मंगल यदि है 5वें भाव में तो रखें ये 5 सावधानियां, करें ये 5 कार्य और जानिए भविष्य

मंगल मकर में उच्च का कर्क में नीच का होता है। लाल किताब के अनुसार मंगल नेक और मंगल बद होता है। दसवें घर में मंगल है तो उसे उच्च का माना जाएगा और चौथे घर में है तो नीच का माना जाएगा। लेकिन यहां घर में होने या मंदा होने पर क्या सावधानी रखें जानिए।
 
 
कैसा होगा जातक : सूर्य के घर में मंगल हो तो व्यक्ति फकीर होते हुए भी स्वयं को रइसों का बाप दादा समझता है। हमेशा ही घर से बाहर रहने वाला। मां-बाप का साथ दें इसकी कोई ग्यारंटी नहीं। बच्चों से प्रेम करने वाला, लेकिन खुद की औलाद मु‍श्किल में रहती है।
 
पांच सावधानियां
1. मदिरा और मांस का सेवन न करें।
2. चरित्र ठीक रखें। 
3. पिता की सलाह मानें। 
4. मित्र और भाई को धोका न दें।
5. शिक्षा और संतान पर ध्यान दें।


ये पांच कार्य करें
1. पिता के नाम पर दूध का दान करें।
2.  घर में नीम का वृक्ष रोपित करें।
3. सदैव सदाचार का पालन करें।
4. प्रतिदिन हनुमान चालीसा का पाठ करें।
5. रात को सर के पास पानी रखकर सोएं और इस जल को सुबह पेड़ में डाल दें।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख अन्य अहिंसकों से भिन्न है महावीर स्वामी की अहिंसा, जानिए 4 खास बातें