Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

श्राद्ध में कौए को क्यों माना जाता है पितर? जानिए 10 रहस्य

webdunia

अनिरुद्ध जोशी

शुक्रवार, 20 सितम्बर 2019 (15:35 IST)
भादौ महीने के 16 दिन कौआ हर घर की छत का मेहमान बनता है। ये 16 दिन श्राद्ध पक्ष के दिन माने जाते हैं। कौए एवं पीपल को पितृ प्रतीक माना जाता है। इन दिनों कौए को खाना खिलाकर एवं पीपल को पानी पिलाकर पितरों को तृप्त किया जाता है।
 
 
श्राद्ध में कौए या कौवे को छत पर जाकर अन्न जल देना बहुत ही पुण्य का कार्य है। माना जाता है कि हमारे पितृ कौए के रूप में आकर श्राद्ध का अन्न ग्रहण करते हैं। इस पक्ष में कौओं को भोजन कराना अर्थात अपने पितरों को भोजन कराना माना गया है। आओ जानते हैं कौए के 10 रहस्यमयी तथ्य।
 
 
1.कौए को अतिथि-आगमन का सूचक और पितरों का आश्रम स्थल माना जाता है।
2.पुराणों की एक कथा के अनुसार इस पक्षी ने अमृत का स्वाद चख लिया था इसलिए मान्यता के अनुसार इस पक्षी की कभी स्वाभाविक मृत्यु नहीं होती। कोई बीमारी एवं वृद्धावस्था से भी इसकी मौत नहीं होती है। इसकी मृत्यु आकस्मिक रूप से ही होती है।
3.जिस दिन किसी कौए की मृत्यु हो जाती है उस दिन उसका कोई साथी भोजन नहीं करता है। कौआ अकेले में भी भोजन कभी नहीं खाता, वह किसी साथी के साथ ही मिल-बांटकर भोजन ग्रहण करता है।
4.कौए को भविष्य में घटने वाली घटनाओं का पहले से ही आभास हो जाता है।
6.शास्त्रों के अनुसार कोई भी क्षमतावान आत्मा कौए के शरीर में स्थित होकर विचरण कर सकती है।
7.कौए को भोजन कराने से सभी तरह का पितृ और कालसर्प दोष दूर हो जाता है।
8.कौआ लगभग 20 इंच लंबा, गहरे काले रंग का पक्षी है जिसके नर और मादा एक ही जैसे होते हैं।
9.कौआ बगैर थके मीलों उड़ सकता है।
10.सफेद कौआ भी होता है लेकिन वह बहुत ही दुर्लभ है।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

Gaj Laxmi Vrat Pujan Vidhi : गजलक्ष्मी व्रत 21 सितंबर 2019,कैसे करें पूजा, यहां मिलेगी सरल विधि