मध्यप्रदेश : कमलनाथ के 28 विधायक बने मंत्री, तुलसी, सज्जन, जीतू भी बने मंत्री

मंगलवार, 25 दिसंबर 2018 (15:10 IST)
मध्यप्रदेश के कमलनाथ मंत्रिमंडल में मंगलवार को 28 विधायकों को मंत्री पद की शपथ दिलाई गई। राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने विधायकों को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। इनमें इंदौर के राऊ से विधायक जीतू पटवारी, सांवेर के विधायक तुलसी सिलावट और सोनकच्छ के विधायक सज्जनसिंह वर्मा भी शामिल हैं।
 
कमलनाथ ने मालवा और निमाड़ क्षेत्र को ज्यादा महत्व देते हुए 8 विधायकों को मंत्री बनाया है जबकि विंध्य क्षेत्र से दो ही विधायक मंत्री बनने में सफल रहे। इनमें एक निर्दलीय, तीन महिलाएं और एक मुस्लिम को मंत्री बनाया गया है। 15 विधायक ऐसे हैं, जो पहली बार मंत्री बने हैं, जबकि कांग्रेस से पहली बार विधायक बने 55 नए चेहरों में से किसी को भी मंत्रिमंडल में जगह नहीं दी गई।
सुरेन्द्रसिंह बघेल को मंत्री पद की शपथ दिलाई गई। बघेल धार जिले की कुक्षी सीट से विधायक बने हैं। इन्हें दिग्विजयसिंह का करीबी माना जाता है।
जबलपुर से विधायक लखन घनघोरिया ने मंत्री पद की शपथ ली। 
महेन्द्रसिंह सिसोदिया को मंत्री पद की शपथ दिलाई गई। दूसरी बार विधायक बने सिसोदिया (बमोरी सीट) को ज्योतिरादित्य सिंधिया का करीबी माना जाता है।
पीसी शर्मा को मंत्री पद की शपथ दिलाई गई। शर्मा भोपाल उत्तर सीट से विधायक चुने गए हैं। 
ग्वालियर से विधायक बने प्रद्युम्नसिंह तोमर को मंत्री पद की शपथ दिलाई गई। तोमर ने भाजपा के दिग्गज नेता जयभानसिंह पवैया को चुनाव हराया था। 
कसरावद से विधायक बने सचिन सुभाष यादव को मंत्री पद की शपथ दिलाई गई। सचिन कांग्रेस नेता अरुण यादव के छोटे भाई हैं। 
इंदौर की राऊ सीट से विधायक और मध्यप्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष जीतू पटवारी को मंत्री पद की शपथ दिलाई गई। पटवारी को दिग्विजयसिंह और राहुल गांधी का करीबी माना जाता है।  
दिग्विजयसिंह के पुत्र जयवर्धनसिंह को मंत्री पद की शपथ दिलाई गई। राघौगढ़ विधानसभा सीट से दूसरी बार विधायक बने हैं सिंह। 
हर्ष यादव को मंत्री पद की शपथ दिलाई गई। 
कमलेश्वर पटेल को मंत्री पद की शपथ दिलाई।
खिलचीपुर से विधायक प्रियव्रतसिंह को मंत्री पद की शपथ दिलाई गई। 
मुलताई से विधायक सुखदेव पांसे को मंत्री पद की शपथ दिलाई।
कांग्रेस दिग्गज नेता रहीं स्व. जमुनादेवी के भतीजे उमंग सिंघार को मंत्री पद की शपथ दिलाई गई। तीसरी बार विधायक बने उमंग आदिवासी नेता हैं।
गोविंदसिंह राजपूत ने मंत्री पद की शपथ ली। 
श्रीमती इमरती देवी ने मंत्री पद की शपथ ली। डबरा सीट से विधायक बनी हैं इमरती देवी।
आदिवासी नेता ओंकारसिंह मरकाम को मंत्री पद की शपथ दिलाई गई।  
सांची से विधायक बने प्रभु चौधरी को मंत्री पद की शपथ दिलाई। चौधरी ने पूर्व मंत्री गौरीशंकर शेजवार के बेटे मुदित को हराया था। 
महेश्वर विधानसभा सीट से विधायक बनीं विजयलक्ष्मी साधौ ने मंत्री पद की शपथ ली। 
सोनकच्छ सीट से विधायक बने सज्जनसिंह वर्मा ने मंत्री पद की शपथ ली। वर्मा को मुख्‍यमंत्री कमलनाथ का करीबी माना जाता है।
शाजापुर से कांग्रेस विधायक हुकमसिंह कराड़ा ने मंत्री पद की शपथ ली।
इंदौर जिले की सांवेर सीट से विधायक चुने गए तुलसीराम सिलावट को मंत्री पद की शपथ दिलाई गई। 
लाखनसिंह यादव को मंत्री पद की शपथ दिलाई गई।
प्रदीप जायसवाल ने मंत्री पद की शपथ ली।
भिंड जिले की लहार सीट से विधायक डॉ. गोविंदसिंह को मंत्री पद की शपथ दिलाई गई। सिंह को दिग्विजयसिंह का करीबी माना जाता है वे सातवीं बार विधायक बने हैं।
राजपुर से विधायक बाला बच्चन ने मंत्री पद की शपथ ली। इससे पहले बच्चन विधानसभा उपाध्यक्ष रह चुके हैं। कमलनाथ के करीबी माने जाने वाले बाला बच्चन पांचवीं बार विधायक बने हैं।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

अगला लेख शिवराजसिंह को सिमी से खतरा, मिला जेड प्लस सुरक्षा कवच