों में दावा किया गया कि पुतिन ने अपने तत्काल परिवार के अज्ञात सदस्यों को साइबेरिया के तेह अल्ताई पर्वत में एक हाई-टेक भूमिगत बंकर में स्थानांतरित कर दिया, जो एक संपूर्ण भूमिगत शहर है।

पुतिन के पास एक खतरनाक योजना तैयार है और यह कोई रहस्य नहीं है। परमाणु संघर्ष के लिए रूस के पास डूम्सडे विमान हैं जिनका उपयोग पुतिन और उनके करीबी सहयोगियों द्वारा परमाणु युद्ध में किया जाएगा। एक स्काई बंकर भी डूम्सडे प्लान के तहत था, लेकिन माना जाता है कि यह अभी तैयार नहीं हुआ है।

पश्चिमी देशों की कुछ खुफिया एजेंसियां हालिया उपस्थितियों के माध्यम से पुतिन के दिमाग का विश्लेषण करने की कोशिश कर रहे हैं, वे पाते हैं कि पुतिन 'अपनी खुद की एक बंद दुनिया में फंस गए हैं', जहां वह अकेला निर्णय निर्माता है और वह अन्य दृष्टिकोणों से बिल्कुल अलग है।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

Coronavirus: एशिया-यूरोप में लगातार बढ़ रहे मामले, WHO ने भारत को किया अलर्ट