क्या राहुल गांधी ने की देश छोड़ने की बात...जानिए सच...

शुक्रवार, 18 अक्टूबर 2019 (12:40 IST)
महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव के लिए राजनीतिक पार्टियों का प्रचार-प्रसार जोरों से चला रहा है। इसी बीच सोशल मीडिया पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) का एक वीडियो काफी वायरल हो रहा है। वीडियो में राहुल गांधी देश छोड़कर लंदन जाने और अपने बच्चों को अमेरिका में पढ़ाने की बात कर रहे हैं। इस कथित बयान के कारण राहुल गांधी सोशल मीडिया के निशाना पर आ गए हैं।
 
क्या है वायरल वीडियो में- 
 
शिरोमणि अकाली दल (SAD) नेता मनजिंदर सिंह सिरसा (Manjinder Singh Sirsa) ने अपने ट्विटर हैंडल से यह वीडियो शेयर कर लिखा- ‘बस इसलिए भारत की जनता को तुम पसंद नहीं हो @RahulGandhi’।
 
वीडियो में राहुल बोलते सुनाई दे रहे हैं- ‘कुछ नहीं होने वाला मैं तो लंदन चला जाऊंगा,  मेरे बच्चे तो अमेरिका में जाकर पढ़ेंगे। मेरा हिंदुस्तान से कुछ लेना-देना नहीं है, मेरे पास हजारों करोड़ रुपये हैं, मैं तो कभी भी चला जाऊंगा।’


 
बीजेपी नेत्री प्रीति गांधी (Priti Gandhi) सहित कई अन्य यूजर्स ने भी यह वीडियो शेयर किया है।

क्या है सच-
 
वेबदुनिया की पड़ताल में पता चला कि राहुल गांधी ने ये बात बैंक धोखाधड़ी मामले के आरोपी नीरव मोदी (Nirav Modi) और मेहुल चोकसी (Mehul Choksi) के संदर्भ में कही थी। ये बात राहुल गांधी ने महाराष्ट्र के लातूर में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कहा था। पूरा वीडियो कांग्रेस के यूट्यूब चैनल पर उपलब्ध है। वीडियो के 15.12 मिनट के बाद आप राहुल गांधी को बोलते सुन सकते हैं- ‘नीरव मोदी, मेहुल चोकसी अच्छी नींद लेते हैं, बिना कोई डर, कुछ नहीं होने वाला मैं तो लंदन चला जाऊंगा, मेरे बच्चे तो जाके अमेरिका में पढ़ेंगे। मेरा हिंदुस्तान से कुछ लेना-देना नहीं है, मैं तो नरेंद्र मोदी जी का मित्र हूं, मेरे पास तो हजारों करोड़ रुपया है, मैं तो कभी भी चला जाऊंगा। यह हिंदुस्तान की सच्चाई है।’
 

यह स्पष्ट है कि वीडियो के साथ काट-छांट की गई है। वीडियो में से ‘नीरव मोदी’, ‘मेहुल चोकसी’ और ‘नरेंद्र मोदी’ वाला हिस्सा हटाकर गलत तरीके से पेश किया गया है। ये वीडियो पूरी तरह से झूठ और भ्रामक है।
 
बता दें कि छत्तीसगढ़ कांग्रेस आईटी सेल (Chhattisgarh Congress IT Cell) ने इस मामले में थाने में शिकायत भी दर्ज कराई है।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख 7 दिन तक पोर्ट करा सकेंगे मोबाइल नंबर, 11 नवंबर से नई 'पोर्टेबिलिटी' व्यवस्था