Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

Corona and your Pets: आपके ‘पेट्स’ को कहीं आपसे कोरोना का खतरा तो नहीं?

हमें फॉलो करें webdunia
नीदरलैंड्स में एक नई रिसर्च सामने आई है, इस रिसर्च में वैज्ञानिकों को पता लगा है कि बहुत बड़ी तादाद में कुत्ते और बिल्लियां कोविड का शिकार हो रहे हैं। वैज्ञानिकों का मानना है कि इंसानों से यह वायरस पालतू जानवरों में जा रहा है।

जब से दुनियाभर में कोरोना वायरस महामारी फैलनी शुरू हुई है, ये सवाल भी बार-बार पूछा जाने लगा है कि क्‍या जानवर भी इस महामारी से संक्रमित हो सकते हैं। कई लोगों ने कहा कि जानवर कोविड से संक्रमित नहीं हो सकते हैं। इन सबसे अलग अब अगर वैज्ञानिकों की मानें तो कोविड संक्रमित व्‍यक्ति अगर क्‍वारंटाइन में है या आइसोलेशन में रह रहा है तो उसे अपने पालतू जानवरों से भी दूर रहना होगा।

रिसर्च में पता लगा है कि बहुत बड़ी तादाद में कुत्ते और बिल्लियां कोविड का शिकार हो रहे हैं। वैज्ञानिकों का मानना है कि इंसानों से यह वायरस पालतू जानवरों में जा रहा है। नीदरलैंड्स के उट्रेष्ट विश्वविद्यालय के डॉ. एल्स ब्रोएन्स कहते हैं कि लगभग 20 फीसदी जानवरों को अपने मालिक से कोविड होने का खतरा है। हालांकि इसका ठीक उल्‍टा, यानी पालतू जानवरों से उनके मालिकों को होने वाले संक्रमण की कोई ठोस जानकारी नहीं मिली है।

डॉ. ब्रोएन्स कहते हैं, ‘अच्‍छी बात यह है कि इस वायरस से जानवर बहुत ज्यादा बीमार नहीं होते’ ब्रोएन्स के रिसर्च को इसी हफ्ते यूरोपीयन कांग्रेस ऑफ माइक्रोबायॉलजी एंड इन्फेक्शियस डिजीज में पढ़ा गया है। रिसर्च के लिए उन्होंने 196 घरों के 156 कुत्तों और 154 बिल्लियों को शामिल किया गया था। जिन घरों से पालतू जानवरों को लिया गया थो वहां पर कोई एक सदस्य कोविड से संक्रमित हुआ था।

डॉ. ब्रोएन्स ने पाया कि करीब 17 प्रतिशत जानवर, यानी 31 बिल्लियां और 23 कुत्तों में कोविड-19 के खिलाफ लड़ने वालीं एंटीबॉडीज मौजूद थीं। यानी उन्हें कोरोनावायरस का संक्रमण हो चुका था। साथ ही, छह बिल्लियों और सात कुत्तों यानी करीब 4 प्रतिशत को अध्ययन के वक्त भी कोविड था, जिसका पता पीसीआर टेस्ट से चला।

जांच के बाद शोधकर्ताओं ने पाया कि ये जानवर बहुत जल्द ठीक हो गए थे और इन्होंने उसी घर में रहने वाले दूसरे जानवरों को भी बीमार नहीं किया था। ऐसा माना जाता है कि कोविड-19 चमगादड़ों से इंसानों में आया है। महामारी फैलने के शुरुआती महीनों में ही यह बात पता चल गई थी कि गैर स्तनधारी जानवर भी इस वायरस से संक्रमित हो सकते हैं, लेकिन वे गंभीर रूप से बीमार नहीं होते और जल्दी ही इससे उबर जाते हैं। फिलहाल जो जानकारी है उसके मुताबिक ऊदबिलाव ही ऐसा जानवर है जिसे इंसानों से कोई संक्रमण मिल सकता है और वो दूसरे जानवरों को भी संक्रमित कर सकता है।

ब्रोएन्स कहते हैं कि, ‘बहुत से मालिक अपने पालतू जानवरों के बहुत करीबी संपर्क में रहते हैं। एक ही बिस्तर में सोते हैं। उनका संपर्क कितना करीबी होता है. ऐसे में संक्रमण हो सकता है’

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

लिंचिंग करने वाले हिन्दुत्व विरोधी, इस्लाम खतरे में होने के भय चक्र में न फंसें मुसलमान, सभी भारतीयों का DNA एक : मोहन भागवत