चुनाव से पहले विपक्षी दलों ने भाजपा को हराने के लिए बनाया यह प्लान

गुरुवार, 14 फ़रवरी 2019 (09:21 IST)
नई दिल्ली। प्रमुख विपक्षी दलों के नेताओं ने भाजपा को सत्ता में आने से रोकने के लिए अगले लोकसभा चुनाव से पूर्व गठबंधन करने तथा न्यूनतम साझा कार्यक्रम तैयार करने का फैसला किया है। राष्ट्रवादी कांग्रेस प्रमुख (राकांपा) प्रमुख शरद पवार के नई दिल्ली स्थित आवास पर विपक्षी नेताओं की बैठक के बाद तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष एवं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने यह घोषणा की।
 
बनर्जी ने कहा कि हम राष्ट्रीय स्तर पर मिलकर काम करेंगे और न्यूनतम साझा कार्यक्रम बनाएंगे। हम चुनाव-पूर्व गठबंधन करेंगे ताकि चुनाव के बाद कोई दिक्कत न आए। उन्होंने कहा कि चुनाव में जनता से अनुरोध किया जाएगा कि भाजपा सरकार हटाई जाए और जनता की सरकार लाई जाए।
 
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बातचीत में बैठक को रचनात्मक बताया और कहा कि केंद्र की नरेंद्र मोदी नीत सरकार को परास्त करने के लिए न्यूनतम साझा कार्यक्रम बनाने पर सहमति हुई है। इसके साथ ही हम भाजपा को सत्ता से उखाड़ फेंकने के लिए मिलकर काम करेंगे। कहीं पर हमारा एक दूसरे से भी मुकाबला होगा। उन्होंने बताया कि पश्चिम बंगाल तथा दिल्ली के बारे में अभी कोई निर्णय नहीं हुआ है।
 
गांधी और दिल्ली के मुख्यमंत्री एवं आम आदमी पाटीं के प्रमुख अरविंद केजरीवाल पहली बार किसी बैठक में एकसाथ शामिल हुए। केजरीवाल ने कहा कि मोदी और अमित शाह की जोड़ी ने पांच साल में देशभर में भाईचारा खराब किया है और देश को गर्त में ले गए हैं। उन्हें हटाने के लिए सभी मिलकर काम करेंगे और पूरा देश यही चाहता है। उन्होंने कहा कि आज की बातचीत काफी रचनात्मक रही और वार्ता का सिलसिला जारी रहेगा।
 
नेशनल कांफ्रेंस के नेता फारुक अब्दुल्ला ने बताया कि बातचीत बहुत अच्छे माहौल में हुई। एक अच्छा न्यूनतम साझा कार्यक्रम बनाने पर सहमति हुई। सबकी कोशिश होगी कि एक ऐसी सरकार आए जो देश को एकजुट रखे और संस्थानों की जो बरबादी हुई है उसे ठीक करे। बैठक में आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू भी मौजूद थे।व में जनता से अनुरोध किया जाएगा कि भाजपा सरकार हटाई जाए और जनता की सरकार लाई जाए।
 
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बातचीत में बैठक को रचनात्मक बताया और कहा कि केंद्र की नरेंद्र मोदी नीत सरकार को परास्त करने के लिए न्यूनतम साझा कार्यक्रम बनाने पर सहमति हुई है। इसके साथ ही हम भाजपा को सत्ता से उखाड़ फेंकने के लिए मिलकर काम करेंगे। कहीं पर हमारा एक दूसरे से भी मुकाबला होगा। उन्होंने बताया कि पश्चिम बंगाल तथा दिल्ली के बारे में अभी कोई निर्णय नहीं हुआ है।
 
गांधी और दिल्ली के मुख्यमंत्री एवं आम आदमी पाटीं के प्रमुख अरविंद केजरीवाल पहली बार किसी बैठक में एकसाथ शामिल हुए। केजरीवाल ने कहा कि मोदी और अमित शाह की जोड़ी ने पांच साल में देशभर में भाईचारा खराब किया है और देश को गर्त में ले गए हैं। उन्हें हटाने के लिए सभी मिलकर काम करेंगे और पूरा देश यही चाहता है। उन्होंने कहा कि आज की बातचीत काफी रचनात्मक रही और वार्ता का सिलसिला जारी रहेगा।
 
नेशनल कांफ्रेंस के नेता फारुक अब्दुल्ला ने बताया कि बातचीत बहुत अच्छे माहौल में हुई। एक अच्छा न्यूनतम साझा कार्यक्रम बनाने पर सहमति हुई। सबकी कोशिश होगी कि एक ऐसी सरकार आए जो देश को एकजुट रखे और संस्थानों की जो बरबादी हुई है उसे ठीक करे। बैठक में आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू भी मौजूद थे।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

अगला लेख मुश्किल में अनुपम खेर और अक्षय खन्ना, देश की छवि खराब करने का आरोप, मामला दर्ज...