Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

Ground Report : महंगाई के विरोध में कांग्रेस के बंद का भोपाल में दिखा असर, दोपहर तक बंद रहीं दुकानें

आज फिर बढ़ गए पेट्रोल-डीजल के दाम

webdunia
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp
share
webdunia

विकास सिंह

शनिवार, 20 फ़रवरी 2021 (13:19 IST)
भोपाल। पेट्रोल,डीजल और गैस की बढ़ती कीमतों के विरोध में आज कांग्रेस के मध्यप्रदेश बंद का राजधानी भोपाल में खासा असर दिखाई देने को मिल रहा है। राजधानी के प्रमुख बाजार दोपहर 12 बजे तक बंद दिखाई दिए। राजधानी के न्यू मार्केट, दस नंबर, बिट्टन मार्केट और शाहपुरा इलाके में व्यापारियों ने अपने प्रतिष्ठान नहीं खोले। 
 
‘वेबदुनिया’ की टीम ने राजधानी के प्रमुख बाजारों का जायजा लिया तो अधिकांश जगह दुकानें बंद दिखाई दी। राजधानी भोपाल में बंद को सफल बनाने के लिए पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह सड़क पर उतरे। दिग्विजय सिंह पुराने भोपाल के जिंसी इलाके में दुकानें बंद कराते हुए दिखाई दिए। 
 
बंद को सफल बनाने के कार्यकर्ताओं के साथ सड़क पर उतरे पूर्व मंत्री पीसी शर्मा को पुलिस ने कार्यकर्ताओं के साथ हिरासत में ले लिया। पूर्व मंत्री अपने समर्थकों के साथ राजधानी के बिट्टन मार्केट में दुकानें बंद कराने पहुंचे थे जिसके बाद हबीबगंज पुलिस ने पूर्व मंत्री और उनके समर्थक कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया। इस दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं और पुलिस में तीखी नोंकझोंक भी हुई। पुलिस के हिरासत में लिए जाने का विरोध करते हुए पीसी शर्मा ने आरोप लगाया कि पुलिस ने शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया है।  
 
एक ओर कांग्रेस ने आज जिस पेट्रोल,डीजल के  दामों में बढ़ोत्तरी के विरोध में बंद किया उसके दाम आज फिर बढ़ गया। राजधानी भोपाल में पेट्रोल सेंचुरी से एक कदम दूर 99 रुपए पर पहुंच गया है। वहीं प्रदेश के अनूपपुर,बालाघाट और मंडला में सादा पेट्रोल 100 रुपए के पार बिक रहा है। 
 
पेट्रोल और डीजल के दाम एक साल में 20 रुपए प्रति लीटर बढ़ने से आम आदमी के जेब पर सीधा असर पड़ा है। डीजल के अपने ऑलटाइम हाई स्तर पर पहुंचने के बाद मालभाड़ा बढ़ने के चलते आम आदमी की रोजमर्रा की जरुरतों के सामान के दामों में तेजी से बढोत्तरी हो रही है।
 

Share this Story:
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

webdunia
सीतारमण का उद्योग जगत से नए निवेश के लिए जोखिम उठाने का आह्वान