Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

तालिबान पर भारी पड़ रहे पंजशीर के लड़ाके, मिल रही कड़ी टक्‍कर

webdunia
सोमवार, 23 अगस्त 2021 (19:07 IST)
तालिबान का काबुल पर कब्जे के बाद अभी भी अफगानिस्तान के पंजशीर पर नियंत्रण नहीं है। ऐसे में पंजशीर प्रांत पर कब्जे के लिए बड़ी संख्या में तालिबानी लड़ाके पहुंच रहे हैं। तालिबान ने भले ही काबुल पर कब्जा कर लिया हो, लेकिन अफगानिस्तान के पंजशीर इलाके में उसके मंसूबे कामयाब नहीं हो सके हैं। तालिबान को यहां पंजशीर के लड़ाकों से कड़ी टक्‍कर मिल रही है।

पंजशीर के इस इलाके को 20 साल पहले भी तालिबान कब्जाने में नाकामयाब रहा था और एक बार फिर पंजशीर को कब्जाने की उसकी कोशिश को करारा झटका लगा है। विद्रोहियों ने 300 से ज्यादा तालिबानी इलाकों को मार गिराया है।

पंजशीर में विद्रोहियों की फौज मौजूद है। पंजशीर पर कब्जा तालिबान के लिए आसान नहीं होगा, क्योंकि यहां अहमद शाह मसूद के बेटे अहमद मसूद सीनियर विद्रोही लड़ाकों के साथ तालिबान को पस्त करने के लिए तैयार हैं।
webdunia

अहमद मसूद का कहना है कि हम युद्ध और बातचीत दोनों के लिए ही तैयार हैं। उन्‍होंने कहा, हमने तालिबान को समझौते का न्योता भी दिया है। मसूद ने यह भी कहा है कि अगर तालिबान ने घाटी में घुसने की हिमाकत की तो वो उसका विरोध करेंगे।

अफगानिस्तान के 34 प्रांतों में से पंजशीर इकलौता ऐसा प्रांत है जहां तालिबान कब्जा नहीं कर सका है। अफगानिस्तान के उप राष्ट्रपति रहे अमरूल्ला सालेह ने ट्विटर पर लिखा कि तालिबान लड़ाके प्रांत के आसपास एकत्रित हो गए हैं।
ALSO READ: दबाव के लिए तालिबान पर आर्थिक प्रतिबंध चाहता है ब्रिटेन
वहीं दूसरी ओर तालिबान के प्रवक्ता जबील्ला मुजाहिद का कहना है कि उन्होंने पंजशीर प्रांत को घेरना शुरू कर दिया है। तालिबान की योजना पंजशीर के लोगों से बात करने की है। प्रवक्ता ने कहा, अभी तक तो वहां लड़ाई नहीं हो रही। हम पंजशीर के लिए शांतिपूर्ण समाधान खोजना चाहते हैं।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से कहा- किसान आंदोलन का कुछ तो हल निकालो, सड़कें जाम करना ठीक नहीं