2022 के यूपी चुनाव में राम मंदिर पर भाजपा को मिलेगा फायदा : नरेन्द्र गिरि

विकास सिंह

शनिवार, 3 अगस्त 2019 (18:21 IST)
भोपाल। अयोध्या मामले में 6 अगस्त से सुप्रीम कोर्ट के रोज सुनवाई के फैसले को लेकर अब इस मामले के हल निकलने की आस बंध गई है। 30 सालों से जारी इस विवाद को हल करने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने रोज सुनवाई का निर्णय लिया है, उसके बाद यह उम्मीद जताई जा रही है कि नवंबर तक इस मामले पर कोई अंतिम फैसला आ सकता है।
 
राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले आने के दूसरे दिन उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अयोध्या दौरे को लेकर सियासी सरगर्मी तेज हो गई है। राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अयोध्या दौरे को लेकर 'वेबदुनिया' के पॉलिटिकल एडिटर ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरि से खास बातचीत की।
 
प्रश्न : अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के रोज सुनवाई के फैसले को आप किस नजरिए से देखते हैं?
 
उत्तर : अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट का यह एक अच्छा फैसला है। पहले ही मध्यस्थता पैनल के चक्कर में बहुत समय बर्बाद हो चुका है। पूरे मामले पर रोज सुनवाई के बाद अब जो भी सुप्रीम कोर्ट निर्णय करेगा, वह सबको मान्य होगा। हम सबको विश्वास है कि सुप्रीम कोर्ट से फैसला राम मंदिर के पक्ष में ही आएगा, क्योंकि सब कुछ राम मंदिर के पक्ष में ही है।
 
प्रश्न : पूरे मामले को हल करने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने जो मध्यस्थता पैनल बनाया था, वह क्यों सफल नहीं हुआ?
 
उत्तर : देखिए, मध्यस्थता पैनल में जो भी लोग थे, वे बाहरी थे। पैनल में ऐसे लोग शामिल थे, जो लोग अयोध्या को न तो जानते थे और न ही पहचानते थे। इसके साथ ही पैनल के सदस्य अयोध्या के लोगों और इस पूरे मामले में पक्षकारों को भी नहीं जानते थे, तो उनकी बात कौन मानेगा? इसलिए मध्यस्थता की कोशिश नाकाम हुई। मेरे हिसाब से मध्यस्थता पैनल में स्थानीय लोग जो जिनका प्रभाव था और धर्मगुरुओं को रखा जाना चाहिए था।
 
प्रश्न : क्या आपको नहीं लगता कि राम मंदिर को लेकर अब राजनीतिक लाभ लेने की कोशिश की जा रही है?
 
उत्तर : पहली बात तो यह है कि अयोध्या में राम मंदिर का मुद्दा शुद्ध रूप से संतों का है और राम मंदिर पर जो हमारा समर्थन करेगा, हम उसका समर्थन करेंगे। भाजपा राम मंदिर का समर्थन कर रही है, तो संत समाज उसके साथ है।
 
प्रश्न : यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अयोध्या में राम की भव्य प्रतिमा स्थापित करने और उनके दौरे को आप किस तरह देखते हैं?
 
उत्तर : देखिए, अयोध्या से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का बचपन से खास लगाव है। योगीजी हमेशा अयोध्या के विकास के बारे में सोचते हैं और उसके लिए जरूरी प्रबंध करते हैं। वे अयोध्या के बारे में सोचते हैं। जहां तक अयोध्या में भव्य राम मंदिर प्रतिमा स्थापित करने का सवाल है, तो यह मुख्यमंत्रीजी का एक स्वागतयोग्य कदम है।
 
प्रश्न : अयोध्या मामले में अब टाइमिंग को लेकर भी सवाल उठने लगे है, इस पर आपका क्या कहना है?
 
उत्तर : देखिए, लोग क्या कहते हैं, इस पर नहीं जाइए। यह पूरा मामले सुप्रीम कोर्ट में है और अब सुप्रीम कोर्ट ने ही इस पर रोज सुनवाई का फैसला किया है। सुप्रीम कोर्ट का फैसला कभी भी आ सकता है, इसको चुनाव से नहीं जोड़ा जा सकता है। कोर्ट का जो भी फैसला आएगा, वह सभी पक्षों को मान्य होगा।
 
प्रश्न : 2022 के विधानसभा चुनाव में क्या भाजपा को इसका लाभ मिलेगा?
 
उत्तर : मैंने पहले ही कहा कि जो राम मंदिर का समर्थन करेगा, उस पार्टी को इसका लाभ मिलेगा ही और भाजपा इसका समर्थन कर रही है।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख 50 घंटों की मुठभेड़ में 2 आतंकी ढेर, 1 जवान शहीद, 1 प्रवासी श्रमिक भी मारा गया