Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

भीषण गर्मी से पेरिस-लंदन में हाहाकार, टूटा 70 सालों का रिकॉर्ड, वैज्ञानिकों ने दी चेतावनी

webdunia
गुरुवार, 25 जुलाई 2019 (20:26 IST)
पेरिस। उफ! ये गर्मी। पेरिस, लंदन और यूरोप के तमाम इलाकों में भीषण गर्मी और लू की मार झेल रहे लोगों के मुंह से आजकल इसी से मिलते हुए यही शब्द निकल रहे हैं। हालत यह है कि तापमान यहां नए रिकॉर्ड बना रहा है और लू के थपेड़े लोगों को बुरी तरह परेशान कर रहे हैं। फ्रांस में तो गर्मी ने 7 दशक का रिकॉर्ड तोड़ दिया है।
webdunia
जलवायु वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी कि दुनिया के कई हिस्सों में ये हालात अब सामान्य तौर पर हो सकते हैं, लेकिन यूरोप- जहां वातानुकूलन का प्रयोग बेहद कम देखने को मिलता है- इस बढ़े हुए तापमान से निपटने के लिए तैयार नहीं दिखता।
webdunia
ऐसे में पर्यटक सार्वजनिक फव्वारों के नीचे राहत पाने की कोशिश में जुट रहे हैं, वहीं अधिकारी और स्वयंसेवी भीषण गर्मी के इस वक्त में बुजुर्गों, बीमारों और बेघरों की मदद करते देखे जा रहे हैं। ब्रिटेन और फ्रांस में ट्रेन सेवा रद्द कर दी गई हैं औंर फ्रेंच अधिकारियों ने यात्रियों से घर में ही रहने का अनुरोध किया है।
webdunia
एक के बाद एक गर्मी यूरोपभर में रिकॉर्ड तोड़ रही है। गुरुवार अपराह्न पेरिस इलाके में तापमान 40.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो 1947 में दर्ज 40.4 डिग्री सेल्सियस से ज्यादा है। अधिकारियों ने कहा कि उत्तरी अफ्रीका से आ रही गर्म और सूखी हवा की वजह से तापमान अब भी बढ़ रहा है।
webdunia
लंदन में तापमान 39 डिग्री सेल्सियस पहुंचने की उम्मीद है। जर्मनी, नीदरलैंड्स, लक्जमबर्ग और स्विट्‍जरलैंड में पारा 40 डिग्री सेल्सियस के पार जा सकता है। बेल्जियम में भी तापमान रिकॉर्ड तोड़ रहा है। यहां रॉयल मिटियोरोलॉजिकल इंस्टीट्यूट में मुख्य पूर्वानुमानकर्ता डेविड डेहेनावु ने गुरुवार को बताया कि पूर्वी शहर लेगे में एक दिन पहले अधिकतम तापमान 40.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। यह 1833 से रखे जा रहे तापमान के आंकड़ों में सबसे ज्यादा है।
webdunia
जर्मनी और ऑस्ट्रिया में तापमान 40 डिग्री : जर्मनी में बुधवार को तापमान 40.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया और जर्मन मौसम सेवा को गुरुवार को तापमान के और बढ़ने की आशंका है।
 
ऑस्ट्रिया के स्टीरिया क्षेत्र में परिवार की जानकारी के बिना 2 साल का एक बच्चा खड़ी कार में चढ़ गया और वहीं सो गया। जब तक परिवार को पता चलता पानी की कमी की वजह से बच्चे की वहीं मौत हो गई थी। 
 
जारी हुआ स्मॉग अलार्म : नीदरलैंड्स में एक सरकारी स्वास्थ्य संस्थान ने कहा है कि देश के कई हिस्सों में हवा में ओजोन के कारण ‘स्मॉग’ का उच्च स्तर देखने को मिल सकता है। नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर पब्लिक हेल्थ एंड द एनवॉयरमेंट ने गुरुवार को घनी आबादी वाले एम्सटर्डम, रॉटरडम और द हेग जैसे शहरों समेत क्षेत्र के लिये गुरुवार को 'स्मॉग अलार्म' जारी किया।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

मशहूर पाकिस्तानी क्रिकेटर पर लड़कियों ने लगाए सनसनीखेज आरोप, सोशल मीडिया पर लीक हुई आपत्तिजनक चैट