Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

हाथ में फोटो लिए 2 माह से बेटे को तलाश रही है बूढ़ी मां, पुलिसकर्मी उड़ाते हैं मजाक

हमें फॉलो करें webdunia

अवनीश कुमार

बुधवार, 9 नवंबर 2022 (16:21 IST)
कानपुर देहात। कानपुर देहात में आंख में आंसू और हाथ में अपने बेटे की फोटो लिए एक वृद्ध मां अपने बेटे को तलाश पिछले 2 महीने से कर रही है और दर-दर की ठोकरें खा रही हैं, पर बेटे का कोई पता आज तक नहीं लग सका है। पुलिस ने भले ही गुमशुदगी दर्ज कर ली हो लेकिन आज तक पुलिस भी बूढ़ी मां के बेटे को ढूंढकर नहीं ला सकी है। बेटे की तलाश में बूढ़ी मां दर-दर की ठोकरें खा रही हैं और अधिकारियों की चौखट के चक्कर भी लगा रही है और उम्मीद है एक न एक दिन वह अपने जवान बेटे को ढूंढ लेगी।
 
दर-दर की खा रही हैं ठोकरें : कानपुर देहात के थाना रूरा क्षेत्र के गांधीनगर कस्बा रूरा निवासिनी श्यामलता दीक्षित का बेटा बीते 20 अगस्त 2022 को बिना कुछ बताए घर से चला गया और फिर लापता हो गया था जिसकी सूचना बुजुर्ग मां ने थाने में दर्ज कराई थी। पुलिस को सूचना देने के बाद खुद बुजुर्ग मां ने बेटे की तलाश शुरू कर दी, पर बेटे का कहीं कुछ पता नहीं चला।
 
वृद्धा का आरोप है कि वह एक बार फिर पुलिस की चौखट पर जा पहुंची और अपने बेटे को ढूंढने की गुहार लगाई लेकिन पुलिस ने मामले को गंभीरता से नहीं लिया जिसके बाद वह पुलिस अधीक्षक कार्यालय भी गई और पुलिस अधीक्षक को शिकायती पत्र देते हुए अपने बेटे को ढूंढने की मांग की लेकिन वहां से भी उसे निराशा ही हाथ लगी। आज 2 महीने से ज्यादा बीत जाने के बाद भी बुजुर्ग मां अपने बेटे को ढूंढने के लिए दर-दर की ठोकरें खा रही हैं। 
अब तो पुलिसकर्मी उड़ाते हैं मजाक : बुजुर्ग मां ने बताया कि मेरे पति की एक्सीडेंट में मृत्यु हो गई थी जिसके सदमे से मेरी बेटी की भी उसी दिन मौत हो गई थी। एकसाथ दो अर्थियां देखने से मैं टूट चुकी थीं और अब मेरा इकलौता सहारा मेरा बेटा भी लापता हो गया है।
 
वृद्धा ने बताया कि मैंने बड़ी उम्मीद लगाकर पुलिस से न्याय की गुहार लगाई थी लेकिन अब 2 महीने बीत जाने के बाद भी कुछ पता नहीं चला है। और अब जब मैं थाने जाती हूं तो वहां पर मौजूद पुलिसकर्मी उल्टे मुझसे ही पूछते हैं कि बेटा लौटकर आया कि नहीं आया? तो मैंने एक दिन गुस्से में कहा कि आ गया होता तो मैं यहां क्यों आती? और ढूंढकर लाने का काम तो आपका है।
 
वृद्धा ने रोते हुए बताया कि पुलिसकर्मी उसे देखकर हंसते हैं और उसका मजाक उड़ाते हैं। वृद्ध ने यह भी बताया कि 1 दिन उसने थाने के अंदर हंस रहे पुलिसकर्मियों से नाराजगी व्यक्त की तो कुर्सी पर बैठे बड़े साहब ने कहा कि माताजी बैठो, हम ढूंढकर लाते हैं आपके बेटे को। लेकिन पुलिसकर्मियों के मजाक से तंग आकर अब हमने थाने जाना भी बंद कर दिया है।
 
क्या बोले अधिकारी? : कानपुर देहात के थाना रूरा के इस मामले को लेकर जब पुलिस अधिकारियों से संपर्क करने का प्रयास किया गया तो खबर लिखे जाने तक संपर्क नहीं हो पाया था।
 
Edited by: Ravindra Gupta

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

सुनक सरकार के कैबिनेट मंत्री ने अपने पद से दिया इस्तीफा, जानिए क्यों