Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

राहु की चाल किसे करेगी परेशान, कौन होगा मालामाल, मेष से लेकर मीन तक जानिए हाल

हमें फॉलो करें webdunia
मंगलवार, 8 फ़रवरी 2022 (17:08 IST)
Rahu transit in Aries: करीब 18 साल 7 महीने बाद राहु मेष राशि में प्रवेश करेगा। अगले वर्ष राहु 12 अप्रैल 2022 को सुबह 10:36 बजे वृषभ राशि से मेष राशि में गोचर करेगा। राहु हमेशा वक्री चाल ही चलता है। वक्री अर्थात उल्टी चाल में ही वह भ्रमण करता है।
 
 
राहु और केतु का असर : मेष, वृषभ, मकर और धनु के लिए राहु केतु का गोचर शुभ नहीं है जबकि मिथुन, कर्क, तुला और वृश्चिक के लिए यह शुभ होगा। बाकि के लिए सामान्य रहेगा।
 
1. मेष राशि (Aries): मेष राशि के जातकों के लिए अप्रैल माह 2022 में राहु लग्न राशि के दूसरे भाव से निकलकर पहले में गोचर करेगा। ऐसे में आपको अपमान या अचानक किसी समस्या का सामना करना पड़ सकता है। इसके अलावा यहां स्थित राहु रोग और दुःख भी देता है। यह आपके जीवन के हर क्षेत्र में उथल-पुथल मचा देगा। 
 
2. वृषभ राशि (Taurus): राहु आपकी राशि के लग्न भाव में गोचर कर रहे हैं जो अशुभ माना जाता है। इसके बाद राहु 12वें भाव में गोचर करेगा तो खर्चें बड़ा देगा और सेहत को बिगाड़ देगा।
 
3. मिथुन राशि (Gemini): राहु आपकी राशि के 12वें भाव से 11वें भाव में जब गोचर करेगा तब आपको अचानक से धन की प्राप्ति होने के योग बनेंगे। नौकरीपेशा हैं तो वेतन में वृद्धि होगी और व्यपारी हैं तो मुनाफा होगा। आय के साधन बढ़ेंगे आपकी के लिए राहु का गोचर शुभ साबित होगा।
 
 
4. कर्क राशि (Cancer): राहु आपकी राशि के 11वें भाव से निकलकर 10वें भाव में प्रवेश करेगा। ऐसे में आपकी सुख-सुविधाओं का विस्तार होगा। आर्थिक स्थित मजबूत होगी। हालांकि यदि आप नौकरी करते हैं तो कार्यस्थल पर आपको अपने दुश्मनों से सावधान रहना होगा। व्यापारियों का मुनाफा बढ़ेगा।
 
5. सिंह राशि (Leo): राहु आपकी राशि के 10वें भाव से निकलकर 9वें भाव में प्रवेश करेगा। पिता से संबंधों को अच्छा बनाकर रखना होगा अन्यथा नुकसान होगा। यात्राओं पर अधिक खर्च होगा। नौकरी में चुनौति का सामना करना पड़ सकता है। व्यापार में सतर्क रहें। रिश्तों में आपसी मतभेद बढ़ सकते हैं।
 
 
6. कन्या राशि (Virgo): राहु आपकी राशि के 9वें भाव से निकलकर 8वें भाव में प्रवेश करेगा। इस दौरान आपकी अंतर्ज्ञान, गूढ़ रहस्यों और विज्ञान में रुचि बढ़ जाएगी। सेहत का ध्यान रखें, चोट लगने की भी संभावना है। कार्यस्थल पर चुनौति का सामना करना पड़ सकता है। लेन-देन में सावधानी रखें।
 
7. तुला राशि (Libra): राहु आपकी राशि के आठवें भाव से निकलकर सातवें भाव में प्रवेश करेगा। इस गोचर से अचानक से धन प्राप्ति हो सकती है। नौकरी में परिवर्तन हो सकता है। व्यपार में नई रणनीति बनने की संभावना है। यात्रा के योग बन रहे हैं। दांपत्य जीवन में सतर्क रहने की जरूरत है। 
 
8. वृश्चिक राशि (Scorpio): राहु आपकी राशि के सातवें भाव से निकलकर छठे भाव में प्रवेश करेगा। इस गोचर से नौकरीपेशा हैं तो पदोन्नति होने की संभावना है और व्यापारी हैं तो लाभ प्राप्त होगा। करियर की दृष्टि से यह गोचर शुभ है। आपको सेहत का विशेष ध्यान रखना होगा।
 
9. धनु राशि (Sagittarius): आपकी राशि में राहु छठे के बाद अप्रैल 2022 में पंचम भाव में प्रवेश करेगा। इस भाव में राहु आय और व्यापार में तो शुभ फल प्रदान करता है लेकिन प्रेम संबंधों, परिवार, बच्चों और शेयर बाजार आदि कार्यों के लिए अच्छा नहीं होता है।
 
 
10. मकर राशि (Capricorn): राहु आपकी राशि में अगले वर्ष अप्रैल में चतुर्थ भाव में गोचर करेगा। यह समय करियर, नौकरी, जमीन-जायदाद और माता की सेहत के लिए अच्छा नहीं होगा। राहु के प्रभाव से जॉब और प्रॉपर्टी समेत अन्य मामलों में परेशानी का सामना करना पड़ेगा।
 
11. कुंभ राशि (Aquarius): राहु आपकी राशि के चौथे भाव से निकलकर तीसरे भाव में प्रवेश करेगा। इस दौरान आपका आत्मविश्‍वास और निर्णय लेने की क्षमता बढ़ जाएगी। नौकरी में स्थानांतरण के योग हैं। व्यापार में कुछ नया करने में सफल होंगे। भाई-बहनों और दोस्तों संबंध बनाकर रखें।
 
 
12. मीन राशि (Pisces): राहु आपकी राशि के तीसरे भाव से निकलकर दूसरे भाव में गोचर करेगा। इस दौरान अनिश्‍चितताओं का दौर रहेगा। वाणी पर संयम रखें। मां की सेहत का ध्यान रखें। गले और दांत संबंधी रोग हो सकता है।
 
डिस्क्लेमर : यह जानकारी ज्योतिष मान्यता, गोचर की प्रचलित धारणा आदि पर आधारित है। इसकी पुष्टि वेबदुनिया नहीं करता है। पाठक ज्योतिष के किसी जानकार से पूछकर ही कोई निर्णय लें।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

Jaya Ekadashi 2022: जया एकादशी व्रत कब है, जानें पूजन के शुभ मुहूर्त, कथा और पारण समय