लिवाली के दम पर सेंसेक्स उछला, निफ्टी में भी हुआ सुधार

गुरुवार, 13 दिसंबर 2018 (17:55 IST)
मुंबई। अधिकतर एशियाई बाजारों से मिले मजबूत संकेतों के बीच खुदरा महंगाई और औद्योगिक उत्पादन के सकारात्मक आंकड़ों के दम पर हुई लिवाली से बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 150.57 अंक की बढ़त के साथ 35,929.64 अंक पर और एनएसई का निफ्टी 53.95 अंक के सुधार के साथ 10,791.55 अंक पर बंद हुआ।


विश्लेषकों के मुताबिक शेयर बाजार पर रिजर्व बैंक के नवनियुक्त गवर्नर शक्तिकांता दास के सरकारी बैंकों के प्रबंध निदेशकों एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारियों के साथ गुरुवार को बैठक करने की खबर का भी सकारात्मक प्रभाव रहा। निवेशक खुदरा महंगाई दर के 17 माह के निचले स्तर पर आने से भी उत्साहित रहे। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक सब्जियों, दालों और चीनी की कीमतों में 1 साल पहले की तुलना में बड़ी गिरावट के कारण इस साल नवंबर में देश में उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति यानी खुदरा महंगाई की दर घटकर 2.33 प्रतिशत रह गई।

इसी तरह मौजूदा वर्ष के अक्टूबर में औद्योगिक उत्पादन की वृद्धि दर 8.1 प्रतिशत दर्ज की गई। सेंसेक्स बढ़त के साथ गुरुवार को 36,024.88 अंक पर खुला। कारोबार के दौरान यह 36,095.56 अंक के दिवस के उच्चतम और 35,794.51 अंक के निचले स्तर पर होता हुआ गत दिवस की तुलना में 0.42 प्रतिशत की बढ़त में 35,929.64 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स की 30 में से 17 कंपनियां तेजी में रहीं। निफ्टी भी बढ़त के साथ 10,810.75 अंक पर खुला।

कारोबार के दौरान यह 10,838.60 अंक के दिवस के उच्चतम और 10,749.50 अंक के निचले स्तर से होता हुआ गत दिवस की तुलना में 0.50 प्रतिशत की तेजी में 10,791.55 अंक पर बंद हुआ। निफ्टी की 50 में से 29 कंपनियां तेजी में और 20 गिरावट में रहीं जबकि एक कंपनी के शेयर के भाव अपरिवर्तित रहे। दिग्गज कंपनियों की तुलना में छोटी और मझौली कंपनियों में निवेशकों का आकर्षण अधिक रहा।

बीएसई का मिडकैप 0.82 प्रतिशत यानी 122.76 अंक की तेजी के साथ 15,163.59 अंक पर और स्मॉलकैप 0.65 प्रतिशत यानी 93.67 अंक की तेजी के साथ 14,497.69 अंक पर बंद हुआ। बीएसई में कुल 2,685 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ जिनमें 1,487 में तेजी और 1,062 में गिरावट रही जबकि 136 कंपनियों के शेयर दिन भर के उतार-चढाव के बाद अपरिवर्तित बंद हुए।

यूरोपीय बाजारों में ब्रिटेन का एफटीएसई शुरुआती कारोबार में 0.07 और जर्मनी का डैक्स 0.02 प्रतिशत की गिरावट में रहा। हालांकि ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे के खिलाफ आए अविश्वास प्रस्ताव में मे की जीत से ब्रेग्जिट को लेकर निवेशक आशान्वित हुए हैं। अमेरिका और चीन के बीच संबंधों में सुधार की संभावना से एशियाई बाजारों में चीन का शंघाई कंपोजिट 1.23, हांगकांग का हैंगसेंग 1.29, जापान का निक्की 0.99 और दक्षिण कोरिया का कोस्पी 0.23 प्रतिशत की तेजी में रहा।

चीन ने अमेरिका से 5 लाख टन के करीब सोयाबीन खरीदने और अमेरिका निर्मित वाहनों तथा कलपुर्जों पर टैरिफ को 40 फीसदी से घटाकर 15 फीसदी करने पर सहमति जताई है जिससे दोनों देशों के बीच संबंध सुधार के प्रयास के संकेत मिलते हैं। बीएसई के 20 समूहों में मात्र 3 के सूचकांक लाल निशान में रहे। ऊर्जा में 0.01 प्रतिशत, दूरसंचार में 0.44 प्रतिशत और धातु में 0.66 प्रतिशत की गिरावट रही।

इसके अलावा बेसिक मटिरियल्स में 0.18 प्रतिशत, सीडीजीएंडएस में 0.75, एफएमसीजी में 0.86, वित्त में 0.68, स्वास्थ्य में 0.19, इंडस्ट्रियल्स में 0.90, आईटी में 0.79, यूटिलिटीज में 0.36, ऑटो में 0.85, बैंकिंग में 0.45, पूंजीगत वस्तु में 1.27, सीडी में 1.40, तेल एवं गैस में 0.69, बिजली में 0.18, रियल्टी में 1.19, टेक में 0.66 और पीएसयू में 0.60 प्रतिशत की तेजी रही।

सेंसेक्स की 30 कंपनियों में से 17 बढ़त में रहीं। विप्रो में 2.64 प्रतिशत, इंफोसिस में 2.62, कोटक महिंद्रा बैंक में 2.56, मारुति सुजुकी में 2.18, एलएंडटी में 1.77, टाटा मोटर्स में 1.56, इंडसइंड बैंक में 1.53, हीरो मोटोकॉर्प में 1.33, भारतीय स्टेट बैंक में 1.17, ओएनजीसी में 1.13, महिंद्रा एंड महिंद्रा में 1.12, हिंदुस्तान यूनीलीवर में 0.76, एचडीएफसी बैंक में 0.75, पावर ग्रिड में 0.60, वेदांता में 0.50, एचडीएफसी में 0.20 और एनटीपीसी में 0.18 प्रतिशत की तेजी रही।

इसके अलावा यस बैंक के शेयरों की कीमत में 6.48 प्रतिशत, सन फार्मा में 2.12, टीसीएस में 1.74, टाटा स्टील में 1.57, अदानी पोटर्स में 1.01, एशियन पेंट्स में 0.64, भारती एयरटेल में 0.41, बजाज ऑटो में 0.40, रिलायंस इंडस्ट्रीज में 0.33, आईसीआईसीआई बैंक में 0.31, एक्सिस बैंक में 0.19 और आईटीसी में 0.02 प्रतिशत की गिरावट रही।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख जेवराती खरीद में नरमी से सोना लुढ़का, चांदी में रही चमक