चयन समिति की बैठक टली, धोनी के भविष्य और कोहली की उपलब्धता पर रहेगी निगाह

गुरुवार, 18 जुलाई 2019 (22:35 IST)
मुंबई। वेस्टइंडीज दौरे के लिए कप्तान विराट कोहली की उपलब्धता और महेंद्र सिंह धोनी के भविष्य को लेकर लगाए जा रहे कयासों के बीच राष्ट्रीय चयन समिति की बैठक रविवार तक टाल दी गई है।
 
यह बैठक पहले शुक्रवार को होनी थी लेकिन प्रशासकों की समिति (सीओए) के नए दिशा-निर्देशों के बाद स्थगित कर दी गई है। इनके अनुसार चयन समिति की बैठक बुलाने का अधिकार सचिव को नहीं, बल्कि चयन पैनल के अध्यक्ष को होगा।
 
बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि नियमों के बदलाव के कारण कुछ कानूनी तौर-तरीके हैं जिनका पालन करना जरूरी है और इसमें कुछ समय लगता है। इसके साथ ही बीसीसीआई को इस बैठक के लिए कप्तान की उपलब्धता के बारे में भी बताना होगा। खिलाड़ियों की फिटनेस रिपोर्ट भी शनिवार की शाम तक मिल पाएगी।
 
38 बरस के धोनी अब बल्ले से 'मैच फिनिशर' की भूमिका नहीं निभा पा रहे हैं। उन्होंने अभी तक अपने संन्यास के बारे में कुछ नहीं कहा है लेकिन इसको लेकर अटकलों का बाजार गर्म है। भारत को 3 अगस्त से शुरू हो रहे वेस्टइंडीज दौरे पर टी-20, वनडे और 2 टेस्ट खेलने हैं।
 
अगले साल ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी-20 विश्व कप को ध्यान में रखकर चयनकर्ता युवा ऋषभ पंत को मौका दे सकते हैं जिन्हें धोनी का वारिस माना जा रहा है। धोनी को पिछले साल अक्टूबर में वेस्टइंडीज और ऑस्ट्रेलिया में टी-20 श्रृंखला के लिए नहीं चुना गया था। ऐसी पूरी संभावना है कि वे इस बार भी बाहर रहें।
 
पंत को विश्व कप में चोटिल शिखर धवन की जगह बुलाया गया था जिसमें भारत सेमीफाइनल में बाहर हो गया। एक और मसला कोहली की उपलब्धता का होगा, जो लंबे समय से खेल रहे हैं। कइयों का मानना है कि आगे लंबे घरेलू सत्र को देखते हुए कोहली को आराम दिया जाना चाहिए और ऐसे में रोहित शर्मा छोटे प्रारूप में कप्तानी कर सकते हैं।
दोनों टेस्ट चूंकि आईसीसी टेस्ट चैंपियनशिप का हिस्सा हैं तो कोहली टेस्ट टीम में रहेंगे। तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह के बारे में भी यही फैसला लिया जा सकता है। चयन समिति मध्य क्रम के संयोजन पर भी बात करेगी, जो विश्व कप सेमीफाइनल से भारत के बाहर होने का अहम कारण रहा। चौथे नंबर को पक्का करना बेहतर जरूरी है।
 
समझा जाता है कि मध्य क्रम को लेकर सबसे ज्यादा माथापच्ची होगी। चयनकर्ताओं के पास कर्नाटक के मयंक अग्रवाल और मनीष पांडे और मुंबई के श्रेयस अय्यर के रूप में विकल्प हैं, जो घरेलू स्तर पर लगातार अच्छा खेल रहे हैं।
 
पांडे ने वेस्टइंडीज 'ए' के खिलाफ भारत 'ए' के लिए 100 रन बनाए थे। अंबाती रायुडू के रिटायर होने और विजय शंकर के नाकाम रहने से उनके लिए दरवाजे खुल सकते हैं। चयनकर्ता युवा शुभमन गिल और पृथ्वी शॉ के नाम पर भी विचार कर सकते हैं हालांकि शॉ कूल्हे की चोट से जूझ रहे हैं।
 
दिनेश कार्तिक और केदार जाधव के नाम पर विचार की संभावना नहीं है, जो विश्व कप में नाकाम रहे। केएल राहुल, हार्दिक पंड्या, कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल का चयन तय है। नए चेहरों में राहुल चाहर और नवदीप सैनी के अलावा खलील अहमद, दीपक चाहर और आवेश खान के नाम पर भी विचार किया जा सकता है।
 
टी-20 मैच 3 से 6 अगस्त तक खेले जाएंगे जबकि वनडे 8 से 14 अगस्त और टेस्ट 22 अगस्त से 3 सितंबर तक खेले जाने हैं। (वार्ता)

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख शिखर धवन ने 'बॉटल कैप चैलेंज' के लिए बल्ला पकड़ा और शॉट से गिराकर सबको दंग कर डाला