ज़ायरा वसीम के अभिनय छोड़ने पर क्या कहते हैं टीवी कलाकार

हाल ही में ज़ायरा वसीम ने धार्मिक कारणों का हवाला देते हुए बॉलीवुड छोड़ दिया। आइए जानते हैं कि टीवी अभिनेताओं को इसके बारे में क्या कहना है।

अंश बागड़ी: मेरा मानना ​​है कि कोई भी धर्म आपको आपके काम से नहीं रोकेगा और अगर ऐसा है, तो यह किसी व्यक्ति विशेष के लिए है। हमारे पास शाहरुख खान, आमिर खान हैं, जो एक ही धर्म के हैं, और इस उद्योग में सफलतापूर्वक काम कर रहे हैं। मुझे लगता है कि यह सिर्फ कुछ लोग हो सकते हैं जिन्होंने उस पर दबाव डाला होगा। यह सब बातें समझने के लिए वे बहुत छोटी हैं। कोई भी कलाकार धर्म से ऊपर है और लोगों का मनोरंजन करना हमारा धर्म है। जो लोग कहते हैं कि उनका धर्म उन्हें अनुमति नहीं देता है, यह गलत है। मुझे लगता है कि ज़ायरा सिर्फ एक बच्ची हैं और उन्होंने दुनिया को ज्यादा नहीं देखा है और किसी के धर्म को समझने के लिए काफी परिपक्व होना पड़ता है।
 
मल्हार पंड्या: ज़ायरा के बारे में, मैं सबसे पहले यह उल्लेख करना चाहूंगा कि वह बेहतरीन अदाकारा हैं। बहुत स्वाभाविक हैं। उनकी पहली फिल्म दंगल में उनका काम देख मैं उनका प्रशंसक बन गया। इसलिए मुझे यह जानकर थोड़ी निराशा हुई कि वह इस क्षेत्र को छोड़ रही हैं। यह पूरी तरह से उसका फैसला है और हम इसका पूरा सम्मान करते हैं, लेकिन इसे अपने धर्म से जोड़ना अनुचित है। कला, संस्कृति और मनोरंजन के खिलाफ धर्म कभी नहीं होता है। ज़ायरा के फैसले के पीछे का असली कारण केवल वही जानती हैं, लेकिन मैं उनके भविष्य के लिए शुभकामनाएं देता हूं।
 
सुबुही जोशी: मेरा मानना ​​है कि कला का कोई भी रूप आपके और आपके धर्म के बीच कभी भी आ सकता है। कोई भी कलाकार हो, एक अभिनेता हो, एक चित्रकार हो, कवि हो, उनके लिए, उनका काम ही उनका धर्म है, लेकिन अगर किसी भी क्षण वह इस तरह के एहसास से गुजरता है कि उसका काम रूक रहा है या उनके धर्म के प्रति उनके विश्वास को बाधित कर रहा है, फिर उस व्यक्ति को उस पेशे को छोड़ने का निर्णय बिल्कुल सही है, हम इसे जज करने वाले कोई नहीं हैं। भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश है जहाँ भारत का कोई भी नागरिक किसी भी धार्मिक या आध्यात्मिक मार्ग पर चलने के लिए स्वतंत्र है। लेकिन 5 साल तक उद्योग में काम करने के बाद अगर कोई कलाकार यह तय करता है कि जीवन के बारे में कुछ और खोज की जानी है तो मैं उसे इस नई यात्रा के लिए शुभकामनाएं देता हूं। लेकिन मैं यह भी दृढ़ता से महसूस करता हूं, कि इस तरह की चीजों को एक घोषणा की आवश्यकता नहीं है।
 
रेहान रॉय: ज़ायरा वसीम बेहद प्रतिभाशाली अभिनेत्री हैं। अगर वह अपना अभिनय करियर छोड़ना चाहती है, तो यह उनकी पसंद है और मैं उसका सम्मान करती हूं। फिल्म उद्योग एक ऐसी जगह है जहाँ हम सभी जाति, धर्म या किसी भी मतभेद के बावजूद प्यार से काम करते हैं। हर धर्म हमें एक दूसरे से प्यार करना सिखाता है। फिल्म उद्योग छोड़ना उनकी निजी पसंद है, लेकिन इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया पर इसे पोस्ट करना और फिल्म उद्योग को दोष देना, एक स्टंट लगता है।
 
निशांत मल्कानी: ज़ायरा वसीम के बारे में मुझे हमेशा लगता था कि वह एक दिन सुपरस्टार बनने वाली है। वह खूबसूरत अभिनेत्री हैं और अपने काम को अच्छी तरह से जानती हैं और यह दुखद है कि धर्म जैसी चीज किसी व्यक्ति को फलने-फूलने से रोक सकती है। मैं एक संदेश देना चाहूंगा और मुझे आशा है कि वह इसे पढ़ेगीं- ''उन लोगों से परेशान न हों, जो आपकी आलोचना करते हैं और आपको ठेस पहुंचाते हैं।'


 
इरा सोन: यह एक बहुत ही व्यक्तिगत पसंद है और आप अपने जीवन को कैसे आकार देते हैं यह आपकी पसंद है, लेकिन मुझे लगता है कि धर्म को आपके करियर को आगे बढ़ाने में बाधा नहीं बनना चाहिए। वास्तव में, धर्म आपको खुशहाल और स्वस्थ जीवन जीने के लिए प्रेरित करता है।
 
आस्था चौधरी: मुझे लगता है कि अगर जायरा वसीम ने ऐसा कोई फैसला लिया है तो हमें उस पर सवाल उठाने के बजाय उसे स्वीकार करना चाहिए और उसका सम्मान करना चाहिए। ऐसी कई अभिनेत्रियाँ हैं, जिन्होंने शादी करने के बाद इंडस्ट्री छोड़ दी, हम उनसे सवाल नहीं करते कि फिर यह क्यों? यह उद्योग में शामिल होने का उनका विकल्प था और जो भी कारण हो उसे छोड़ना उनकी पसंद है।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख हिमेश रेशमिया की कार का एक्सीडेंट, ड्राइवर की हालत गंभीर