Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

चम्बा चले गए तो लौटने का मन नहीं करेगा, पहाड़ों का हुस्न देखते रह जाओगे

हमें फॉलो करें webdunia

अनिरुद्ध जोशी

हिल स्टेशन को मनोरम पहाड़ी इलाका कहते हैं। भारत में पहाड़ियों की विशालतम, लंबी, सुंदर और अद्भुत श्रृंखलाएं हैं। एक और जहां विध्यांचल, सतपुड़ा की पहाड़ियां है, तो दूसरी ओर आरावली की पहाड़ियां। कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक भारत में एक से एक शानदार पहाड़ हैं, पहाड़ों की श्रृंखलाएं हैं और सुंदर एवं मनोरम घाटियां हैं। गर्मियों में यहां पर घूमने बहुत ही यादगार और शानदार होता है। यदि आप हनीमून मनाने के सोच रहे हैं तो हमारे बताए गए हि स्टेशननों में से किसी एक पर जरूर जाएं। आओ इस बार जानते हैं भारत के टॉप हिल स्टेशनों में से एक चंबा हिल स्टेशनन के बारे में रोचक जानकारी।
 
 
1. हिमाचल के सबसे मखमली अनछुई हरियाली वाले शहर चम्बा घूमने गए तो लौट कर आने का मन नहीं करेगा। यह जगह, सुरम्य और सफेद घाटियों के बीच स्थित है।
 
2. उत्तराखंड के मसूरी से मात्र 13 घंटे की दूरी पर बसा है चंबा। यह टिहरी, मसूरी, उत्तरकाशी जाने वाले रास्तों के बीच में पड़ता है। पंजाब के अमृतसार शहर से ट्रेन द्वारा आप यहां जा सकते हैं। अमृतसर से 250 किलोमीटर का ही रास्ता है।
 
3. चंबा की सीढ़ीनुमा सड़कें और ऊंचे-ऊंचे वृक्षों से लदी घुमावदार घाटियां, झुरमुटों में छुपे छोटे-छोटे घर आपके मन को मोह लेंगे। 
 
4. यहां का मौसस तो वर्षभर खुशनुमा रहता है और वातावरण तो ऐसा कि एक बार कोई चला जाए तो आसानी से वापस आने का मन न हो।
 
5. चम्बा शहर और गांव में देखने लायक है खुंडी मराल डल, गंडासरू डल, गंडासरू महाकाली डल, पदरी जोत, झुमार घाटी, तलेरू, चमेरा झील, खाजियार, चंबा चौगान, भांदल घाटी, भरमौर और पंजपुला जैसे प्राकृतिक स्थान है जो दूसरी ओर चौरासी मंदिर, हरीराय मंदिर, चामुंडा मंदिर, चंपावती मंदिर, लक्ष्मीनारायण मंदिर आदि कई मंदिर है। 
 
6. यह शहर कई छोटे-छोटे गांवों से बना हुआ है। चम्बा जाकर आप ग्रामीण रहन सहन का भी आनंद ले सकते हैं।
 
7. यहां पर ठहरने का खर्च अन्य शहरों की अपेक्षा बहुत कम है, जिससे पर्यटक यहां पर ठहरना पसंद करते हैं। 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

फूफा पर चटपटा निबंध : फूफाओं पर हंसिए मत...