Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

अंतरिक्ष के 10 रहस्य, हैरान कर देंगे आपको

हमें फॉलो करें webdunia

अनिरुद्ध जोशी

अंतरिक्ष को अंग्रेजी में स्पेस (Space) कहते हैं। आकाश को स्काई (sky) कहते हैं। आकाश को गगन, नभ और आसमान भी कहा जाता है। अंतरिक्ष को व्योम भी कह सकते हैं। आओ जानते हैं अंतरिक्ष के बारे में 10 रहस्य।

 
1. आकाश नहीं है अंतरिक्ष : अंतरिक्ष एक ऐसी जगह है जहां पर हवा नहीं है परंतु आकाश में हवा है। एक निश्चित ऊंचाई (लगभग 100 किलोमीटर ऊपर) के बाद आकाश, गगन या नभ समाप्त हो जाता है तब अंतरिक्ष की शुरुआत होती है। 
 
2. ध्वनि अर्थात साउंड (Sound) नहीं करता गमन : अंतरिक्ष एक निर्वात अर्थात वैक्यूम (vacuum) है जहां आप आवाज नहीं सुन सकते, आवाज सुनने के लिए किसी माध्यम की आवश्यकता होती है।
 
3. ये हैं अंतरिक्ष में : अंतरिक्ष में सभी ग्रह, उपग्रह, नक्षत्र (तारे), उल्कापिंड, गैलेक्सी, मैग्नेटिक फील्ड और ब्लैक होल मौजूद है। दो ग्रहों या दो तारों के बीच जो स्पेस है उसमें धुल के कण और गैसें मौजूद है।
 
4. खतरनाक रेडियेशन : अंतरिक्ष में उपरोक्त के साथ ही खतरनाक रेडियेशन (Radiation) है। जैसे इंफ्रारेड रे (infrared rays), अल्टावॉयलेट (ultraviolet rays), एक्स-रे (x rays), गामा-रे (gamma rays), कास्मिक रे (cosmic rays) और मैग्नेटिक फील्ड (Magnetic field)।
 
5. अंतरिक्ष काला है : अंतरिक्ष में वायु नहीं है और ऑक्सीजन भी नहीं है। यही कारण है कि यहां अंधरे रहता है। सूर्य जैसे तारों के कारण ही प्रकाश रहता है तो वह भी सिर्फ ग्रहों पर।
 
6. प्रकाश वर्ष : अंतरिक्ष को प्रकाश वर्ष (Light year) के माध्यम से नापा जाता है।  
 
7. आयाम : वैज्ञानिक कहते हैं कि ब्रह्मांड में 10 आयाम (Dimensions) हो सकते हैं लेकिन मोटे तौर पर हमारा ब्रह्मांड त्रिआयामी है। पहला आयाम है ऊपर और नीचे, दूसरा है दाएं और बाएं, तीसरा है आगे और पीछे। इसे ही थ्रीडी कहते हैं। एक चौथा आयाम भी है जिसे समय कहते हैं। समय को आगे बढ़ता हुआ महसूस कर सकते हैं। हम इसमें पीछे नहीं जा सकते हैं।
 
8. अंतरिक्ष कितना बड़ा है : यह कोई नहीं जानता और ना ही बता सकता, क्योंकि यह अनादि और अनंत है। 
 
9. अंतरिक्ष के भाग : हमारी धरती के पास के अंतरिक्ष के मुख्‍यत: 4 भाग है, 1.जियोस्पेस (Geospace), 2. इंटरप्लेनेटरी स्पेस (interplanetary space), 3.इंटरस्टेलर (interstellar space), 4. इंटरगैलेक्टि (intergalactic space).
 
10. अंतरिक्ष में है अनंत रहस्य : अंतरिक्ष में लाखों गलैक्सियां हैं जिसमें लाखों सूर्य, तारे, चंद्रमा, धरती, ग्रह, उपग्रह, उल्का और ब्लैक होल है। वैज्ञानिकों ने हमारी गैलेक्सी में असंख्य तारामंडल ढूंढे हैं। हमारी गैलेक्सी का नाम है मिल्की वे, जिसमें हम धरती पर रहते हैं। माना जाता है कि इसी गैलेक्सी में धरती जैसे ग्रहों पर जीवन हो सकता है जहां पर मनुष्य से भी कई गुना ज्यादा बुद्धिमान मनुष्‍य रहते हों। अंतरिक्ष में अब तक 800 से ज्यादा गैलेक्सी ढूंढी जा चुकी है। वैज्ञानिक कहते हैं कि लगभग 19 अरब गैलेक्सियां हो सकती है। 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

बड़ी खबर, 1 अगस्त से सातों दिन उपलब्ध होगा NACH, जानिए क्या होगा फायदा...