Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

पेट के असहनीय दर्द के कारण भी जीता क्वार्टर, फिर विंबल्डन के सेमीफाइल से हटे नडाल (Video)

हमें फॉलो करें webdunia
शुक्रवार, 8 जुलाई 2022 (14:46 IST)
विंबलडन: दुनिया के पूर्व नंबर एक खिलाड़ी स्पेन के रफेल नडाल पेट की मांसपेशियों में चोट के कारण गुरुवार को विंबलडन टेनिस टूर्नामेंट से हट गए।

नडाल ने सेमीफाइनल से एक दिन पहले यह घोषणा की।नडाल ने आल इंग्लैंड क्लब पर प्रेस कांफ्रेंस में कहा, ‘‘दुर्भाग्य से, आप कल्पना कर सकते हैं कि अगर मैं यहां हूं तो ऐसा इसलिए है क्योंकि मुझे टूर्नामेंट से हटना पड़ेगा।’’

रविवार को होने वाले फाइनल में जगह बनाने के लिए 22 बार के ग्रैंडस्लैम चैंपियन नडाल को शुक्रवार को सेमीफाइनल में निक किर्गियोस से भिड़ना था।नडाल के हटने पर किर्गियोस ने पहली बार ग्रैंडस्लैम टूर्नामेंट के फाइनल में जगह बनाई जहां उनका सामना नोवाक जोकोविच और कैमरन नोरी के बीच होने वाले सेमीफाइनल के विजेता से होगा।

दूसरे वरीय स्पेन के नडाल का इस साल ग्रैंडस्लैम में अब तक 19-0 का रिकॉर्ड था। उन्होंने 2022 में अपने सभी ग्रैंडस्लैम मुकाबले जीते और इस दौरान जनवरी में आस्ट्रेलिया ओपन और जून में फ्रेंच ओपन खिताब अपने नाम किया।

नडाल लगभग एक हफ्ते से पेट की मांसपेशियों में दर्द से परेशान थे। बुधवार को क्वार्टर फाइनल में टेलर फ्रिट्ज के खिलाफ पांच सेट में जीत के दौरान दर्द असहनीय हो गया लेकिन इसके बावजूद वह चार घंटे और 21 मिनट में मुकाबला जीतने में सफल रहे।
webdunia

हालांकि मैच के बाद उन्होंने कहा कि समस्या कुछ दिन पहले शुरू हुई थी। अपने पिता और बहन के उस मैच में जल्दी संन्यास लेने का आग्रह करने के बावजूद, नडाल 4 घंटे 20 मिनट चले मुकाबले में 3-6, 7-5, 3-6, 7-5, 7-6 (10-4) से जीत दर्ज करने में सफल रहे।

नडाल ने कहा, "न केवल मैं सही गति से सर्व करने में असमर्थ हूं, बल्कि मैं सर्व करने के लिए ठीक तरह हिल भी नहीं सकता। मैं सेमीफाइनल में इस तरह नहीं जाना चाहता कि ठीक तरह से मुकाबला भी न कर पाऊं। ऐसे में चोट की स्थिति भी और खराब हो सकती है।"सेमीफाइनल में नडाल का सामना ऑस्ट्रेलिया के निक किर्गियोस से होना था, जो अब सीधा फाइनल में पहुंच गए हैं।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

कप्तानी में दादा ने वो कमाल दिखाया जो माही भी नहीं कर पाए थे