भाजपा के हार्डकोर हिंदुत्व का नया चेहरा बनी साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर

विकास सिंह

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2019 (09:51 IST)
भोपाल। लोकसभा चुनाव में भाजपा ने भोपाल संसदीय सीट से हिंदुत्व की फायर ब्रांड नेता साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को चुनावी मैदान में उतार दिया है। साध्वी प्रज्ञा का सीधा मुकाबला कांग्रेस के दिग्गज नेता और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह से हो रहा है। दिग्विजय सिंह के खिलाफ साध्वी प्रज्ञा को उतारकर भाजपा ने लोकसभा चुनाव में हिंदुत्व का कार्ड खेला है।
 
मालेगांव बम ब्लास्ट मामले में आरोपी और हिंदू आतंकवाद के आरोपों से घिरी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर वेबदुनिया से बातचीत में कहती हैं कि वो भगवा और हिंदुत्व पर मंडरा रहे खतरे को बचाने के लिए वो चुनावी मैदान में है। साध्वी साफ कहती हैं कि हिंदुत्व चुनाव में उनका मुख्य मुद्दा रहेगा। साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को चुनाव मैदान में लाकर न केवल भोपाल बल्कि पूरे देश के चुनाव को हिंदुत्व की तरफ मोड़ दिया है।
 
भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से लेकर मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान तक सभी साध्वी प्रज्ञा को बिना किसी झिझक के हिंदुत्व का चेहरा बता रहे हैं। ऐसे में सवाल उठता है कि क्या साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर हिंदुत्व के बल पर देश की सत्ता तक पहुंची भाजपा का नया चेहरा है।
 
नब्बे के दशक में आयोध्या में राम मंदिर आंदोलन के सहारे कट्टर हिंदुत्व के रथ पर सवार होकर दो सांसदों से देश में सरकार बनाने वाली भाजपा के उस वक्त के हिंदुत्व के सभी बड़े चेहरे इस बार पहली बार लोकसभा चुनाव से गायब है।
 
राममंदिर आंदोलन के लिए रथ यात्रा निकालने वाले लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी और उमा भारती तीन ऐसे चेहरे जो भाजपा के हिंदुत्व के एजेंडे के सबसे बड़े चेहरे थे। इस बार पहली बार लोकसभा चुनाव में सियासी फलक पर नजर नहीं आ रहे हैं। राममंदिर आदोलन के नायक माने जाने वाले लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी को जहां पार्टी ने टिकट ही नहीं दिया, वहीं हिंदुत्व की फायर ब्रांड नेता उमा भारती ने चुनाव लड़ने से ही इंकार कर दिया।
 
ऐसे में हिंदुत्व विचाराधारा से जुड़ी साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर का भाजपा में शामिल होना और उसका गढ़ माने जाने वाली देश की सबसे हाईप्रोफाइल सीट भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ना ये साफ सकते हैं कि वो अमित शाह और नरेंद्र मोदी के युग वाली पार्टी में हिंदुत्व का नया चेहरा बनने जा रही है।
 
भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह मालेगांव बम ब्लास्ट मामले में आरोपी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को उम्मीदवार बनाए जाने पर कहते हैं कि कांग्रेस ने हिंदू और भगवा आतंकवाद के नाम पर हिंदुओं को बदनाम करने की साजिश रची थी और कांग्रेस की सरकारों ने उसको संरक्षण दिया था। अमित शाह कहते हैं कि एनआईए की जांच में साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को क्लीन चिट मिलने से साफ हैं कि हिंदुत्व को बदनाम करने की साजिश रची गई थी।
 
ऐसे में भाजपा ने साध्वी प्रज्ञा को उम्मीदवार बनाकर लोकसभा चुनाव में हिंदुत्व का बड़ा कार्ड खेलते हुए ये संदेश देने की कोशिश की है देश में हिदुंत्व पर जो खतरा मंडरा रहा है उससे कोई रक्षा कर सकता है तो वो भाजपा ही है। ऐसे में साध्वी प्रज्ञा ठाकुर की भाजपा में एंट्री अटल- आडवाणी वाली भाजपा में हिंदुत्व के एक नए युग की शुरुआत है।  

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

अगला लेख सुषमा स्वराज का बड़ा बयान, बालाकोट में पाक का कोई सैनिक या नागरिक नहीं मारा गया