Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

कोरोना वायरस के बीच नोरोवायरस ने दी दस्‍तक, ठंडे मौसम में रहता है अधिक खतरा

हमें फॉलो करें webdunia
कोरोना वायरस महामारी के बीच नए-नए वायरस पनप रहे हैं। इसी बीच अब एक ओर नए वायरस ने दस्‍तक दे दी है। जिस वजह से चिंता बढ़ना लाजमी है। वहीं अगर देखा जाए तो कोरोना वायरस को लेकर जहां - जहां ढील दी गई है वहां एक बार फिर से वायरस के मामले बढ़ने लगे हैं। लेकिन इस बीच नए वायरस नोरोवायरस ने दस्‍तक दी है। पब्लिक हेल्‍थ इंग्‍लैंड ने नोरोवायरस में बढ़ते मामलों को देखकर इस बारे में जानकारी दी है। इंग्‍लैंड में  नोरोवायरस के 150 मामले सामने आए है। यह एक चिंता का विषय है। पीएचई के मुताबिक मई के बाद 5 हफ्ते में यह मामले सामने आ रहे हैं। आइए जानते हैं क्‍या है नोरोवायरस, इसके लक्षण और बचाव के उपाय। 
 
क्‍या है नोरोवायरस 
 
सेंटर डीजीस एंड कंट्रोल के अनुसार नोरोवायरस एक संक्रामक वायरस है। पीएचई इसे शीतकालीन उल्‍टी बग या विंटर वोमिटिंग वायरस भी कहता है। सीडीसी के मुताबिक यह वायरस कुछ ही लोगों को बीमार करता है लेकिन इसके लक्षण आम बीमारियों से मिलते-जुलते हैं ऐसे में सतर्क रहना जरूरी है। 
 
नोरोवायरस के लक्षण 
 
दरअसल नोरोवायरस के लक्षण आम है लेकिन यह वायरस तेजी से अपना रूप बदलता है। इतनी तेजी से जांच के माध्‍यम से भी यह पकड़ में नहीं आता है। 
 
-तेज बुखार और खांसी
-बदन दर्द
-अचानक उल्‍टी होना
- सिरदर्द
-पेट में सूजन आना
-पेट खराब होना 
 
इस वजह से होता है नोरोवायरस
 
सीडीसी के मुताबिक यह नोरोवायरस संक्रमित व्‍यक्ति के संपर्क में आने से भी फैलता है। इसके साथ ही दूषित भोजन, दूषित पानी, गंदी जगहों और सतहों को छूने से यह बीमारी अधिक फैलती है। साथ ही बिना हाथ धोए खाना खाने से इस बीमारी का खतरा होता है। 
 
इस मौसम में अधिक खतरा 
 
नोरोवायरस के लक्षण आम है लेकिन यह कितने प्रभावी रहते हैं इस पर भी फर्क पड़ता है। इस वायरस का प्रकोप ठंड के मौसम में अधिक होता है। साथ ही बारिश में भी मौसम अधिक ठंडा हो जाता है। इसलिए अच्‍छे से ध्‍यान रखें।  
 
कैसे बचे नोरोवायरस से 
 
बीमारी जरूर खतरनाक हो सकती है, इसलिए इससे बचाव के लिए शरीर में पानी की कमी नहीं होने दें। दरअसल पानी पीने से सभी आंत सिकुड़ जाती है और वायरस के अधिक सक्रिय होनी की  संभावना बढ़ जाती है। कोशिश करें पानी को उबाल कर ठंडा करके पीएं। ओआरएस का घोल और जूस का सेवन करते रहें। समय -समय पर हाथों को धोते रहें। खाना खाने से पहले साबुन से अच्‍छे से हाथों को धोएं। 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

बच्चों की कहानियों की किताबों की एक लिस्ट