Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

विश्व शाकाहारी दिवस : हिन्दू धर्म में मांस खाना मना है या नहीं?

webdunia

अनिरुद्ध जोशी

गुरुवार, 1 अक्टूबर 2020 (11:38 IST)
शाकाहार और मांसाहार को लेकर बहुत बहस चलती है। हिन्दू धर्म में मांस खाना मना है या नहीं है इस संबंध में कई लोगों के मन में भ्रम है। यदि हिन्दू धर्म में मांस खाना वर्जित होता तो सभी वर्ग में यह नियम लागू होता परंतु धर्म का एक वर्ग मांस का सेवन करता है और एक वर्ग नहीं। शाकाहारी भोजन को हिन्दू धर्म में उत्तम माना है लेकिन मांस खाने को लेकर कोई सख्त अनुदेश नहीं दिया गया है।
 
 
वेदों के अनुसार:- वेद ही हिन्दू धर्म के धर्म ग्रंथ है। वेदों का सार उपनिषद और उपनिषदों का सार गीता है। यहां तीनों का मत जानेंगे। वेदों में मांस खाने के संबंध में स्पष्ट मना किया गया है। वेदों में पशु हत्या पाप मानी गई है। वेनों में कुछ पशुओं के संबंध में तो सख्‍त अनुदेश (हिदायद) दी गई है।
 
यः पौरुषेयेण करविषा समङकते यो अश्वेयेन पशुयातुधानः।
यो अघ्न्याया भरति कषीरमग्ने तेषांशीर्षाणि हरसापि वर्श्च॥- (ऋग वेद, मंडल १०, सूक्त ८७, ऋचा १६)
 
अर्थात- जो मनुष्य नर, अश्व अथवा किसी अन्य पशु का मांस सेवन कर उसको अपने शरीर का भाग बनाता है, गौ की हत्या कर अन्य जनों को दूध आदि से वंचित रखता है, हे अग्निस्वरूप राजा, अगर वह दुष्ट व्यक्ति किसी और प्रकार से न सुने तो आप उसका मस्तिष्क शरीर से विदारित करने के लिए संकोच मत कीजिए।
 
गीता के अनुसार:- गीता में मांस खाने या नहीं खाने के उल्लेख के बजाय अन्न को तीन श्रेणियों में विभाजित किया है- 1.सत्व, 2.रज और 3.तम।
 
गीता के अनुसार अन्न से ही मन और विचार बनते हैं। जो मनुष्य सात्विक भोजन ग्रहण करता है उसकी सोच भी सात्विक होगी। अत: सात्विकता के लिए सात्विक भोजन, राजसिकता के लिए राजसिक भोजन और तामसी कार्यों के लिए तामसी भोजन होता है। यदि कोई सात्विक व्यक्ति तामसी भोजन करने लगेगा तो उसके विचार और कर्म भी तामसी हो जाएंगे।
 
1. संतों, ब्राह्मणों और धर्म के कार्य में कार्यरत लोगों को सात्विक भोजन करना चाहिए। पूर्णत: शाकाहारी भोजन ही सात्विक भोजन है। कई बार इसमें प्याज और लहसुन को भी छोड़ दिया जाता है।
2. युद्ध, क्रीड़ा और भयंकर कर्म हेतु लोगों को राजसिक भोजन करने की छूट है। राजसिक भोजन में उत्म मांस, लहसुन, प्याज आदि आते हैं।
3. ता‍मसिक भोजन कभी नहीं करना चाहिए, क्योंकि यह भोजन राक्षस, पिशाच और असुरों का भोजन होता है। तामसिक भोजन में अच्छे से नहीं धोया गया मांस, बासी भोजन, खराब भोजन, बहुत तीखा और मसालेदार भोजन आदि।
 
सुश्रुत संहिता अनुसार : आयुर्वेदज्ञ सुश्रुत अनुसार रोगोपचार में शरीर की पुष्टि हेतु कभी-कभी मांसाहार करना जरूरी होता है। सुश्रुत संहिता अनुसार मांस, लहसुन और प्याज औषधीय है। औषधि किसी बीमारी के इलाज हेतु होती है आपके जिव्हा के स्वाद के लिए या इसका नियमित सेवन करने के लिए नहीं होती है।
 
आज भी मछली का तेल, सांप के जहर से अनेकों औषधि का निर्माण होता है। इसी तरह बकरे की हड्डी के रस और खरगोश के खून का भी औषधीय उपयोग होता है। इनके उचित सेवन से रोग नष्ट होते हैं। इस तरह यह देखा गया है किसी विशेष रोग में कुछ पशुओं के मांस, हड्डी या अन्य अंगों का उपयोग होता है।
 
पशु बलि प्रथा-
देवताओं को प्रसन्न करने के लिए बलि का प्रयोग किया जाता है। बलि प्रथा के अंतर्गत बकरा, मुर्गा या भैंसे की बलि दिए जाने का प्रचलन है। हिन्दू धर्म में खासकर मां काली और काल भैरव को बलि चढ़ाई जाती है। परंतु विद्वान मानते हैं कि हिन्दू धर्म में लोक परंपरा की धाराएं भी जुड़ती गईं और उन्हें हिन्दू धर्म का हिस्सा माना जाने लगा, जबकि हिन्दू धर्म में बलि प्रथा को वर्जित कर्म माना गया है।
 
दरअसल, बलि प्रथा कभी भी हिन्दू धर्म की देन नहीं रही है। बलि प्रथा का प्राचलन हिंदुओं के शाक्त और तांत्रिकों के संप्रदाय में ही देखने को मिलता है लेकिन इसका कोई धार्मिक आधार नहीं है। शाक्त या तांत्रिक संप्रदाय अपनी शुरुआत से ऐसे नहीं थे लेकिन लोगों ने अपनी इच्छाओं की पूर्ति के लिए कई तरह के विश्वास को उक्त संप्रदाय में जोड़ दिया गया। पशुबलि की यह प्रथा कब और कैसे प्रारंभ हुई, कहना कठिन है, लेकिन इतना तो तय है कि यह वेद, गीता, उपनिषद या पुराणों की देन नहीं है।
 
दो मार्ग है आत्मा और शरीर का:-
अंतत: आपके सामने दो मार्ग है- पहला है आत्मा का मार्ग और दूसरा है शरीर का मार्ग। यदि आप आत्मा के मार्ग पर चलना चाहते हैं तो आपको अपने जीवन में सात्विक भोजन, गुण और कर्म को अपनाने की जरूरत होगी। यदि आप सांसारिक मार्ग पर चलकर शरीर को पुष्‍ट करना चाहते हैं तो आपको तय करना है कि आपको क्या खाना और क्या नहीं खाना है।
 
हालांकि हिन्दू धर्म मांसाहार खाने की सलाह या अनुमति नहीं देता है। खासकर हिन्दू धर्म में अश्‍व, नर, गाय, श्वान, सर्प, सुअर, शेर, गज और पवित्र पक्षी (हंसादि) का मांस खाना घोर पाप माना गया है।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

Shri Krishna 30 Sept Episode 151 : तुम्हारा धर्म वही है जिसे तुमने स्वयं बनाया हो, कर्म योग