घोटालों की जांच से शिवराज सिंह चौहान को घेरने की तैयारी में कमलनाथ सरकार

भोपाल। आयकर छापों के बाद मध्यप्रदेश में बदलापुर की सियासत तेज होती दिख रही है। ई टेंडर घोटाले में एफआईआर दर्ज कर शिवराज सिंह चौहान के करीबियों पर शिकंजा कसने के बाद अब कमलनाथ सरकार भाजपा के सबसे बड़े चेहरे शिवराज सिंह चौहान को घेरने की तैयारी कर रही है।
 
आयकर छापों के बाद हरकत में आई कमलनाथ सरकार : प्रदेश में पिछले पंद्रह सालों में भाजपा सरकार के समय हुए घोटालों की फाइल दोबारा खोलकर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को चौतरफा घेरने की तैयारी में है। ई टेंडर मामले में ईओडब्ल्यू ने जल निगम में तीन टेंडरों में गड़बड़ी के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। जल निगम के अध्यक्ष उस वक्त मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ही थे। ऐसे में एफआईआर दर्ज होने के बाद शिवराज सिंह चौहान तक जांच की आंच पहुंच सकती है। ईओडब्ल्यू ई टेंडर घोटाले में उस वक्त शिवराज के करीबी मंत्रियों पर भी शिंकजा कसने की तैयारी में पहले से ही है।
 
इसके साथ माखनलाल यूनिवर्सिटी में नियुक्ति घोटाले और आर्थिक गड़बड़ी के मामले में भी ईओडब्ल्यू अब जांच रिपोर्ट के आधार पर जल्द ही एफआईआर दर्ज कर सकती है। सूत्र बताते हैं कि जांच रिपोर्ट में यूनिवर्सिटी में पिछले आठ सालों में विभिन्न पदों पर भर्ती मामले में बड़ी गड़बड़ी पाई गई है। ये सभी भर्ती तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के अध्यक्षता वाली महापरिषद की मंजूरी के बाद हुई थी। ऐसे में पूरे मामले में एफआईआर दर्ज होने के बाद जांच की आंच शिवराज सिंह चौहान तक पहुंच सकती है।
 
इसके साथ ही भाजपा सरकार के समय हुए व्यापम घोटाले में कई मामलों की फाइल फिर से खोलने की तैयारी में कांग्रेस सरकार है। आयकर छापों के बाद आरटीआई कार्यकर्ता और व्यापम घोटाले को उजागर करने वाले डॉक्टर आनंद राय ने मुख्यमंत्री कमलनाथ से मिलकर नए सिरे से मामले की जांच करने की मांग की है। जैसे जैसे मध्य प्रदेश में चुनाव की तारीख नजदीक आएगी वैसे वैसे सूबे में भाजपा और कांग्रेस के बीच घोटालों की सियासत और तेज होगी।
 
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और कैबिनेट मंत्री गोविंद सिंह ने शिवराज सिंह चौहान को घोटालेबाजों का सरगना बताकर इसकी शुरुआत भी कर दी है। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहांन ने भी कांग्रेस को चुनौती देते हुए कहा कि कांग्रेस सरकार जो भी जांच करवाना चाहती हो करवा लें। बीजेपी हर जांच का जवाब देने के लिए तैयार है। भाजपा आज आयकर छापों को लेकर विधानसभा स्तर पर प्रदर्शन कर कमलनाथ सरकार को घेरने जा रही है।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

अगला लेख किम जोंग फिर चाहते हैं ट्रंप के साथ शिखर वार्ता, पिछली बार इसलिए रही थी विफल...