भगवान विष्णु के किस अवतार का जन्म कहां और कब हुआ, जानिए

यदि हम अवतारों की बात करें तो भगवान विष्णु और भगवान शिव के ही अवतारों का पुराणों में वर्णन ज्यादा मिलता है। विष्णु के 24 अवतारों का उल्लेख पुराणों में मिलता है।
चौबीस अवतारों के नाम:- आदि परषु, चार सनतकुमार, वराह, नारद, नर-नारायण, कपिल, दत्तात्रेय, याज्ञ, ऋषभ, पृथु, मतस्य, कच्छप, धनवंतरी, मोहिनी, नृसिंह, हयग्रीव, वामन, परशुराम, व्यास, राम, बलराम, कृष्ण, बुद्ध और कल्कि। उक्त में से 10 को प्रमुख माना गया है। यहां प्रस्तुत है आठ अवतारों के जन्म समय और स्थान के बारे में संक्षिप्त जानकारी
 
1.श्रीमत्स्य अवतार:- अवतरण तिथि चैत्र शुक्ल तृतीया, समय मध्‍याह्नोत्तर, स्थान कृतमाला तट। मलय पर्वत से निकली कृतमाला नदी दक्षिण भारत में बहती है। इस नदी के तट पर तपस्यारत राजा सत्यव्रत को प्रसन्न करने के लिए भगवान मत्स्य प्रथम बार इसी नदी से प्रकट हुए थे। दक्षिण भारत का पावन नगर मदुरई इसी के तट पर बसा है जो दक्षिण भारत का मथुरा कहा जाता है। इस नदी को कुछ विद्वान 'वेगा' या 'वेगवती' कहते हैं।
 
2.श्रीकूर्म (कच्छप) अवतार:- अवतरण तिथि वैशाख शुक्ल पूर्णिमा, समय सायंकाल, स्थान क्षीरसागर। कूर्म अवतार में भगवान विष्णु ने समुद्रमंथन के समय मंदराचल पर्वत को अपने कवच पर संभाला था। यह सागर सप्तमहाद्वीपों में से एक कौंच महाद्वीप के चतुर्दिक में स्थित है।
 
3.श्रीवराह अवतार:- अवतरण तिथि भाद्रपद शुक्ल पंचमी, समय मध्‍याह्नोत्तर, स्थान हरिद्वार वराह क्षेत्र।
 
4.श्रीनृसिंह अवतार:- अवतरण तिथि वैशाख शुक्ल चतुर्दशी, समय सायंकाल, मूलस्थान मुल्तान।
 
5.श्रीवामन अवतार:- अवतरण तिथि भाद्रपद शुक्ल द्वादशी, समय मध्याह्न, स्थान प्रयाग।
 
6.श्रीपरशुराम अवतार:- अवतरण ‍तिथि बैशाख शुक्ल तृतीया, समय मध्याह्न, स्थान जमनिया गांव।
 
7.श्रीराम अवतार:- अवतरण तिथि चैत्र शुक्ल नवमी 5114 ईसा पूर्व समय मध्याह्न, स्थान अयोध्या।
 
8.श्रीकृष्ण अवतार:- अवतरण तिथि भाद्रपद कृष्ण अष्टमी 3112 ईसापूर्व, समय मध्यरात्रि, स्थान मथुरा। 
संदर्भ : कल्याण (पुराणकथांक वर्ष 63)।

वेबदुनिया पर पढ़ें