Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

उपचुनाव में मध्यप्रदेश में भाजपा ने मारी बाजी, पृथ्वीपुर और जोबट को कांग्रेस से छीना,रैंगाव में भाजपा पर भारी पड़ा भीतरघात

webdunia
webdunia

विकास सिंह

मंगलवार, 2 नवंबर 2021 (16:29 IST)
भोपाल। मध्यप्रदेश उपचुनाव में भाजपा ने जीत हासिल की है। उपचुनाव में भाजपा ने अपनी पारंपरिक सीट खंडवा लोकसभा सीट जीतने के साथ जोबट और पृथ्वीपुर विधानसभा सीट पर भी अपना कब्जा जमाया। इन दोनों सीटों पर भाजपा ने कमल खिलाकर कांग्रेस अभेद दुर्ग में सेंध लगाने के साथ कांग्रेस के पारंपरिक वोट बैंक पर भी सेंध लगा दी है।

बुंदेलखंड से आने वाली पृथ्वीपुर विधानसभा सीट पर भाजपा की जीत कई मायनों में अहम मानी जा रही है। पृथ्वीपुर को कांग्रेस की पांरपरागत सीट मानी जाती थी और अब तक एक बार ही भाजपा यहां जीत हासिल कर सकी थी। इस बार उपचुनाव में भाजपा ने यह सीट कांग्रेस से छीनते हुए बड़ी जीत हासिल की है। भाजपा प्रत्याशी डॉ शिशुपाल यादव ने कांग्रेस उम्मीदवार नितेंद्र सिंह राठौर को करीब 15 हजार वोटों से हरा दिया। 
 
‘वेबदुनिया’ से बातचीत में पृथ्वीपुर विधानसभा के प्रभारी रहे शिवराज सरकार के उद्यानिकी मंत्री भारत सिंह कुशवाह कहते हैं कि पृथ्वीपुर की जीत मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी के नेतृत्व में हासिल हुई एक ऐतिहासिक जीत है। उपचुनाव में पृथ्वीपुर की जनता ने शिवराज सरकार की जनहितैषी योजनाओं और विकास के कार्यो पर मुहर लगाकर कांग्रेस को बुरी तरह नकार दिया है। 
 
वहीं जोबट विधानसभा में भाजपा उम्मीदवार सुलोचना रावत ने 6 हजार वोटों से कांग्रेस प्रत्याशी को मात दे दी। जोबट आदिवासी बाहुल्य वोटरों के बाहुल्य वाली विधानसभा सीट है। जोबट में भाजपा की जीत को इस मायनों में खास है कि यहां पर कई पोलिंग बूथ पर भाजपा आजादी के बाद कभी नहीं जीत सकती थी। 
 
वहीं विंध्य की महत्वपूर्ण सीट रैंगाव विधानसभा सीट पर कांग्रेस ने अपना कब्जा जमा लिया है। कांग्रेस उम्मीदवार कल्पना वर्मा ने भाजपा प्रत्याशी प्रतिमा बागरी को 12 हजार से अधिक वोटों से हरा दिया है। रैंगाव में भाजपा की हार के लिए भितरघात को बड़ा कारण माना जा रहा है। रैंगाव विधानसभा सीट तीस सालों से भाजपा का कब्जा था और इस बार पार्टी ने यहां प्रतिमा बागरी पर अपना दांव लगाया था जिसका विरोध खुलकर पुष्पराज बागरी ने किया था। 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

दिल्ली में बनेगा अयोध्या जैसा राम मंदिर, दीपावली पर केजरीवाल करेंगे सपरिवार पूजन