Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

राहत पैकेज की घोषणा से सेंसेक्स में 500 अंकों से ज्यादा की तेजी, निफ्टी भी 8200 के स्तर से ऊपर

webdunia
शुक्रवार, 20 मार्च 2020 (10:37 IST)
मुंबई। कोरोना वायरस महामारी का मुकाबला करने के लिए केंद्र सरकार से आर्थिक राहत पैकेज की घोषणा की उम्मीद के चलते शेयर बाजार में प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स सोमवार को शुरुआती सत्र के दौरान 500 अंक चढ़ गया। हालांकि ऊपरी स्तर पर शेयर बाजार में मुनाफावसूली देखने को मिली और बाजार अपनी बढ़त बरकरार नहीं रख सका।
कारोबारियों ने बताया कि कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों पर चिंता बनी हुई है। इसके चलते सेंसेक्स 573.07 अंकों की बढ़त के बाद तेजी से नीचे गिरा और खबर लिखे जाने तक 195.57 अंकों या 0.69 प्रतिशत की गिरावट के साथ 28,092.66 पर कारोबार कर रहा था।
 
इसी तरह एनएसई निफ्टी शुरुआती सत्र में 8,441.25 के उच्च स्तर पर पहुंचने के बाद 39.15 अंकों या 0.47 प्रतिशत की गिरावट के साथ 8,224.30 पर कारोबार कर रहा था। पिछले सत्र में 30 शेयरों वाला बीएसई सेंसेक्स 581.28 अंकों या 2.01 प्रतिशत की गिरावट के साथ 28,288.23 पर बंद हुआ। निफ्टी 205.35 अंकों या 2.42 प्रतिशत की गिरावट के साथ 8,263.45 पर बंद हुआ था। 
 
शेयर बाजार के आंकड़ों के मुताबिक सकल आधार पर विदेशी संस्थागत निवेशकों ने गुरुवार को 4,622.93 करोड़ रुपए की इक्विटी बेची। सेंसेक्स में सबसे अधिक इंडसइंड बैंक में 7 प्रतिशत की गिरावट हुई, साथ ही एचडीएफसी, कोटक बैंक, बजाज फाइनेंस, आईसीआईसीआई बैंक और एक्सिस बैंक गिरने वाले शेयरों में शामिल थे। दूसरी ओर आईटीसी, पॉवरग्रिड, एचयूएल, ओएनजीसी और सन फार्मा में बढ़त देखी गई।
 
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण की अगुवाई में एक कार्यबल के गठन की घोषणा की थी, जो कोरोना वायरस महामारी के प्रभावों का आकलन कर जरूरी कार्रवाई करेगा।
 
सरकारी सूत्रों के अनुसार आर्थिक पैकेज पर विचार करने के लिए वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण लघु एवं मध्यम उद्योग मंत्री नितिन गडकरी, पशुपालन मंत्री गिरिराज सिंह, नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी और पर्यटन मंत्री प्रह्लाद सिंह पटेल के साथ शुक्रवार को बैठक करेंगी।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

Corona Live Updates : पश्चिम बंगाल में मिला एक ओर कोरोना पॉजिटिव, फिच ने घटाया आर्थिक वृद्धि का अनुमान