Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

रोहित से सिर्फ आमने सामने नहीं कप्तानी में भी टकराएगा यह कीवी गेंदबाज

webdunia
मंगलवार, 16 नवंबर 2021 (18:22 IST)
रोहित शर्मा जब जयपुर में खेले जाने वाले पहले टी-20 मैच के लिए बल्लेबाजी के लिए उतरेंगे तो सामने गेंद लिए टिम साउदी से उनका कम से कम दूसरे ओवर में तो सामना हो ही जाएगा क्योंकि वह नई गेंद से गेंदबाजी करते हैं। 
 
हालांकि पिच पर आमने सामने होने से पहले रोहित शर्मा को टिम साउदी के सामने टॉस भी जीतना होगा क्योंकि इस बार सामने केन विलियमसन नहीं बल्कि टिम साउदी होंगे। न्यूजीलैंड क्रिकेट टीम के कप्तान केन विलियम्सन भारत के खिलाफ बुधवार से शुरू हो रही टी-20 सीरीज नहीं खेलेंगे।
 
न्यूजीलैंड क्रिकेट ने मंगलवार को इसकी पुष्टि करते हुए कि विलियम्सन टी-20 सीरीज के बाद होने वाली टेस्ट सीरीज पर ध्यान केंद्रित करेंगे। उनकी गैर मौजूदगी में अनुभवी खिलाड़ी टिम साउदी टीम की कप्तानी संभालेंगे।
 
कम ही देखा जाता है कि टी-20 क्रिकेट में किसी गेंदबाज को कप्तानी सौंपी जाए। हालांकि श्रीलंका का एक बेहतरीन गेंदबाज (लसिथ मलिंगा) कप्तानी कर टीम के लिए टी-20 विश्वकप जीत चुका है। इसके अलावा हाल ही में टी-20 विश्वकप से पहले दक्षिण अफ्रीका ने स्पिनर केशव महाराज को कप्तानी सौंपी थी जिसने टीम को 2-1 से टी-20 सीरीज जीतकर टीम को दी।
webdunia
कप्तानी के बाद आमने सामने होगा जोरदार मुकाबला
 
रोहित शर्मा न्यूजीलैंड के खिलाफ 14 पारियों में 352 रन बनाने वाले सबसे सफल बल्लेबाज हैं। यही नहीं किसी भी भारतीय द्वारा न्यूजीलैंड के खिलाफ सर्वाधिक टी-20 स्कोर रोहित शर्मा (80) ने ही बनाया है। टिम साउदी भी टी-20 की 11 पारियों में भारत के 13 विकेट चटका चुके हैं। 
 
रोहित पर भारी हैं साउदी
 
रोहित शर्मा को टिम साउदी टी-20 में 3 बार आउट कर चुके हैं। रोहित महज 111 की स्ट्राइक रेट से ही साउदी पर रन बना पाए हैं। इसके अलावा पिछली बार जब यह दोनों टीमें न्यूजीलैंड के मैदान पर मिली थी तो रोहित शर्मा का विकेट साउदी ने ही लिया था। रोहित महज 22 गेंदो में 23 रन बना पाए थे।
 
उम्मीद है लंबे समय तक बायो-बबल में नहीं खेलना पड़ेगा : साउदी
 
न्यूजीलैंड के कार्यवाहक कप्तान टिम साउदी का मानना है कि बायो बबल में लंबा समय बिताने से क्रिकेटरों के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर असर पड़ता है और उम्मीद जतायी कि उन्हें लंबे समय तक जैव सुरक्षित वातावरण में नहीं खेलना पड़ेगा।
 
न्यूजीलैंड की टीम को दुबई में आस्ट्रेलिया के खिलाफ टी20 विश्व कप का फाइनल खेलने के 72 घंटे बाद भारत में तीन मैचों की द्विपक्षीय श्रृंखला खेलनी है जो पांच दिन के अंदर समाप्त होगी।साउदी सितंबर में आईपीएल के दूसरे चरण के शुरू होने से ही बायो बबल में हैं। उन्होंने कहा कि कोविड काल में कार्यक्रम तैयार करना उनके नियंत्रण से बाहर है लेकिन इसका खिलाड़ियों पर प्रभाव पड़ता है।
 
उन्होंने कहा, ’’पिछले दो वर्षों में दुनिया में जो कुछ हुआ उससे बायो बबल और पृथकवास के साथ चीजें काफी मुश्किल बन गयी हैं और कुछ समय बाद इसका असर देखने को मिलता है।’’
 
साउदी भारत के खिलाफ दो टेस्ट मैचों की श्रृंखला के लिये भी टीम के साथ बने रहेंगे जबकि नयी गेंद के उनके जोड़ीदार ट्रेंट बोल्ट टी20 श्रृंखला के बाद स्वदेश लौट जाएंगे।साउदी ने कहा, ‘‘हम नहीं जानते कि भविष्य में क्या होने वाला है। हमें बायो बबल में रहकर खेलना जारी रखना होगा या नहीं और मुझे लगता है कि पृथकवास नियम के कारण आप पर अधिक दबाव बनता है।’’
webdunia
कप्तान केन विलियमसन को टेस्ट श्रृंखला से पहले विश्राम दिया गया है। टी20 श्रृंखला में उनकी जगह साउदी टीम की अगुवाई करेंगे।साउदी जानते हैं कि कुछ चीजें उनके नियंत्रण से बाहर की हैं।
 
उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए यह ऐसा कुछ है जिस पर हम नियंत्रण नहीं कर सकते। हमें इसकी आदत डालकर इसके अनुकूल होना चाहिए लेकिन इसका असर पड़ता है। मैं कुछ ऐसे खिलाड़ियों को जानता हूं जो लंबे समय से बायो बबल में रहे हैं और कुछ समय बाद उन पर इसका प्रभाव पड़ा। उम्मीद है कि हमें लंबे समय तक बायो बबल में रहने की जरूरत नहीं पड़ेगी।’’
 
इस तेज गेंदबाज ने कहा कि पूरी श्रृंखला के दौरान खिलाड़ियों के कार्यभार पर अच्छी तरह से गौर किया जाएगा।
उन्होंने कहा, ‘‘हां, यह ऐसा कुछ है जिस पर हमें गौर करना होगा। पांच दिन के अंदर तीन मैच खेलना और इस बीच यात्रा करना और फिर दो दिन के बाद हम टेस्ट श्रृंखला खेलेंगे।’’
 
साउदी ने कहा, ‘‘पूरे दौरे के दौरान खिलाड़ियों के कार्यभार पर गौर किया जाएगा। हमारे पास वे 15 खिलाड़ी भी हैं जो विश्व कप टीम में शामिल थे और मुझे लगता है कि उनका भी पूरी श्रृंखला में उपयोग किया जाएगा।’’

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

टी-20 विश्वकप के बाद अगर एशेज भी ऑस्ट्रेलिया को जिता देते हैं कोच लैंगर तो कह सकते हैं अलविदा