Badi elaichi : कफ, सर्दी, जुकाम से लेकर पेट दर्द तक बड़ी इलायची के 20 फायदे आपको हैरान कर सकते हैं

Black Elaichi


इन दिनों जब कि सेहत को लेकर विशेष जागरूकता बरती जा रही है, कोरोना को लेकर भय व्याप्त है, हम आपको बता रहे हैं कि घर में रहते हुए कफ, सर्दी और जुकाम से प्राथमिक तौर पर कैसे बचा जा सकता है। बड़ी इलायची एक कारगर औषधि है। यहां कोरोना से बचने का दावा हरगिज नहीं किया जा रहा है लेकिन कफ खोलने के लिए बड़ी इलायची का प्रयोग बरसों से वैद्य आयुर्वेदाचार्य करते आ रहे हैं।   
 
सबसे आसान तरीका यह है कि बड़ी इलायची को छिलके समेत भून लीजिए। पूरी इलायची जब भून कर बड़ी होने लगे तब उसे किसी साफ बरतन में रखकर ठंडी कर लीजिए। इसके भीतर के कुरकुरे दाने मुंह में रखें और थोड़ी देर तक चबाएं। यह एक अच्छा माउथ फ्रेशनर भी है। 
 
आइए जानें कुछ और बातें बड़ी इलायची के बारे में 
 
बड़ी इलायची का औषधीय प्रयोग भी किया जाता है। इसे काली इलायची (Black Elaichi) के नाम से भी जाना जाता है।  
 
आुयर्वेद के अनुसार, बड़ी इलायची पित्त शांत करने वाली, नींद लाने वाली, भोजन में रूचि पैदा करने काम करती है। यह हृदय एवं लीवर को स्वस्थ बनाती है। बड़ी इलायची भूख बढ़ाती है, भोजन को पचाती है, मुंह की बदबू दूर करती है। यह पेट की गैस को खत्म करती है, उल्टी बंद करती है, घावों को भरती है। इसके प्रयोग से पेशाब खुल कर आता है, बुखार उतर जाता है।
 
इसकी एक प्रजाति मोरंग इलायची भी होती है। आयुर्वेद के अनुसार, बड़ी इलायची की तासीर यानी उसका वीर्य उष्ण यानी गरम होता है। बड़ी 
 
इलायची की मुख्य प्रजाति के अतिरिक्त एक और प्रजाति पाई जाती है जिसका प्रयोग चिकित्सा के लिए किया जाता है –
 
Amomum subulatum (बड़ी इलायची)
Amomum aromaticum Roxb. (एलाकर्पूर)
 
 
अन्य भाषाओं में बड़ी इलायची के नाम
बड़ी इलायची का लैटिन नाम एमोमम् सुब्युलेटम Syn-Cardamomum subulatum (Roxb Kuntz,   Amomum 
subulatum Roxb है। यह जिंजिबेरेसी (Zingiberaceae) कुल का है। 
 
English (Badi Elaichi In English) – इण्डियन कार्डेमम (Indian cardamom), ब्लैक कार्डेमम (Black cardamom), बेंगाल कार्डेमम (Bengal cardamom),

Nepal or Greater cardamom (नेपाल अथवा ग्रेटर कार्डेमम) Tamil (Black Cardamom In Tamil) – पेरेलम (Perelam), पेरियायेलम (Periyayelam)
 
Hindi (Black Cardamom In Hindi) – बड़ी इलायची, पूर्वी इलायची, लाल इलायची
 
Sanskrit – स्थूला, बहुला, पृथ्वीका, त्रिपुटा, भद्रैला, बृहदेला, चन्द्रबाला, दिव्यगंधा, निष्कुटि, स्थूलैला
 
Urdu – इलायची कलान (Ilayachi kallan)
 
Oriya – बड़ा एलका (Bada elaka)
 
Kannada – डोड्डाऐलक्की (Doddayelaki)
 
Gujarati – एलचा (Elcha), मोटी इलायची (Moti elachi), एलचो (Elcho)
 
Telugu – पेडडायेलाकी (Peddayelaki), अडावी एलक्के (Adavi elakkay)
 
Bengali – बड़ो एलाची (Baro elachi)
 
Nepali – अलैचि (Alaichi)
 
Marathi – मोटे वेलदोड़े (Moteveldode)
 
Malayalam – पेरेलम (Perelam), पेरिया एलाट्टारी (Periya-elattari)
 
Arabic – क्याक्यीहाहेकीबार (Qaqihahekibar), हेलजाकर (Helzakar)
 
Persian – हेलकलान (Hailkallan), क्याकील्हे-कलान (Qakilahe-kalan)
 
 
बड़ी इलायची के फायदे 
 
1. बड़ी इलायची सांस लेने संबंधी बीमारियों को दूर रखने में मददगार होती है। अगर आपको अस्थमा, फेफड़े में संकुचन जैसी कोई समस्या है तो बड़ी इलायची का सेवन करना आपके लिए बहुत फायदेमंद होगा। सर्दी-खांसी में भी इसका इस्तेमाल आपको राहत देगा। भूनी इलायची आयुर्वेद में सर्दी खांसी के लिए कारगर ओौषधि मानी गई है। 
 
2. विषाक्त पदार्थों को दूर करने के लिए भी बड़ी इलायची का इस्तेमाल करना फायदेमंद रहता है। हमारे शरीर में कई ऐसे विषाक्त पदार्थ बनते हैं जिनका बाहर निकलना बहुत जरूरी होता है। बड़ी इलायची इन विषाक्त पदार्थों को दूर निकालने का काम करती है। 
 
3. अगर आपके मुंह से दुर्गंध आती है तो बड़ी इलायची चबाना एक अच्छा उपाय है। इसके अलावा मुंह के घावों को ठीक करने के लिए भी बड़ी इलायची को इस्तेमाल में लाया जा सकता है। 
 
4. अगर आपको अक्सर सिर दर्द की शिकायत रहती है तो बड़ी इलायची के तेल से मसाज करना फायदेमंद रहेगा। 
 
5. बड़ी इलायची में कई ऐसे पोषक तत्व पाए जाते हैं जो कैंसर के खतरे को दूर रखने में सहायक होते हैं. इसमें मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट्स कैंसर कोशिकाओं को विकसित नहीं होने देते. 
 
6. बड़ी इलायची को पीसकर ललाट पर लेप करने से एवं बीजों को पीसकर सूंघने से सिरदर्द ठीक होता है।
 
7. बड़ी इलायची को पीसकर शहद में मिलाकर मुंह के छालों पर लगाने से मुंह के छाले ठीक होते हैं। 
 
8.बड़ी इलायची और लौंग तेल को बराबर-बराबर मात्रा में लें। इसे दांतों पर मलने से दांत का दर्द ठीक होता है।
 
9. 4-5 बड़ी इलायची के फल को 400 मिली पानी में उबाल लें। इस काढ़ा से कुल्ला करने से दांत दर्द ठीक होता है।
 
10. 2-3 बड़ी इलायची के छिलकों को पीसकर खाने से दांत की बीमारियों तथा मुँह के सूजन में लाभ होता है।
 
11. बीज के काढ़े का कुल्ला एवं गरारा करने से दांत और मसूड़ों की तकलीफ ठीक होती है।
 
12. यदि मुंह में अधिक थूक आता हो या लार बहती हो तो बड़ी इलायची और सुपारी को बराबर-बराबर पीसकर मिला लें। इसे 1-2 ग्राम मात्रा में लेकर चूसते रहने से थूक कम बनता है और लार का बहना बंद हो जाता है।
 
13. 5-10 बूंद बड़ी इलायची तेल में मिश्री मिलाकर नियमित सेवन करने से सांसों के रोग में लाभ होता है।
 
14. एक कप पानी में दो बड़ी इलायची पीसकर उबालें। आधा बच जाने पर छानकर ठंडा होने दें। इसे पिलाने से हिचकी में तुरंत लाभ होता है।
 
15. दो ग्राम सौंफ के साथ बड़ी इलायची के 8-10 बीजों का सेवन करने से पाचन-शक्ति बढ़ती है।
 
16. अधिक केले खाने पर यदि अजीर्ण हो जाए तो 1-2 बड़ी इलायची खाने से पाचन ठीक हो जाता है।
 
17. बड़ी इलायची बीज के चूर्ण और सोंठ के चूर्ण को समान मात्रा में मिला लें। इसे 5 ग्राम मात्रा में सेवन करने से पाचन शक्ति बढ़ती है।
 
18. एक ग्राम बड़ी इलायची बीज चूर्ण में 4 ग्राम मिश्री मिलाकर 1 ग्राम सुबह और शाम सेवन करने से गर्भवती स्त्री को भूख ना लगने की परेशानी में लाभ होता है। 
 
19. बड़ी इलायची के 5 ग्राम बीज चूर्ण को काले नमक के साथ सेवन करने से पेट दर्द और पेट की गैस में लाभ होता है।
 
20. 5 ग्राम बड़ी इलायची चूर्ण को शहद के साथ मिलाकर खाने से पेट दर्द में लाभ होता है। 1-2 बड़ी इलायची के चूर्ण को दिन में तीन बार नियमित सेवन करने से पेट के दर्द में आराम होता है।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख घर में 21 दिन तक रोज कर सकते हैं यह काम, हर दिन का हो एक विशेष काम