Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

सावधान, देश में फिर कोरोना का खतरा बढ़ा, महाराष्ट्र के 2 जिलों में लगा कर्फ्यू, केरल में हालात बेकाबू

webdunia
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp
share
मंगलवार, 23 फ़रवरी 2021 (20:20 IST)
नई दिल्ली। देश में कोरोनावायरस का प्रकोप फिर बढ़ता हुआ दिखाई दे रहा है। देश के 2 राज्यों महाराष्ट्र और केरल में संक्रमण के मामले बढ़ते जा रहे हैं। कोरोना के बढ़ते मामलों के कारण अकोला जिले के 2 इलाकों में संक्रमण रोकने के लिए कर्फ्यू लगाया गया है। अकोला SDO श्रीकांत देशपांडे ने बताया कि कर्फ्यू 1 तारीख तक लगाया गया है। इस दौरान रोजमर्रा की जरूरी चीजें 3 बजे तक खुली रहेंगी। अनावश्यक चीजों की दुकानें बंद रहेंगी।
ALSO READ: सावधान! कोरोना महामारी अभी नहीं हारी!
स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि केरल और महाराष्ट्र में अभी भी कोरोना के 75% सक्रिय मामलों की संख्या बनी हुई है। केरल में देश के लगभग 38% सक्रिय मामले हैं। महाराष्ट्र में देश के लगभग 37% सक्रिय मामले हैं। महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटों में 6,218 नए कोरोना के मामले सामने आए और 51 मौतें दर्ज की गईं।
प्रदेश में एक्टिव मामलों की संख्या 53,409 है। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार मंगलवार को 1 बजे तक 1,17,54,788 लोगों को कोरोना वैक्सीन दी जा चुकी है। निर्धारित लक्ष्य के 68% स्वास्थ्यकर्मियों को वैक्सीन की पहली डोज दी गई और 62% स्वास्थ्यकर्मियों को वैक्सीन की दूसरी डोज दी गई। निर्धारित के 41% से अधिक फ्रंटलाइन वर्कर्स को पहली डोज दी जा चुकी है।
 
साउथ अफ्रीका के स्ट्रेन के 6 मामले : नीति आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल ने इस बात की जानकारी दी कि भारत में साउथ अफ्रीकन स्ट्रेन के 2 और केस की पुष्टि हुई है। इसके बाद अब तक 6 लोग इससे संक्रमित पाए गए हैं। यूके स्ट्रेन के अब तक 187 मामले सामने आए हैं। एक शख्स में ब्राजील वाले स्ट्रेन की पुष्टि हुई है। इससे पहले 16 फरवरी को सरकार की तरफ से यह जानकारी दी गई थी कि 4 लोगों में साउथ अफ्रीका स्ट्रेन की पुष्टि हुई है। उसके बाद 2 और साउथ अफ्रीकन स्ट्रेन सामने आए हैं।

Share this Story:
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

webdunia
योगेंद्र यादव बोले, आने वाली पीढ़ी के लिए दरवाजे बंद कर देंगे नए कृषि कानून