Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

फेसबुक का बड़ा फैसला, ऑस्ट्रेलिया में बंद की न्यूज सर्विस

webdunia
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp
share
गुरुवार, 18 फ़रवरी 2021 (10:39 IST)
कैनबरा। फेसबुक ने गुरुवार को घोषणा की कि उसने ऑस्ट्रेलिया में समाचार देने के बदले भुगतान करने के प्रस्तावित कानूनों के मद्देनजर ऑस्ट्रेलियाई लोगों के लिए अपने मंच पर समाचार देखने या साझा करने की सेवा बंद कर दी है।
 
अमेरिकी कम्पनी ने एक बयान में कहा कि ऑस्ट्रेलियाई प्रकाशक फेसबुक पर समाचार सामग्री प्रकाशित कर सकते हैं, लेकिन उनके ‘लिंक’ और ‘पोस्ट’ ऑस्ट्रेलिया के लोग न तो देख पाएंगे और न ही उसे साझा कर पाएगें।
 
बयान के अनुसार, ऑस्ट्रेलियाई उपभोक्ता ऑस्ट्रेलिया की या अंतरराष्ट्रीय खबर भी साझा नहीं कर पाएंगे। वहीं, ऑस्ट्रेलिया के बाहर के लोग भी ऑस्ट्रेलिया की कोई खबर साझा नहीं कर पाएंगे।
 
फेसबुक के क्षेत्रीय प्रबंध निदेशक विलियम ईस्टन ने कहा, 'प्रस्तावित कानून ने मूलरूप से हमारे मंच और प्रकाशकों के बीच संबंध को समझने में गलती की है, जो इसका इस्तेमाल खबरों को साझा करने के लिए करते हैं।'
 
उन्होंने कहा, 'इसने हमारे पास सामने कठोर विकल्प ही छोड़ा, या तो उस कानून का पालन करें जो इस संबंध की वास्तविकता की अनदेखी करता है या ऑस्ट्रेलिया में अपनी सेवाओं में समाचार सामग्री न दिखाएं। भारी मन के साथ हम दूसरा विकल्प चुन रहे हैं।'
 
इस विधेयक को तैयार करने में भूमिका निभाने वाले मंत्रियों में से एक जोश फ्राइडनबर्ग ने एक दिन पहले ही कहा था कि ऑस्ट्रेलियाई मीडिया कंपनी के साथ फेसबुक और गूगल के 'महत्वपूर्ण कारोबारी समझौता' के करीब पहुंच गए हैं।
 
फ्राइडनबर्ग ने सप्ताहांत में फेसबुक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मार्क जुकरबर्ग, अल्फाबेट इंक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी और इसकी अनुषंगी गूगल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुंदर पिचाई से इस विषय पर चर्चा के बाद कहा था कि वह इस बात से संतुष्ट हैं कि मंच व्यावसायिक समझौते करने चाहते हैं।
 
फ्राइडनबर्ग ने कहा कि फेसबुक के ऑस्ट्रेलियाई समाचार पर रोक लगाने के बाद उनकी जुकरबर्ग के साथ सकारात्मक बातचीत हुई है। (भाषा)
 

Share this Story:
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

webdunia
सेंसेक्स व निफ्टी में मामूली बढ़त, ओएनजीसी में रही सबसे ज्यादा बढ़त