पेट्रोल के बढ़ते दाम के लिए वैश्विक कारक जिम्मेदार : एसोचैम

Webdunia
सोमवार, 10 सितम्बर 2018 (17:39 IST)
हैदराबाद। पेट्रोल और डीजल की आसमान छूती कीमतों के लिए वैश्विक कारक जिम्मेदार है। उद्योग मंडल एसोचैम ने यह बात कही। उसने उम्मीद जताई है कि ईंधन पर करों के बोझ को घटाया जा सकता है। एसोचैम महासचिव उदय कुमार वर्मा ने कहा कि हमारा मानना है कि पेट्रोल-डीजल को माल एवं सेवाकर (जीएसटी) के दायरे में लाया जाना चाहिए, हालांकि, इस समय यह संभव नहीं है।
 
 
उन्होंने कहा कि इस समय ईंधन के दामों में लगातार वृद्धि की वजह वैश्विक कारक हैं। यह उभरते हुए बाजारों को प्रभावित कर रहा है और भारत भी इससे अछूता नहीं है। वर्मा ने कहा कि अन्य प्रमुख विदेशी मुद्राओं के मुकाबले डॉलर में मजबूती से रुपए पर दबाव पड़ रहा है।
 
भारत कच्चे तेल के सबसे बड़े आयातकों में से एक है जिसके नाते रुपए की विनिमय दर में गिरावट का पेट्रोल-डीजल के दामों पर असर पड़ रहा है। इसके अलावा मजबूत वैश्विक रुख के बीच कच्चे तेल के दामों में भी तेजी आई है। उन्होंने कहा कि हमें भरोसा है कि सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक मामले पर नजर बनाए हुए और कर बोझ को कम करने समेत अन्य विकल्पों पर विचार कर रहा है। (भाषा)

सम्बंधित जानकारी

अर्नाल्ड श्वार्जेनेगर ने खोला राज, बताया- टर्मिनेटर आखिर इतने साल तक क्या करता रहा

सेना प्रमुख बिपिन रावत का बड़ा बयान, 370 हटने के बाद कुछ लोग कश्मीर में बिगाड़ना चाहते हैं माहौल

करतारपुर कॉरिडोर : इमरान के बयान को हरसिमरत कौर ने बताया शर्मनाक, कहा आस्था के नाम पर कर रहे हैं कारोबार

हिंदू विरोधी कंटेंट बंद करने के लिए RSS से हुई बैठक? Netflix ने दिया जवाब

अपनी तबीयत से जुड़ी बेतुकी अटकलों पर नाराज हुए अमिताभ बच्चन, कही यह बात

ISL सीजन 6 में जमशेदपुर की विजयी शुरुआत, ओडिशा को 2-1 से हराया

कमलेश तिवारी की मां ने कहा, अब बस जल्द से जल्द दो फांसी

ITC ने पेश की दुनिया की सबसे महंगी चॉकलेट, जानिए क्या है इसके दाम

भारतीय वायुसेना ने ब्रह्मोस मिसाइल का सफल परीक्षण किया, सतह से सतह पर कर सकती है मार

कमलेश तिवारी हत्याकांड, गुजरात-राजस्थान बॉर्डर से दोनों मुख्‍य आरोपी गिरफ्तार

अगला लेख