महात्मा गांधी के बारे में ये 10 बातें, बेशक आप नहीं जानते होंगे

बचपन से हम स्कूल की किताबों में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के बारे में पढ़ते आए हैं, अत: उनके बारे में सामान्य जानकारी हर कोई जानता है। लेकिन गांधी जी से जुड़ी ऐसी कई बातें हैं, जो हर किसी को जरूर पता होनी चाहिए, लेकिन आज भी कई लोग नहीं जानते। गांधी जी के बारे में नीचे बताई जा रही ये 10 जानकारी, आप शायद ही जानते हों -  
 
1 ये तो सभी जानते हैं कि गांधी जी का विवाह मात्र 13 साल की उम्र में हुआ था। लेकिन शायद आप यह नहीं जानते होंगे कि  गांधी जी की शादी उनसे एक साल बड़ी कस्तूरबा गांधी के साथ हुई थी, और शादी की प्रथाओं को पूरा करने में उन्हें पूरा एक साल लगा। और इसी कारण से वह एक साल तक स्कूल नहीं जा पाए थे। 
 
2 उन्होंने सदैव अहिंसा को महत्व दिया, लेकिन इसकी शुरुआत कैसे हुई ये कम ही लोग जानते हैं। गांधी जी ने दक्ष‍िण अफ्रीका प्रवास के दौरान 1899 के एंग्लो बोएर युद्ध में स्वास्थ्यकर्मी के तौर पर मदद की थी। वहीं, उन्होंने जब युद्ध की वि‍भिषिका देखी थी और अहिंसा के रास्ते पर चल पड़े थे।
 
3 अहिंसा की बात निकली है, तो आपको बता दें कि शांति का नोबेल पुरस्कार गांधी जी को अब तक नहीं मिला है। जी हां, हालांकि उन्हें कुल 5 बार अभी तक इसके लिए नॉमिनेट जरूर किया गया है।
 
4 महात्मा गांधी ने जिस देश से भारत को आजादी दिलाने के लिए उन्होंने लड़ाई लड़ी, उसी ने उनके सम्मान में डाक टिकट जारी किया। जी हां, हम बात कर रहे हैं ब्रिटेन की। ब्रिटेन ने उनके निधन के 21 साल बाद उनके नाम से डाक टिकट जारी किया।
 
5 गांधी ने साउथ अफ्रीका के डर्बन, प्रिटोरिया और जोहांसबर्ग में कुल तीन फुटबॉल क्लब स्थापित करने में मदद की थी।
 
भारत में छोटी सड़कों को अगर छोड़ दिया जाए, तो देश में कुल 53 बड़ी सड़कें महात्मा गांधी के नाम पर हैं। सिर्फ देश ही नहीं बल्कि विदेश में भी कुल 48 सड़कों के नाम महात्मा गांधी के नाम पर हैं।
 
गांधी जी द्वारा शुरु किया जाने वाला जो सिविल राइट्स आंदोलन था, वह कुल 4 महाद्वीपों के अलावा कुल 12 देशों तक पहुंचा था।
 
8 दिल्ली के '5, तीस जनवरी मार्ग' पर महात्मा गांधी ने अपनी जिंदगी के अंतिम 144 दिन बिताए थे। और इसी जगह 30 जनवरी 1948 को उनकी हत्या कर दी गई। लेकिन यातायात के हल्के शोर के बावजूद आज भी यहां की शांति भंग नहीं हुई है।
 
9 महात्मा गांधी की जब हत्या हुई तो उनकी शवयात्रा में कितने लोग शामिल हुए, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उनकी शव यात्रा 8 किलोमीटर लंबी थी।
 
10 सफेद धोती पहने गांधीजी पर तीन बार गोलियां दागी गईं, लेकिन आसपास मौजूद लोगों को उस वक्त भी इसका पता नहीं चला। उन्हें गोली लगने का पता तब चला जब उनकी सफेद धोती पर खून के धब्बे नजर आने लगे।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

अगला लेख नेशनल बेसिक इनकम : जानिए, दुनिया के बाकी देशों में क्या है स्थिति...