बॉलीवुड 2018 : हिट-फ्लॉप फिल्म और फिल्म स्टार्स के प्रदर्शन पर एक नजर

2017 की तुलना में 2018 बॉलीवुड के लिए अच्छा रहा। सफल फिल्मों का ग्राफ ऊंचा हुआ। निर्माता भी अब किसी भी फिल्म का बजट कितना हो ये तय करना सीख गए हैं, इस कारण फिल्मों का बॉक्स ऑफिस पर प्रदर्शन सुधर गया। 2018 की खास बात यह रही कि फिल्में स्टारों के दम पर ही सफल नहीं हुई बल्कि अपनी अनोखी कहानी और प्रस्तुतिकरण के बलबूते पर भी फिल्म सफल हुईं। इसे एक अच्छा संकेत माना जाना चाहिए। वैसे टिकट के बढ़ते दाम, घटते दर्शक चिंता का विषय हैं। सिंगल स्क्रीन सिनेमाघरों की हालत और खराब है क्योंकि उनके दर्शकों के पसंद के अनुरूप फिल्में बहुत कम बन रही है। मल्टीप्लेक्स को साल में कुछ ऐसी फिल्में आकर बचा लेती हैं जो टिकट खिड़की पर अच्‍छे खासे दर्शक जुटा लेती है। साथ ही फिल्म को अन्य स्रोतों से भी पैसे मिलने लगे हैं। इधर वेब-सीरिज बड़ा खतरा बन कर उभरी हैं। फिल्म और टीवी सीरियल में एक निश्चित दायरे में काम करना होते हैं, लेकिन वेबसीरिज में यह दायरा विस्तृत हो जाता है और इन सीरिज़ को भरपूर दर्शक मिल रहे हैं। कुल मिलाकर सिनेमाघर तक दर्शकों को खींचना दिन-ब-दिन मुश्किल होता जा रहा है। बड़े स्टार्स भी अब हांफ जाते हैं। तमाम परेशानियों के बीच कुछ हिंदी फिल्मों ने बॉक्स ऑफिस पर बेहतरीन प्रदर्शन किया। 


 
ब्लॉकबस्टर फिल्में 
ब्लॉकबस्टर फिल्में वो होती हैं जिससे फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े हर वर्ग को भरपूर पैसा मिले, चाहे वो निर्माता हो, डिस्ट्रीब्यूटर्स हो, सिंगल स्क्रीन के मालिक हों या मल्टीप्लेक्स वाले हों। इन फिल्मों को देखने के लिए खूब दर्शक आते हैं जिससे कैंटीन वाला भी कमा लेता है और साइकल-कार स्टैंड वाला भी। रणबीर कपूर की 'संजू' बिना किसी छुट्टी वाले दिन या त्योहार पर रिलीज हुई और रिकॉर्ड तोड़ कमाई की। रणबीर के करियर की यह सबसे बड़ी हिट फिल्म साबित हुई। कुछ ऐसा ही हाल रहा पद्मावत का। तमाम विरोध के बावजूद पद्मावत का प्रदर्शन हुआ और दर्शकों ने फिल्म को सफल बना कर विरोध करने वालों को ठेंगा दिखा दिया। हालांकि भारत के कुछ हिस्से में अब तक यह फिल्म रिलीज नहीं हो पाई है। 

ALSO READ: बॉलीवुड 2018 : अभिनेताओं का स्कोरकार्ड

सुपरहिट फिल्में 
सुपरहिट फिल्मों की श्रेणी देखी जाए तो इस में ऐसी फिल्मों के नाम हैं जिनमें बड़े स्टार नहीं हैं। ये कंटेंड बेस्ड फिल्में हैं और इन्होंने बेहतरीन कमाई कर दिखा दिया कि फिल्मों के चलने के लिए अच्छी कहानी, स्क्रिप्ट, अभिनय और निर्देशन की भी जरूरत होती है, केवल सितारों के बल पर ही सफल फिल्में नहीं बनाई जा सकती। बधाई हो ने दर्शकों को खूब हंसाया और परिवार सहित इस फिल्म का आनंद लिया गया। स्त्री भी खूब पसंद की गई। राज़ी में केवल आलिया भट्ट सितारा थीं और नायिका प्रधान फिल्म होने के बावजूद यह सौ करोड़ से ज्यादा का कलेक्शन करने में कामयाब रहीं। सोनू के टीटू की स्वीटी युवा वर्ग के लिए बनाई गई थी और उन्होंने इस फिल्म को हाथों-हाथ लिया। टाइगर श्रॉफ अभिनीत फिल्म 'बागी 2' की कामयाबी ने फॉर्मूला फिल्मों के दबदबे को दर्शाया। यदि फॉर्मूला फिल्में सही तरीके से बनाई जाए तो आज भी कामयाबी हासिल की जा सकती है। इस फिल्म की ओपनिंग ऐतिहासिक थी और सिंगल स्क्रीन सिनेमाघरों में फिल्म ने शानदार प्रदर्शन किया। डब फिल्म 2.0 के हिंदी वर्जन ने भी बॉक्स ऑफिस पर शानदार प्रदर्शन किया और इस फिल्म का हिंदी वर्जन सुपरहिट साबित हुआ। 


 
हिट फिल्में 
आयुष्मान खुराना की थ्रिलर मूवी 'अंधाधुन' ने अच्छे खासे दर्शक जुटाए। वहीं जॉन अब्राहम की 'परमाणु' और 'सत्यमेव जयते' अलग-अलग जॉनर की फिल्म होने के बावजूद हिट रहीं। वरुण धवन और अनुष्का शर्मा ने 'सुई धागा' में अपना स्टारडम छोड़ अति साधारण लुक अपनाया और फिल्म सफल रही। जाह्नवी कपूर की पहली फिल्म 'धड़क' भी हिट रही। वीरे दी वेडिंग में सभी महिला कलाकार थीं, लेकिन बॉक्स ऑफिस पर इस फिल्म ने अच्‍छे-खासे दर्शक जुटाए। अजय देवगन और अक्षय कुमार जैसे सितारों की फिल्म 'रेड' और 'पैडमैन' हिट जरूर रही, लेकिन उम्मीद इससे ज्यादा की थी। 

ALSO READ: बॉलीवुड 2018 : अभिनेत्रियों का स्कोरकार्ड


 
औसत फिल्में 
इस श्रेणी में शामिल फिल्मों ने लागत पर थोड़ा मुनाफा कमाया। कुछ को विभिन्न राइट्स की कीमतों ने बचाया। अक्षय कुमार की 'गोल्ड' बॉक्स ऑफिस पर औसत साबित हुई। सूरमा, 102 नॉट आउट, अक्टोबर, परी और हिचकी का भी बॉक्स ऑफिस पर प्रदर्शन औसत रहा। हिचकी का प्रदर्शन उम्मीद से ज्यादा अच्‍छा रहा।  


 
फ्लॉप फिल्में 
सूची तो बहुत लंबी है, लेकिन बात उन फिल्मों की जिनसे उम्मीद बहुत ज्यादा की थी। इस बार जो फिल्म असफल रही वो बुरी तरह असफल रही, फिल्मों में लगाया गया लगभग सारा पैसा डूब गया। बड़ी फ्लॉप फिल्मों में आमिर खान की 'ठग्स ऑफ हिन्दोस्तान' सबसे ऊपर है। करोड़ों की लागत से तैयार इस फिल्म को दिवाली का त्योहार भी डूबने से नहीं बचा पाया। फिल्म बहुत ही घटिया थी। इसी तरह सलमान खान की फिल्म 'रेस 3' भी असफल रही। क्रिसमस पर शाहरुख खान की जीरो भी जीरो साबित हुई। खान्स को खराब फिल्म करने का खामियाजा भुगतना पड़ा। साथ ही संदेश भी गया कि आप कितने ही बड़े सितारे क्यों न हों, दर्शकों को हल्के से नहीं ले सकते। सलमान खान की 'लवयात्री' के गाने हिट रहे, पर फिल्म फ्लॉप हुई। बत्ती गुल मीटर चालू की बॉक्स ऑफिस पर बत्ती गुल हो गई। यमला पगला दीवाना फिर से में दर्शकों ने बिलकुल भी रूचि नहीं ली। यही हाल कमल हासन की करोड़ों की फिल्म 'विश्वरूप 2' का रहा। पलटन और लैला मजनू को भी दर्शक नहीं मिला। नमस्ते इंग्लैंड को दर्शकों ने दूर से ही नमस्ते कर लिया। फन्ने खां भी दर्शकों को रिझा नहीं पाया। मुल्क, मंटो, मनमर्जियां बेहतरीन फिल्में थीं, लेकिन इन्हें तारीफ मिली, दर्शक नहीं। 


 
हॉलीवुड का दबदबा 
साल दर साल हॉलीवुड फिल्मों का दबदबा भी बढ़ता जा रहा है। यहां हिंदी में डब हॉलीवुड फिल्मों की बात हो रही है। एवेंजर्स : इन्फिनिटी वार ब्लॉकबस्टर साबित हुई। इस फिल्म ने लगभग 222 करोड़ रुपये का कलेक्शन कर सभी को हैरान कर दिया। मिशन इम्पॉसिबल - फॉलआउट, इनक्रेडिबल्स 2 और जुरासिक वर्ल्ड : फॉलन किंगडम भी हिट रहीं। जबकि वेनम, आंटमैन एंड द वास्प, डेडपूल 2, रैम्पैज, ब्लैक पेंथर और द नन का बॉक्स ऑफिस पर प्रदर्शन औसत रहा। मल्टीप्लेक्स और बड़े शहरों में इन हॉलीवुड फिल्मों को बेहतरीन रिस्पांस मिला है। 


 
कम होता स्टार्स का जलवा 
बॉलीवुड के बड़े सितारे इस साल खास कामयाबी नहीं बटोर पाए। आमिर खान. शाहरुख खान और सलमान खान की फिल्में असफल रहीं। अक्षय कुमार की 2.0 जरूर सुपरहिट रही, लेकिन इसमें 'रजनी' का योगदान ज्यादा है। उनकी पैडमैन और गोल्ड को अपेक्षा से कम सफलता मिली। यही हाल अजय देवगन की रेड का भी रहा। रणबीर कपूर और रणवीर सिंह के लिए यह साल यादगार रहा। दोनों ने तीन सौ करोड़ का कलेक्शन करने वाली ब्लॉकबस्टर फिल्में दीं। रणबीर की वापसी उल्लेखनीय रही। वरुण धवन की फिल्मों की चमक कम रही, लेकिन इससे उनके स्टारडम पर खास फर्क नहीं पड़ा। अर्जुन कपूर और सिद्धार्थ मल्होत्रा लगातार पिछड़ते जा रहे हैं। टाइगर श्रॉफ ने ऊपर की सीढ़ियां चढ़ीं। उनकी बागी 2 की धमाकेदार ओपनिंग ने अच्छे-अच्छे सितारों की नींद उड़ा दी। जॉन अब्राहम की वापसी भी अच्‍छी रही और दो हिट फिल्मों के बाद उनकी पूछ-परख बढ़ गई। बधाई हो और अंधाधुन के बाद आयुष्मान खुराना भी स्टार बन गए हैं। यही बात राजकुमार राव के बारे में भी कही जा सकती है। सनी देओल, गोविंदा और संजय दत्त अब बीते जमाने की बात होते जा रहे हैं। इरफान खान की बीमारी उनकी फिल्मों से ज्यादा चर्चित रही। सोनू के टीटू की स्वीटी के बाद कार्तिक आर्यन का कद भी बढ़ा है। अभिषेक बच्चन फ्लॉप एक्टर का ठप्पा मिटा नहीं पा रहे हैं। शाहिद कपूर पद्मावत से आगे हुए तो बत्ती गुल ने फिर उन्हें उसी जगह पहुंचा दिया। 


 
परदे की परियां 
अभिनेत्रियों की कमी महसूस की जा रही है। हालांकि इस वर्ष जाह्नवी कपूर और सारा अली खान ने उम्मीद जगाई है कि वे बॉलीवुड में लंबी इनिंग खेलेंगी। प्रियंका को तो निक जोनास और शादी से ही फुर्सत नहीं मिली। दीपिका बेहद चूज़ी हो गई हैं और पद्मावत ने उनका कद और ऊंचा कर दिया है। कैटरीना कैफ को 'ठग्स ऑफ हिन्दोस्तान' की असफलता ने जोरदार झटका दिया है। मात्र दो गाने और दो दृश्यों के लिए उन्होंने यह फिल्म की। आलिया भट्ट ने 'राज़ी' को कामयाबी दिला कर दर्शा दिया कि अब वे बड़ी स्टार बन गई हैं। अनुष्का शर्मा का ग्राफ ऊंचा हो गया है। संजू जैसी ब्लॉकबस्टर और सुई धागा जैसी हिट उन्होंने दी। परी में उनका अभिनय पसंद किया गया। श्रद्धा कपूर का नाम 'स्त्री' जैसी सुपरहिट फिल्म से जुड़ा। जैकलीन फर्नांडिस रेस में पिछड़ रही हैं। यही हाल हैप्पी फिर भाग जाएगी की सोनाक्षी सिन्हा का है। तापसी पन्नू की फिल्में भले ही असफल रही हों, लेकिन मुल्क और मनमर्जियां में उनका अभिनय लंबे समय तक याद किया जाएगा। दो साल बाद बड़े परदे पर नजर आईं करीना कपूर ने वीरे दी वेडिंग जैसी हिट फिल्म देकर दिखा दिया है कि लोकप्रियता उनकी अभी भी बनी हुई है। सोनम कपूर की तीनों फिल्में (पैडमैन, वीरे दी वेडिंग और संजू) सफल रहीं, लेकिन चर्चा में उनकी शादी रही। 

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख हर्षवर्धन कपूर करना चाहते हैं शाहरुख की लाड़ली सुहाना संग रोमांस