Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

नड्डा बोले, बीजेपी गांधीजी और पटेल को याद करती है और कुछ लोग जिन्ना को

webdunia

अवनीश कुमार

सोमवार, 22 नवंबर 2021 (20:17 IST)
गोरखपुर। उत्तरप्रदेश के गोरखपुर में चंपादेवी पार्क मैदान में आयोजित 12 संगठनात्मक जिलों के 27,637 बूथ अध्यक्षों के सम्मेलन में राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि भाजपा जहां महात्मा गांधी और सरदार पटेल को याद करती है, वहीं कुछ लोग चुनाव आते ही जिन्ना को याद करने लगे हैं। जिन्ना जैसे संकीर्ण विचार वाले नेताओं का नाम लेकर राजनीति करने वाले लोगों की सोच भी जनता तक पहुंचनी चाहिए। उन्होंने बूथ अध्यक्षों और कार्यकर्ताओं से कहा कि घर-घर जाकर यह संदेश दीजिए कि जिन्नावादियों को घर बैठाइए और बीजेपी के विकासराज से खुद को जोड़िए।
 
राष्ट्रीय अध्यक्ष ने विपक्षी दलों पर हमला और तेज करते हुए कहा कि भाजपा में आंतरिक प्रजातंत्र है जबकि दूसरे दलों में परिवारतंत्र। बीजेपी का बूथ अध्यक्ष व साधारण कार्यकर्ता भी प्रदेश अध्यक्ष और मुख्यमंत्री बन सकता है जबकि दूसरे दलों में सिर्फ परिवार ही पनप सकता है। उन पार्टियों के कार्यकर्ता और दूसरे नेता सिर्फ एक परिवार के नाम पर ताली बजाने में फंसकर रह गए हैं।
 
उन्होंने कहा कि भाजपा सांस्कृतिक राष्ट्रवाद लेकर चलती है और वे (विपक्षी दल) वंशवाद। हम सबको साथ लेकर चलते हैं तो वो सिर्फ वोटबैंक का साथ लेकर चलते हैं। हम अंत्योदय में विश्वास करते हैं, वो परिवार उदय में। वहां सब कुछ अपने लिए है। और तो और, अब अपने लिए ही वे इतने केंद्रित हो गए कि चाचा के लिए भी सोचना छोड़ दिया।
 
हमारे नेता मोदी-योगी : जेपी नड्डा ने कहा कि मैं तो यहां बूथ अध्यक्षों के सम्मेलन में आया था लेकिन यहां तो जनसभा दिख रही है। हर तरफ केसरिया ही केसरिया है। यह केसरिया किसी वर्ग या जाति विशेष का नहीं है बल्कि समाज के सभी वर्गों का प्रतिनिधित्व करने वाला है। कार्यकर्ताओं में जोश भरते हुए उन्होंने कहा कि आपकी ताकत पूरी दुनिया जानती है। आप दुनिया की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी के कार्यकर्ता हैं। आप चुनाव में छाती ठोंककर कहेंगे कि हमारे नेता मोदी-योगी हैं जिन्होंने देश और प्रदेश के विकास के लिए पल-पल काम किया है। उन्होंने कहा कि मोदी-योगी की जनसभा होगी तो सारे मैदान छोटे पड़ जाएंगे।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

चुनाव से पहले बड़ा दांव, UP में बेटियों के जन्म पर मिलेंगे 50 हजार