Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

पश्चिम बंगाल : क्रिकेटर से राजनेता बने टीएमसी प्रत्याशी मनोज तिवारी के लिए आसान नहीं है शिवपुर का मैदान

webdunia
शुक्रवार, 9 अप्रैल 2021 (18:52 IST)
हावड़ा (पश्चिम बंगाल)। पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के नए चेहरे एवं टीम इंडिया के पूर्व बल्लेबाज मनोज तिवारी को हावड़ा के शिवपुर निर्वाचन क्षेत्र में मुश्किल राजनीतिक मैदान का सामना करना होगा जहां उनके विरोधी और भाजपा उत्तीदवार भी शानदार खिलाड़ी रह चुके हैं और गुगली फेंकने में माहिर हैं।

भाजपा ने इस सीट पर चुनाव से पहले टीएमसी छोड़ पार्टी में शामिल हुए डॉ. रतिन चक्रवर्ती को उतारा है जो 
हावड़ा के महापौर भी रह चुके हैं जिनका आरोप है कि उन्हें औद्योगिक शहर को विकसित नहीं करने दिया 
गया। वाम मोर्चे ने फॉरवर्ड ब्लॉक के अनुभवी नेता डॉ. जगन्नाथ भट्टाचार्य को अपना प्रत्याशी बनाया है जो 
चौथी बार इस सीट से अपनी किस्मत आजमा रहे हैं।

भारतीय टीम के लिए तीन टी20 और 12 एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच खेल चुके दाहिने हाथ के बल्लेबाज तिवारी को अपने चुनावी सफर की शुरुआत में ही झटका लग चुका है क्योंकि इस सीट से तीन बार टीएमसी विधायक रहे जातू लाहिड़ी विधानसभा चुनावों में टिकट नहीं मिलने पर पार्टी छोड़कर भाजपा में शामिल हो चुके हैं।

इस सीट पर मजबूत पकड़ बनाए रखने वाले 84 वर्षीय लाहिड़ी ने 1991 और 1996 में कांग्रेस उम्मीदवार के तौर पर यहां से जीत हासिल की है। टीएमसी के क्रिकेटर उम्मीदवार को पार्टी के सार्वजनिक हुए आंतरिक मतभेदों के कारण भी चुनौती का सामना करना पड़ रहा है जहां जिले के कुछ वरिष्ठ नेताओं और पूर्व पार्षद ने उम्मीदवारों की सूची में नाम न होने की वजह से प्रदर्शन किए।

लाहिड़ी ने टीएमसी के टिकट पर 2011 में फॉरवर्ड ब्लॉक प्रत्याशी, भट्टाचार्य को करीब 46,000 मतों से हराया था और पांच साल बाद फिर इस सीट से जीत हासिल की थी हालांकि जीत का अंतर 27,000 ही रह गया था। भाजपा उस वक्त इस सीट पर कहीं भी नजर नहीं आती थी। पार्टी को 2011 एवं 2016 में क्रमश: 3967 एवं 13367 मत मिले थे।

यहां 2019 के आम चुनाव में बड़ा फेरबदल देखने को मिला था जब भगवा लहर की मदद से भाजपा के हावड़ा सदर प्रत्याशी रंतीदेब सेनगुप्ता को इस विधानसभा में 66644 मत मिले और वह उस वक्त के टीएमसी सांसद एवं भारतीय फुटबॉल टीम के पूर्व कप्तान प्रसून जोशी को मुख्य चुनौती देने वाले उम्मीदवार के तौर पर उभरे।

पिछले लोकसभा चुनाव के दौरान टीएमसी को यहां 45335 मत मिले थे, जबकि माकपा को 19933 मतों से संतोष करना पड़ा था। रतिन चक्रवर्ती के भाजपा में शामिल होने के बाद मध्य हावड़ा के कई स्थानों पर शहर के पूर्व महापौर के पोस्टर लगाकर उन्हें अवसरवादी और विश्वासघाती बताया गया।

भाजपा के डॉक्टर प्रत्याशी ने कहा, उन्होंने यहां कई जगहों पर मेरे खिलाफ पोस्टर लगाए, लेकिन हावड़ा के लोगों को पता है कि बतौर महापौर मैंने शहर के लिए क्या किया है।प्रख्यात होम्योपैथ डॉक्टर भोलानाथ चक्रवर्ती के बेटे और भाजपा प्रत्याशी को इस सीट पर सत्तापलट की उम्मीद है। उनका मनोबल इस बात से बढ़ा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह ने यहां बैठकें की हैं।

पार्टी का केंद्रीय नेतृत्व सीट से जीत की उम्मीद कर रहा है, जहां अल्पसंख्यक वोट न के बराबर है। बंगाल क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान तिवारी ने कहा कि वह राजनीति में लंबी पारी खेलना चाहते हैं और सार्वजनिक जीवन में उनकी भूमिका जीवनभर की प्रतिबद्धता है।

सत्तारूढ़ पार्टी भी इस सीट को अपने पास बरकरार रखने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रही है जहां मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी चुनावी बैठक की थी। इसके अलावा टीएमसी सांसद अभिषेक बनर्जी ने भी तिवारी के समर्थन में रोड शो किया।

लेफ्ट-कांग्रेस-भारतीय सेक्युलर मोर्चा समर्थित फॉरवर्ड ब्लॉक प्रत्याशी भी पार्टी की खोई जमीन को वापस पाने के मुश्किल काम का सामना कर रहे हैं।शिवपुर विधानसभा सीट पर मतदान चौथे चरण के चुनाव में 10 अप्रैल को होना है।(भाषा) 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के पति प्रिंस फिलिप का 99 वर्ष की उम्र में निधन