मध्यप्रदेश का 'लाल' अश्विनी काछी भी पुलवामा में शहीद, पिता बोले खून का बदला खून से ले मोदी सरकार

भोपाल। पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आतंकी हमले में मध्यप्रदेश का एक जांबाज लाल भी शहीद हो गया। जबलपुर के सिहोरा तहसील के खुडावल गांव के रहने वाले अश्विनी कुमार काछी सीआरपीएफ की 35वीं बटालियन में तैनात थे।

अश्विनी चार साल पहले 2014-15 में सीआरपीएफ की 35वीं बटालियन में भर्ती हुए थे। ट्रेनिंग के बाद शहीद अश्विनी की पहली पोस्टिंग 2017 में श्रीनगर में हुई थी। परिवार में सबसे छोटे अश्विनी को बचपन से ही सेना में जाने का जुनून था। अश्विनी चार भाइयों में सबसे छोटे थे। देर रात प्रशासन ने अश्विनी कुमार काछी के परिजनों को शहीद होने की सूचना दी।

जिसके बाद पुलिस प्रशासन के आला अधिकारी भी शहीद के घर पहुंचे। अश्विनी के बुजुर्ग पिता अपने जवान बेटे के शहीद होने की खबर के बाद बेसुध हैं। पूरे गांव में शोक का माहौल है। शहीद के पिता और गांववालों की मांग है कि सरकार अब खून का बदला खून से ले।

कांग्रेस सांसद विवेक तन्‍खा ने अश्विनी कुमारी की शहादत पर ट्वीट कर उनका नमन किया। विवेक तन्‍खा ने ट्वीट कर लिखा कि पुलवामा में शहीद हुए मध्यप्रदेश और जबलपुर के सपूत अश्विनी काछी की शहादत को मेरा नमन! अश्विनी की शहादत से हमारी आंखें नम और मस्तक गर्व से ऊंचा है। हम सब इस कठिन घड़ी में अश्विनी के परिवार के साथ खड़े हैं!

बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने भी ट्वीट कर लिखा, Pulwama के कायराना आतंकी हमले में जबलपुर जिले के सपूत अश्विनी कुमार काछी भी शहीद हुए हैं, भारत माता के लिए उनके सर्वोच्च बलिदान को हम कभी नहीं भुला सकेंगे। उनके श्रीचरणों में मेरा शत-शत नमन..।

अश्विनी की शहादत की खबर सुनते ही आसपास से सैकड़ों की संख्या में लोग खुडावल गांव पहुंच रहे हैं।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

अगला लेख यह है पुलवामा आतंकी हमले का 'पाकिस्तान कनेक्शन', अमेरिकी विशेषज्ञों ने आईएसआई पर उठाए सवाल