रोहित शर्मा के शानदार शतक से भारत मजबूत, पहले दिन टीम इंडिया का स्कोर 224/3

शनिवार, 19 अक्टूबर 2019 (16:52 IST)
रांची। हिटमैन रोहित शर्मा (नाबाद 117) के सीरीज़ के तीसरे शतक और उनकी अजिंक्य रहाणे (नाबाद 83) के साथ चौथे विकेट के लिए 185 रन की अविजित साझेदारी की बदौलत भारत ने खराब शुरुआत से उबरते हुए दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीसरे टेस्ट के खराब रोशनी से प्रभावित पहले दिन शनिवार को 58 ओवर में 3 विकेट पर 224 रन बना लिए।

रोहित का सीरीज़ का यह तीसरा और करियर का छठा शतक है। विस्फोटक ओपनर रोहित ने अपनी शतकीय पारी के साथ ही टेस्ट क्रिकेट में 30वें मैच में 2000 रन भी पूरे कर लिए। रोहित अब तक 164 गेंदों पर 14 चौकों और 4 छक्कों की मदद से नाबाद 117 रन बना चुके हैं। रोहित के साथ रहाणे 135 गेंदों में 11 चौकों और एक छक्के के सहारे 83 रन बनाकर क्रीज़ पर हैं। दोनों ने चौथे विकेट के लिए 256 गेंदों में 185 रन की अविजित साझेदारी कर डाली है।

पहले दिन का खेल खराब रोशनी के कारण 32 ओवर पहले समाप्त करना पड़ा। पहले दिन मयंक अग्रवाल 10, चेतेश्वर पुजारा शून्य और कप्तान विराट कोहली 12 रन बनाकर आउट हुए। भारत ने 3 विकेट पर 39 रन की खराब शुरुआत से उबरते हुए स्टम्प्स तक अपना स्कोर सम्मानजनक कर लिया।

तीसरे मैच में भारतीय कप्तान विराट कोहली ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया था लेकिन भारत ने केवल 39 रन जोड़कर ही अपने 3 अहम विकेट सुबह गंवा दिए। हालांकि मैदान पर फिर रोहित और अजिंक्य ने मोर्चा संभालते हुए चौथे विकेट के लिए नाबाद 185 रन जोड़ डाले। हालांकि खराब रोशनी के कारण दिन का खेल निर्धारित समय से पहले समाप्त करना पड़ा।

रोहित ने 30वें टेस्ट में अपना छठा शतक डेन पिएट की गेंद पर छक्का जड़ने के साथ पूरा किया। वे इसी के साथ महान ओपनर सुनील गावस्कर के बाद भारत के मात्र दूसरे ओपनर भी बन गए जिन्होंने एक सीरीज़ में 3 या उससे अधिक शतक जड़े हैं। रहाणे दूसरे छोर पर अपने 11वें टेस्ट शतक से 17 रन दूर हैं। यह उनका 61वां टेस्ट है।

इससे पहले मयंक अग्रवाल 10 रन, चेतेश्वर पुजारा शून्य और विराट 12 रन बनाकर आउट हुए थे। दक्षिण अफ्रीका को तेज़ गेंदबाज़ कैगिसो रबाडा ने अच्छी शुरुआत दिलाते हुए 2 विकेट और एनरिच नोर्त्जे ने एक विकेट दिलाया, लेकिन लंच से पहले आउट हुए इन 3 बल्लेबाज़ों के बाद मेहमान टीम को स्टम्प्स होने तक फिर कोई सफलता हाथ नहीं लगी।

भारत ने लंच तक पहली पारी में 23 ओवर में 3 विकेट गंवाकर 71 रन बनाए थे। पहले 2 टेस्टों में दोहरा शतक और शतक बनाने वाले मयंक को रबाडा ने डीन एल्गर के हाथों कैच करा दिया। इस मैदान पर 2017 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दोहरा शतक बनाने वाले पुजारा इस बार 9 गेंदों में खाता खोले बिना रबाडा की गेंद पर पगबाधा हो गए।

पुणे टेस्ट में नाबाद 254 रन बनाकर अपने करियर का सर्वश्रेष्ठ स्कोर बनाने वाले विराट भी ज्यादा देर विकेट पर नहीं टिक सके। विराट ने 12 रन के लिए 22 गेंदें खेलीं और 2 चौके लगाए। नोर्त्जे ने भारतीय कप्तान को पगबाधा किया। इन हालात में रोहित और रहाणे ने मजबूती के साथ खेलते हुए लंच तक स्कोर 71 रन और चायकाल तक 205 रन पहुंचा दिया।

विशाखापत्तनम में पहले टेस्ट की दोनों पारियों में शतक बनाने वाले रोहित ने अपने 50 रन 86 गेंदों में और 100 रन 130 गेंदों में पूरे किए। रहाणे के 50 रन 70 गेंदों में बने। दोनों बल्लेबाज़ों ने स्टम्प्स तक भारतीय स्थिति को काफी हद तक सुधार दिया। रबाडा ने 54 रन पर 2 विकेट और नोर्त्जे ने 50 रन पर एक विकेट लिया।

मेज़बान टीम ने पिछले पुणे मैच की अपनी टीम में केवल एक बदलाव करते हुए टीम को उतारा। तेज़ गेंदबाज़ ईशांत शर्मा को रांची में आराम दिया गया, जबकि लेफ्ट आर्म स्पिनर शाहबाज़ नदीम को टेस्ट पदार्पण करने का मौका मिला।

वहीं दक्षिण अफ्रीकी टीम ने मैच में 5 बदलाव किए। वेर्वोन फिलेंडर, थ्यूनिस डी ब्रुएन, एडन मारक्रम, केशव महाराज और सेनुराम मुत्थुसामी को बाहर बैठाया गया है। महाराज तो चोटिल होने के कारण इस टेस्ट से पहले ही बाहर हो गए थे। इनकी जगह लुंगी एनगिडी, जुबाएर हमजा, हेनरिक क्लासेन, जार्ज लिंडे और डेन पिएट को इस मैच में जगह दी गई।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख घरेलू क्रिकेट में 110 मैचों में 424 विकेट ले चुके हैं शाहबाज नदीम, बने भारत के 296वें टेस्ट खिलाड़ी