Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

हक्कानी नेटवर्क को काबुल की कमान, क्‍या होगा भारत पर असर...

webdunia
शनिवार, 21 अगस्त 2021 (21:03 IST)
अफगानिस्तान पर खूंखार आतंकी संगठन ता‍लिबान के कब्‍जे के बाद उसने राजधानी काबुल का जिम्मा अपने एक सहयोगी आतंकी गुट हक्कानी नेटवर्क को सौंपा है। कहा जाता है कि हक्‍कानी नेटवर्क तालिबान से भी ज्‍यादा खूंखार है। इतना ही नहीं, पाकिस्तान से सीधा संबंध होने की वजह से भी यह आतंकी संगठन अब भारत के लिए बड़ी चिंता का कारण बन गया है।

अफगानिस्तान पर अपने कब्‍जे के बाद तालिबान ने राजधानी काबुल का जिम्मा अपने एक सहयोगी आतंकी संगठन हक्कानी नेटवर्क को सौंपा है। हक्कानी संगठन का नाम कई आतंकी हमलों में शामिल रहा है, जिनमें में से 2 घटनाएं भारतीय दूतावास पर बड़े आत्मघाती हमले से जुड़ी हैं।

वहीं दूसरी ओर इसका पाकिस्तान से सीधा संबंध होने की वजह से भी यह आतंकी संगठन अब भारत के लिए बड़ी चिंता का कारण बन गया है। हक्कानी की पहचान पहली बार 1980 के दशक में मुजाहिद्दीनों के सोवियत सेना के खिलाफ लड़े जा रहे युद्ध के दौरान हुई थी।
webdunia

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई ने पहली बार अफगानिस्तान में 2 आतंकी संगठनों को साथ लाने में भूमिका निभाई। इसी के बाद से हक्कानी नेटवर्क और तालिबान साथ बने हुए हैं।अफगानिस्तान में सोवियत सेना के खिलाफ जंग हो या गृहयुद्ध, हक्कानी नेटवर्क को पाकिस्तान से लगातार मदद मिलती रही।
ALSO READ: सोशल मीडिया पर तालिबान का समर्थन करने पर असम में 14 लोग गिरफ्तार
कुछ खाड़ी देश भी इस क्रूर संगठन की फंडिंग में शामिल रहे हैं। हक्कानी नेटवर्क का नाम अफगानिस्तान में कई बड़े हमलों में शामिल रहा है। इनमें सैकड़ों की संख्या में अफगान नागरिक, अमेरिका और अन्य देशों की सेनाओं के जवानों और सरकारी अफसरों की मौत हुई।
ALSO READ: बंदूक लेकर अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड के दफ्तर पहुंचे तालिबानी, यह है मायने
इस संगठन में 10 हजार से लेकर 15 हजार आतंकी होने का अनुमान है। वर्तमान में हक्कानी नेटवर्क को सिराजुद्दीन संभाल रहा है और अगर अफगानिस्तान में तालिबान की सरकार बनती है, तो सिराज को उपराष्ट्रपति भी बनाया जा सकता है। इसके अलावा सिराज के छोटे भाई अनस हक्कानी को काबुल की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

केरल में Coronavirus के 17000 से ज्यादा केस, कर्नाटक में 1350