Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

टीम इंडिया को इंग्लैंड में एक और झटका, यह स्टैंडबाई तेज गेंदबाज हुआ चोटिल

webdunia
बुधवार, 21 जुलाई 2021 (21:06 IST)
नई दिल्ली:युवा तेज गेंदबाज आवेश खान डरहम में भारत के प्रथम श्रेणी अभ्यास मैच के पहले दिन काउंटी इलेवन की ओर से खेलते हुए बायें अंगूठे में चोट के कारण मैच से बाहर हो गए हैं और उनका इंग्लैंड दौरे से बाहर होना भी लगभग तय है।
 
कोविड-19 पॉजिटिव लोगों के संपर्क में आने के बाद काउंटी इलेवन के कुछ खिलाड़ियों के अनिवार्य पृथकवास पर जाने के बाद दायें हाथ के तेज गेंदबाज आवेश मेजबान टीम का प्रतिनिधित्व कर रहे थे। भारतीय क्रिकेट बोर्ड के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि दौरे पर स्टैंडबाई खिलाड़ी के रूप में गए आवेश चोट के कारण लंबे समय तक बाहर हो सकते हैं और चार अगस्त से नॉटिंघम के ट्रेंटब्रिज में शुरू हो रही टेस्ट सीरीज से पहले भारतीय टीम मैनेजमेंट के पास कम से कम एक नेट गेंदबाज कम होगा।
 
बीसीसीआई सूत्र ने कहा, 'इस मैच को तो छोड़ दीजिए आवेश के इस सीरीज में भी आगे हिस्सा लेने की संभावना नहीं है। उसके अंगूठे में फ्रेक्चर है। वह कम से कम एक महीने तक गेंदबाजी नहीं कर पाएगा और इसके बाद उसका रिहैबिलिटेशन शुरू होने की उम्मीद है।अगले तीन दिन में स्थिति स्पष्ट होगी.' बीसीसीआई ने बुधवार को आवेश की चोट के बारे में विस्तार से नहीं बताया था लेकिन कहा था, 'तेज गेंदबाज आवेश खान मेडिकल टीम की निगरानी में रहेंगे. वह अभ्यास मैच के दूसरे और तीसरे दिन के खेल में हिस्सा नहीं ले पाएंगे।'
हनुमा के शॉट  को रोकते समय लगी आवेश को चोट
मंगलवार को पहले दिन लंच के बाद के सत्र में अपने 10वें ओवर की पांचवीं गेंद पर आवेश को चोट लगी थी। वह हनुमा विहारी के शॉट को रोक रहे थे। गेंद लगने के बाद वह काफी दर्द में दिख रहे थे और तुरंत उन्हें चिकित्सा मदद की गई और डरहम के यूट्यूब चैनल पर एक कमेंटेटर को कहते हुए सुना गया कि चोट गंभीर हो सकती है। 24 साल के आवेश ने अब तक 26 प्रथम श्रेणी मैचों में 100 विकेट चटकाए हैं और कई लोगों का मानना था कि इंग्लैंड के खिलाफ पांच मैचों की टेस्ट सीरीज के दौरान उन्हें डेब्यू का मौका मिल सकता था। (भाषा)

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

सिंधु के अलावा मुश्किल है बैडमिंटन में राह, पुरुष खिलाड़ियों को मिला है कठिन ग्रुप