Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

सप्ताह के 7 दिन और पैसा लेनदेन, जानिए उधार कब दें और कब लेने से बचें

हमें फॉलो करें webdunia
Money astrology प्रत्येक व्यक्ति को जीवन में कभी न कभी अपनी जरूरतों की पूर्ति के लिए कर्ज लेना ही पड़ता है। कई बार व्यक्ति कर्ज को जल्दी चुकाने की इच्छा रखता है, लेकिन कर्ज का अंत नहीं आता है। कर्ज के लेन-देन में वार का भी विशेष महत्व होता है। यदि व्यक्ति को किसी कारणवश कर्ज लेना पड़े तो वार देखकर लेना हितकर रहेगा। 
 
आइए जानते हैं किस वार को कर्ज लें, और किस दिन उधार दें-udhar kis din den o kab chukaye
 
सोमवार- 
सोमवार की अधिष्ठाता देवी पार्वती हैं। यह चर संज्ञक और शुभ वार है। इस वार को किसी भी प्रकार का कर्ज लेने-देने में हानि नहीं होती है। 
 
मंगलवार- 
मंगलवार के देवता कार्तिकेय हैं। यह उग्र एवं क्रूर वार है। इस वार को कर्ज लेना शास्त्रों में निषेध बताया गया है। इस दिन कर्ज लेने के बजाए पुराना कर्ज हो तो चुका देना चाहिए।
 
बुधवार- 
बुधवार के देवता विष्णु हैं। यह मिश्र संज्ञक शुभ वार है, मगर ज्योतिष की भाषा में इसे नपुंसक वार माना गया है। यह गणेश जी का वार है। इस दिन कर्ज देने से बचना चाहिए। 
 
गुरुवार- 
गुरुवार के देवता ब्रह्मा हैं। यह लघु संज्ञक शुभ वार है। गुरुवार को किसी को भी कर्ज नहीं देना चाहिए, लेकिन इस दिन कर्ज लेने से कर्ज जल्दी उतरता है। 
 
शुक्रवार- 
शुक्रवार के देवता इंद्र हैं। यह मृदु संज्ञक और सौम्य वार है। कर्ज लेने-देने दोनों दृष्टि से अच्छा वार है। 
 
शनिवार- 
शनिवार के देवता काल हैं। यह दारुण संज्ञक क्रूर वार है। स्थिर कार्य करने के लिए ठीक है, परंतु कर्ज लेन-देने के लिए ठीक नहीं है। कर्ज विलंब से चुकता है। 
 
रविवार- 
रविवार के देवता शिव हैं। यह स्थिर संज्ञक और क्रूर वार है। रविवार को न तो कर्ज दें और न ही कर्ज लें। 
 
कर्ज मुक्ति का विशेष उपाय :

कर्ज के पिंड से छुटकारा नहीं हो रहा हो तो प्रत्येक बुधवार को गणेश जी के सम्मुख 3 बार 'ऋणहर्ता गणेश स्तोत्र' का पाठ करें और यथाशक्ति पूजन करें।
 
- संदीप फाफरिया 'सृजन' 

webdunia
Vastu n Money

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

श्राद्ध की पंचमी को कुंवारा पंचमी क्यों कहते हैं?