सिंधू और साइना के क्वार्टरफाइनल में बाहर होते ही टूर्नामेंट में भारतीय चुनौती भी समाप्त हो गई

शुक्रवार, 10 जनवरी 2020 (17:22 IST)
कुआलालम्पुर। विश्व चैंपियन पीवी सिंधू और साइना नेहवाल का पिछले 5 महीनों से चल रहा खराब प्रदर्शन नए साल में भी बरकरार रहा और दोनों भारतीय खिलाड़ी मलेशिया मास्टर्स बैडमिंटन टूर्नामेंट के क्वार्टरफाइनल में शुक्रवार को हारकर बाहर हो गई और इसके साथ ही टूर्नामेंट में भारतीय चुनौती भी समाप्त हो गई। 
 
छठी सीड सिंधू को विश्व की नंबर दो खिलाड़ी और टॉप सीड चीनी ताइपे की ताई जू यिंग ने 36 मिनट में 21-16, 21-16 से पराजित कर दिया जबकि साइना को ओलंपिक चैंपियन और गैर वरीय स्पेन की कैरोलीना मारिन ने मात्र 30 मिनट में 21-8, 21-7 से पीट दिया। 
 
सिंधू और साइना की हार के साथ साल के पहले बैडमिंटन टूर्नामेंट में भारत की चुनौती समाप्त हो गई है। पुरुष एकल वर्ग में कल समीर वर्मा और एच एस प्रणय दूसरे दौर में हार गए थे। 
 
भारत की दोनों शीर्ष महिला खिलाड़ियों का पिछले पांच महीने में लगातार खराब प्रदर्शन रहा था। सिंधू अगस्त 2019 में विश्व चैंपियन बनने के बाद अगले 7 टूर्नामेंटों में सिर्फ एक में ही क्वार्टरफाइनल में पहुंच पाई थीं। वरना उनका बोरिया बिस्तरा पहले या दूसरे दौर में बंधता रहा था। सिंधू साल के आखिर में 8 शीर्ष खिलाड़ियों के वर्ल्ड टूर फाइनल्स में अपने खिताब का बचाव भी नहीं कर सकी थीं। 
 
रियो ओलंपिक की रजत विजेता सिंधू से उम्मीद थी कि वह नए साल की शुरुआत अच्छी करेंगी लेकिन जू यिंग के सामने उनकी एक नहीं चली। इस हार के साथ सिंधू का जू यिंग के खिलाफ 5-12 का करियर रिकॉर्ड हो गया है। सिंधू ने आखिरी बार जू यिंग को अगस्त में विश्व चैंपियनशिप में हराया था। 
 
खराब फॉर्म और फिटनेस से गुजर रही साइना को मारिन के हाथों काफी करारी हार मिली। वह पहले गेम में 8 और दूसरे गेम में 7 अंक ही जीत पाई। विश्व रैंकिंग में 11वें नंबर की सिंधू का 10वें नंबर की मारिन के खिलाफ अब 6-7 का करियर रिकॉर्ड हो गया है। दोनों के बीच पिछला मुकाबला जनवरी 2019 में हुआ था और तब साइना को मारिन के रिटायर होने से जीत मिली थी। लेकिन इस बार मारिन ने साइना को कोई मौका नहीं दिया।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख पैट कमिंस को उम्मीद, भारत के खिलाफ श्रृंखला में अहम भूमिका निभाएंगे स्पिनर