Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

Mangal Gochar : 4 जनवरी 2022 तक मंगल हैं इस खास राशि में, जानिए क्या चल रहा है आपकी जिंदगी में

Mars Transit : मंगल का राशि परिवर्तन, किस राशि पर कैसा असर

webdunia
मंगल इन दिनों वृश्चिक राशि में गोचर कर रहे हैं। 4 जनवरी 2022 तक मंगल इस राशि में स्वग्रही होकर उपस्थित रहेंगे। मंगल का ये गोचर या कहें कि मंगल का राशि परिवर्तन 12 राशियों पर क्या और कैसा असर दे रहा है आइए जानते हैं विस्तार से... 
वृश्चिक राशि में मंगल अपने प्रभाव में संपूर्णता एवं अच्छा परिणाम देते हैं। मंगल के स्वगृही होने से रूचक नामक पंचमहापुरुष राजयोग बन रहा है। मंगल भूमि , भवन, वाहन, ऊर्जा, पावर , पराक्रम, बल पौरुष, सेनापति, सैन्य पुलिस बल, आग, बिजली, भाई, मित्र, घमंड, इलेक्ट्रॉनिक आदि के कारक हैं। 
 
मेष राशि और वृश्चिक राशि के स्वामी है मंगल। कर्क राशि में नीच एवं मकर राशि में उच्चता को प्राप्त करते हैं। ले‍किन राहु की दृष्टि मंगल पर आने से मंगल के शुभ फलों में कमी होगी तथा मंगल आक्रामकता में वृद्धि करेंगे। साथ ही राहु के प्रभाव से समस्त कारक तत्वों में अवरोध प्राप्त होगा। 
 12 राशियों पर असर
मेष :
*वाणी के तीव्रता व मनोबल में वृद्धि 
*पराक्रम एवं पारिवारिक काम होंगे
*व्यापार, आय एवं भाग्य के लिए शुभ 
*ऊर्जा शक्ति, कार्य क्षमता में तनाव  
*सेहत की पुरानी समस्या में राहत
कष्ट की स्थिति भी बन सकती है
वृष : 
*दाम्पत्य जीवन बेहतर, रोमांस में मधुरता 
*विवाह के प्रयास सार्थक होंगे
*परिश्रम, कार्य क्षमता एवं संकल्प शक्ति बढ़ेगी 
*धन में वृद्धि एवं व्यापार में विस्तार 
*पारिवारिक कार्यो पर खर्च
*यात्रा पर खर्च होगा
मिथुन :
*शत्रु पर विजय
*लाभ के एवं आय के साधनों में वृद्धि 
*भाग्य में अवरोध,पिता की सेहत का ध्यान रखें 
*यात्रा में खर्च के योग 
*मानसिक चिंता की स्थिति
*नौकरी, कार्य क्षेत्र में परिवर्तन की संभावना
*क्रोध में तीव्रता बढ़ेगी      
कर्क :
*राजयोग कारक, धन वृद्धि, सम्मान में वृद्धि
*नौकरी, व्यवसाय, कर्म क्षेत्र में वृद्धि
*अध्ययन-अध्यापन में रुचि, पढ़ाई उत्तम
*संतान पक्ष से लाभ, संतान को लाभ
*पेट की समस्या, रोग,कर्ज,शत्रु समाप्त
*भाग्य में वृद्धि, पिता का स्वास्थ्य सानिध्य प्राप्त
*मीडिया से जुड़े लोगों को लाभ
सिंह :
*आय एवं लाभ में वृद्धि,माता का साथ
*गृह-वाहन के साथ सुख के साधनों में वृद्धि
*पढ़ाई,अध्ययन-अध्यापन के लिए समय ठीक
*संतान से, संतान को लाभ,बुद्धि का प्रयोग लाभ
*वाणी पर नियंत्रण से दाम्पत्य /प्रेम संबंध ठीक
*मान-सम्मान में सकारात्मक बदलाव 
*भाग्य का साथ प्राप्त होगा 
webdunia

कन्या : 
*पराक्रम में वृद्धि , सामाजिकता में वृद्धि
*भाई बहनों का सहयोग सानिध्य प्राप्त होगा
*क्रोध एवं चिड़चिड़ाहट  में वृद्धि
*रोग, कर्ज एवं शत्रुओ पर विजय
*सामाजिक कार्यो में लाभ
*पेट की समस्या तंग कर सकती है। 
तुला :
*धनागम, लाभ एवं आय के साधनों मे वृद्धि
*वाणी व्यवसाय से जुड़े लोगों को लाभ
*परिवार में खर्च की स्थिति बनेगी 
*नए व्यापार की शुरूआत
*रोग,ऋण,शत्रु पराजित,प्रतियोगिता में विजय
*दाम्पत्य जीवन/प्रेमसंबंध से वृद्धि, प्रगति
वृश्चिक :
*मनोबल ठीक, आय के साधनों में वृद्धि
*परिश्रम,कार्य क्षेत्र, व्यापारिक विस्तार का योग
*रोग, कर्ज, शत्रु पर विजय, 
*पढ़ाई बेहतर, शोध  के लिए समय ठीक, 
*गृह एवं वाहन से संबंधित सुसमाचार, 
*व्यक्तित्व में सकारात्मक परिवर्तन
धनु :
*बुद्धिमत्ता के आधार पर कार्य क्षेत्र में परिवर्तन 
* विद्याध्ययनके लिए समय उत्तम परंतु खर्च
* राज्य सम्मान, पराक्रम, भाई- बहनों का सहयोग
*संतान पक्ष से शुभ समाचार
*क्रोध में अधिकता, दाम्पत्य व प्रेम संबंध से तनाव
*पुराना विवाद हल होगा। 
मकर : 
*लाभ एवं सुख में वृद्धि के योग 
*व्यापारिक गतिविधियों में वृद्धि
*भाई बहनों का सहयोग सानिध्य, धन वृद्धि
* वाहन खरीदी को लेकर प्रगति, सुख वृद्धि
*पढ़ाई एवं संतान के क्षेत्र में वृद्धि संभव 
*रुके हुए कार्य होंगे, शत्रु पराजित
कुंभ :
*स्वयं में ऊर्जा की वृद्धि महसूस करेंगे
*कार्य क्षमता बढ़ेगी, कार्य क्षेत्र में सम्मान,वर्चस्व में वृद्धि
*कार्य स्थल पर सम्मान
*झल्लाहट एवं क्रोध में वृद्धि
*गृह वाहन माता के सहयोग सानिध्य में वृद्धि
*संतान नौकरी व्यापार में वृद्धि के योग बनेंगे
मीन :
*पराक्रम, कार्य क्षेत्र परिवर्तन या विस्तार
*सम्मान, पद प्रतिष्ठा में परिवर्तन वृद्धि के साथ
*क्रोध ,ईगो एवं गलतफहमी में वृद्धि
*जमीन जायदाद स्थिर धन में वृद्धि
*घरेलू खर्च एवं यात्रा ख़र्च के योग में वृद्धि 
*वाणी व्यवसाय से जुड़े लोगों को लाभ

ALSO READ: Dhanu Sankranti : गुरु के घर में सूर्य, किसके लिए शुभ, किसके लिए अशुभ
webdunia
 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

Datta Purnima 2021 : त्रिदेवों के शक्तिपुंज भगवान दत्तात्रेय की जयंती